लिवर में फैट जमने से आपको हो सकती हैं गंभीर बीमारियां, जानें कैसे करें बचाव

लिवर की बीमारियों से ऐसे करें बचाव...

67

फैटी लीवर की समस्या अल्कोहलिक यानी शराब पीने वालों में देखने को मिलती है या फिर यह मोटापे के कारण होता है। मोटापे के कारण होने वाले फैटी लीवर को नैश बोलते हैं। यानी नॉन अल्कोहलिक स्टेट ऑफ हेपेटाइटिस। 

जिस तरह मोटे होने पर हमारे शरीर के बाकी हिस्सों पर चर्बी चढ़ जाती है, ठीक उसी तरह हमारे लिवर में भी चर्बी जमा होनी शरू हो जाती है। ऐसी स्थिति में लिवर में एकत्रित हुआ फैट लिवर के नॉर्मल सेल्स को खत्म करना शुरू कर देता है।

लिवर हमारे शरीर का दूसरा सबसे बड़ा और सबसे ज्यादा जटिल अंग है। यह हमारे पाचन तंत्र का एक प्रमुख अंग हैं। हम जो कुछ भी खाते या पीते हैं, वह लिवर से होकर ही गुजरता है। हमारा लिवर अनेक जटिल कार्य करता है। यह संक्रमण और बीमारियों से लड़ता है, हमारे रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है। हमारे शरीर से विषैले तत्व को बाहर निकालता है, कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है। रक्त के जमने में सहायता करता है और बाइल का स्त्राव करता है। बाइल एक प्रकार का द्रव होता है जो फैट को ताड़ता है और उसे हमारे पाचन में शामिल करता है। यही कारण है कि बिना लिवर के हम जीवित नहीं रह सकते हैं। यह हमारे शरीर का एक ऐसा अंग है जिसके उचित देखभाल की जरूरत हमेशा पड़ती है। ऐसा न होने पर यह बेहद आसानी से क्षतिग्रस्त हो सकता है। लेकिन आजकल की बदलती जीवनशैली के कारण हमारे लिवर के बीमार होने की आशंका बढ़ती जा रही है। यही कारण है कि आज लिवर से जुड़ी कई बीमारियां हमें अपने चपेट में लेने लगी हैं। इन बीमारियों में प्रमुख है फैटी लिवर की समस्या। लेकिन जीवनशैली में बदलाव लाकर इस बीमारी से बचा जा सकता है। एक नजर फैटी लिवर और इससे जुड़े हुए तथ्यों पर।

क्या है फैटी लिवर

नई दिल्ली स्थित हेल्दी ह्युमन क्लीनिक के सेंटर फॉर लीवर, किडनी ट्रांसप्लांट के डायरेक्टर एवं एचओडी डा. रविंदर पाल सिंह मल्होत्रा का कहना है कि हमारे लिवर में जब चर्बी जमा हो जाती यह ऐसी स्थिति फैटी लिवर कही जाती है। इसे ऐसे समझा जा सकता है। जिस तरह मोटे होने पर हमारे शरीर के बाकी हिस्सों पर चर्बी चढ़ जाती है, ठीक उसी तरह हमारे लिवर में भी चर्बी जमा होनी शरू हो जाती है। ऐसी स्थिति में लिवर में एकत्रित हुआ फैट लिवर के नॉर्मल सेल्स को खत्म करना शुरू कर देता है। नॉर्मल सेल्स के धीरे-धीरे कर खत्म होने और लीवर में फैट जमा होने के कारण लीवर बीमार हो जाता है। यह स्थिति आगे चलकर हेपेटाइटिस, सिरोसिस, फाइब्रोसिस और कैंसर में भी बदल सकती है।

डॉ. आर पी सिंह
डॉ. आर पी सिंह

कारण/रिस्क फैक्टर

इस बीमारी के होने का मुख्य कारण मोटापा है। यहां मोटापा होने के कारणों को भी जानना जरूरी है, तभी इस बीमारी को कंट्रोल किया जा सकता है। बहुत ज्यादा खाना, जंक फूड ज्यादा खाना, बैलेस्ड डाइट नहीं लेना, एक्सरसाइज नहीं करना आदि कारणों से हमारे शरीर में फैट जमा होने लगता है और हम मोटे हो जाते हैं। इसके अलावा, डायबिटीज होने पर भी फैटी लीवर की समस्या हो सकती है। सच तो यह है कि डायबिटीज के कारण फैटी लीवर होने के मामले ज्यादा देखने को मिलते हैं। इतना ही नहीं, थॉयरायड होने पर भी फैटी लिवर का खतरा बढ़ जाता है। डा. रविंदर पाल सिंह मल्होत्रा का कहना है कि फैटी लीवर एक ही प्रकार का होता है, लेकिन इसकी अवस्था अलग-अलग होती है।

फैटी लीवर की समस्या अल्कोहलिक यानी शराब पीने वालों में देखने को मिलती है या फिर यह मोटापे के कारण होता है। मोटापे के कारण होने वाले फैटी लीवर को नैश बोलते हैं। यानी नॉन अल्कोहलिक स्टेट ऑफ हेपेटाइटिस। इसकी दूसरी अवस्था को एैश यानी अल्कोहलिक स्टेट ऑफ हेपेटाइटिस कहते हैं। यानी शराब पीने के कारण जिन लोगों को फैटी लीवर की प्रॉब्लम होती है। इसकी तीसरी अवस्था वह होती है या उन लोगों में होती है जो कैंसर होने पर कीमोथेरेपी ट्रीटमेंट लेते हैं। चूंकि इस तरह का इलाज कराने से लिवर डैमेज होता है और उसमें फैट डिपॉजिशन होता शुरू हो जाता है। इस अवस्था को कैश कहते हैं। तो इस प्रकार फैटी लिवर की कुल तीन अवस्थाएं होती हैं। नैश, ऐश और कैश ।

