अलग आइडिया है पर पैसा नहीं है? तुरंत जुड़ें युवराज की कंपनी से...

- यू वी कैन वेंचर्स तैयार है नई स्टार्टअप को सहयोग के लिए - चालीस से पचास करोड़ लगाने की है योजना - लंबे समय तक इस क्षेत्र में सहयोग का है इरादा

0

भारत में पिछले कुछ वर्षों में कई नई कंपनियों ने शुरुआत की। इनमें ऑनलाइन कंपनियों की संख्या बहुत ज्यादा है। इन कंपनियों ने न केवल अच्छी शुरुआत की बल्कि बहुत ही कम समय में अच्छा करके भी दिखाया और खूब तरक्की प्राप्त की है। साथ ही लोगों को यह सोचने का मौका भी दिया कि जो लोग रचनात्मक हैं, जिनके अंदर मेहनत और लगन है वो कम पैसों के साथ भी नई चीज़ें खड़ी कर सकते हैं। कुछ नया करके दिखा सकते हैं। लोगों को कई तरह की नई सेवाएं भी दे सकते हैं। इसी कारण हर कोई इन नई कंपनियों में रुचि दिखा रहा है। स्मार्ट फोन के विस्तार के साथ ही इन कंपनियों को और बल मिला। आने वाले कुछ वर्षों में इन कंपनियों के और विस्तार होने की उम्मीद है। आंकड़ें बताते हैं कि भारत की कुल आबादी में से लगभग सौ मिलियन लोग ऑनलाइन लेन-देन कर चुके हैं। यह आंकड़ा आने वाले वर्षों में बहुत तेजी से बढ़ रहा है। इतना बड़ा आंकड़ा किसी भी उद्योग के विस्तार को बताने के लिए काफी है। यही कारण है कि इस समय सबसे ज्यादा ऑनलाइन स्टार्टअप कंपनियां सामने आ रही हैं।

क्रिकेट स्टार युवराज सिंह भी अब अपने 'यू वी कैन' वेंचर के साथ इन स्टार्टअप कंपनियों को सहयोग करने के लिए तैयार हैं। यूवी कैन का उद्देश्य अगले तीन से पांच सालों में चालीस से पचास करोड़ रुपए ऐसी ही नई कंपनियों में लगाने का है। युवराज इन नए उद्यमियों को यह भरोसा दिलाना चाहते हैं कि यदि उनके पास कुछ नया करने की क्षमता है। जज्बा है। नए आइडियाज़ हैं और वह कुछ नया करने का लक्ष्य रखते हैं तो यूवी कैन हमेशा उनके साथ है। और वे हर तरह से इन नए उद्यमियों को सहयोग करने के लिए तैयार हैं। किसी भी नई कंपनी के लिए उसकी मार्केटिंग को बढ़ाने के लिए यदि युवराज सिंह का नाम मिल जाए तो निश्चित तौर पर उसे बहुत फायदा मिलेगा। इसके अलावा युवराज के पास एक पूरी टीम है जिसमें तकनीकी लोग, मैनेजमेंट सलाहकार और विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ मौजूद हैं और सबसे बड़ी बात युवराज सिंह की इस क्षेत्र में काफी लंबे समय तक रहने की योजना है। इसके अलावा युवराज सिंह ने अपने कई मित्रों और जानने वालों से भी बात की है। वे लोग भी ढ़ाई सौ से तीन सौ करोड़ रुपए लगाने के लिए तैयार हैं। यह किसी भी नई स्टार्टअप के लिए बहुत अच्छी खबर है।

2011 में युवराज सिंह को कैंसर का इलाज कराना पड़ा था युवराज का अमेरिका में इलाज हुआ और इस जंग को जीतने के बाद युवराज सिंह ने सितंबर 2012 में इंटरनेशनल क्रिकेट में अपनी वापसी की थी। उन्हें भारत सरकार ने अर्जुन अवार्ड से भी नवाजा जोकि भारत का दूसरा सबसे बड़ा खेल अवार्ड है। इसके अलावा 2014 में उन्हें पद्मश्री भी मिला। युवराज अपनी इस नई पारी में नए नए उद्यमियों को सहयोग करना चाहते हैं। उनके सपनों को पूरा करने में उनकी मदद करना चाहते हैं। छोटी-छोटी नई कंपनियों को एक बड़ा ब्रॉड बनाना चाहते हैं। युवराज के साथ निशांत सिंघल भी हैं जोकि 2010 से उनके बिजनेस सलाहकार हैं। निशांत चार्टेड अकाउंटेंट हैं और उन्हें लगभग 11 सालों का अनुभव है।

अभी तक यू वी कैन ने किसी प्रोजेक्ट पर कोई इंवेस्टमेंट नहीं की है लेकिन चार-पांच नई स्टार्टअप से उनकी बातचीत लगभग अंतिम दौर पर है। यू वी कैन वेंचर्स ऑनलाइन स्टार्टअप में इंवेस्ट करने का इच्छुक है। जिसमें ई-कॉमर्स, हेल्थ केयर, मीडिया, रियल स्टेट आदि क्षेत्र शामिल हैं। जो भी नई कंपनी इनसे जुडऩा चाहती हैं वे इनको मेल कर सकती हैं। इनका मेल आई डी इस प्रकार है - proposal@youwecanventures.com.

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...