लक्षण

आमतौर पर एशियाई लोगों में फैटी लीवर के शुरुआती लक्षण पता नहीं चल पाते हैं। असल में लिवर की जो सबसे बड़ी खासियत है और इसकी जो सबसे बड़ी समस्या है वह यह कि जब तक यह 80 प्रतिशत तक क्षतिग्रस्त नहीं हो जाता, तब तक इसके लक्षण दिखाई नहीं देते हैं और जब तक लक्षण दिखाई देते हैं, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है और फैटी लीवर की वजह से दूसरी गंभीर बीमारियां रोगी को हो चुकी होती हैं। ज्यादातर मामलों में फैटी लीवर की पहचान तब हो पाती है जब वह सिरोसिस में बदल चुका होता है।

लेकिन अगर किसी कारणवश मरीज डॉक्टर के पास जाता है और अपना रूटीन हेल्थ चेकअप करा लेता है तो इसका पता चल सकता है, नहीं तो लेट स्टेज में ही इसका पता चलता है। वैसे पीलिया, भूख न लगना, पेट के अंदर पानी भर जाना आदि फैटी लीवर के ही लक्षण होते हैं। फैटी लीवर के एडवांस स्टेज में पहुंच जाने पर मरीज के दिमाग पर भी असर पड़ने लगता है, उसका दिमाग काम नहीं करता है, मरीज अपना होश खोने लगता है। उसे खून की उल्टियां होने लगती है। ये सारे लक्षण फैटी लीवर के ही होत हैं। फैटी लीवर टेस्ट दो प्रकार का होता है। नॉन इनवैसिव टेस्ट और इन वैसिव टैस्ट।

नॉन इनवैसिव टेस्ट: इस जांच में रोगी का रूटीन चेकअप किया जाता है। इसे दौरान सबसे पहले रोगी के मोटापे की जांच होती है कि रोगी कितना मोटा है यानी उसका बीएमआई यानी बॉडी मास इंडेक्स कितना है। इसके अलावा रोगी की हिस्ट्री पता की जाती है कि उसे डायबिटीज या थायरॉयड की प्रॉब्लम तो नहीं है। इसके लिए डायबिटीज और थायरॉयड की जांच की जाती है। इसके अतिरिक्त लीवर फंक्शन टेस्ट होता है। लीवर फंक्शन टेस्ट के अंतर्गत बिलिरुबीन टेस्ट, लीवर एंजाइम्स एसजीओटी, एसजीपीटी के टेस्ट होते हैं। रोगी का लिपिड प्रोफाइल भी किया जाता है। इसके अलावा अल्ट्रासाउंड किया जाता है। इससे लीवर की एकदम सही स्थिति पता चल जाती है।

अगर फैटी लीवर काफी एडवांस स्टेज में पहुंच चुका है, रोगी को फाइब्रोसिस हो चुका है तो इस स्थिति में रोगी का फाइब्रोस्कैन किया जाता है। यह फाइब्रोस्कैन एक खास तरह के उपकरण के द्वारा किया जाता है। इस जांच से यह पता चल जाता है कि लीवर में कितना स्कार टिश्यू विकसित हो चुका है यानी लीवर कितना चोटिल हो चुका है। रोगी का फाइब्रोसिस और सिरोसिस किस अवस्था तक पहुंच चुका है। उपरोक्त सभी जांच से यह पता चल जाता है कि फैटी लीवर किस स्टेज तक पहुंच चुका है। ये सभी टेस्ट इंटर-रिलेटेड होते हैं। यानी ये सभी जांच एक-दूसरे से संबंधित होते हैं।

इनवैसिव टेस्ट:

इन सभी जांच के अलावा, यह सुनिश्चित करने के लिए कि रोगी के लीवर में फैट की कितनी मात्रा जमा हो चुकी है और फैटी लिवर किस स्टेज तक पहुंच चुका है, पेशेंट की लिवर बायोप्सी की जाती है। यह फाइनल टेस्ट है। इसे इनवैसिव टेस्ट बोलते हैं, क्योंकि इस टेस्ट के लिए लीवर के अंदर नीडिल डाली जाती है और उसके बाद लिवर की जांच की जाती है।

ट्रीटमेंट

इस बीमारी के ट्रीटमेंट के तहत सबसे पहले रोगी से मोटापे को कम करने को कहा जाता है और जितने भी रिस्क फैक्टर्स हैं उन्हें कम करने को कहा जाता है। जैसे अगर डायबिटीज है तो उसे कंट्रोल करने ही जरूरत होती है। थायरॉयड अगर अनकंट्रोल्ड है तो उसे कंट्रोल करने को कहा जाता है। मोटापा कम करने के लिए रोगी को डाइट सुधारने और एक्सरसाइज करने की सलाह दी जाती है। अर्ली स्टेज में फैटी लीवर का पता लग जाने पर इन सभी उपायों को अपनाने से लीवर में फैट की मात्रा कम हो जाती है। और अगर इन सभी उपायों को अपनाने के बाद भी फैट की मात्रा कम नहीं होती है तो फिर पेशेंट को दवाई दी जाती है। वहीं, लेट स्टेज में बीमारी का पता चलने पर यानी सिरोसिस या कैंसर की स्टेज में पता चलने पर लीवर ट्रांसप्लांट करना होता है। 

यह भी पढ़ें: क्या है एवैस्कुलर नेकरोसिस? जिसकी वजह से होती है हड्डियों की गंभीर बीमारी

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी