ई-कामर्स आय 2016 में पहुंच सकती है 38 अरब डालर: एसोचैम

0

देश का ई-वाणिज्य बाजार 2016 में 38 अरब डालर का हो सकता है। उद्योग को 2015 में 23 अरब डालर की आय हुई थी। उद्योग मंडल एसोचैम ने एक अध्ययन में यह कहा है।

अध्ययन के अनुसार, ‘‘इंटरनेट और मोबाइल की बढ़ती पहुंच, आनलाइन भुगतान की बढ़ती स्वीकार्यता तथा अनुकूल जनकांकीय स्थिति से कंपनियों को अपने ग्राहकों से जुड़ने का अनूठा अवसर मिला है।’’ एसोचैम ने कहा कि आनलाइन खरीद पर आक्रमक तरीके से मिली छूट के साथ खरीद प्रवृत्ति में उल्लेखनीय तेजी देखी गयी, इ’धन की कीमत में वृद्धि तथा व्यापक एवं पर्याप्त विकल्प से 2016 में ई-कामर्स उद्योग पर असर पड़ेगा।

दूसरी ओर ई-कामर्स के स्थिर और सुरक्षित पूरक के रूप में मोबाइल कामर्स :एम कामर्स: तेजी से बढ़ रहा है।

उद्योग मंडल के अनुसार स्मार्टफोन के जरिये आनलाइन खरीदारी पासा पलटने वाला साबित हो रहा है। उद्योग का मानना है कि एम-कामर्स का उनकी कुल आय में 70 प्रतिशत तक योगदान होगा।

अध्ययन में यह भी कहा गया है कि आनलाइन खरीदारी के मामले में मुंबई पहले स्थान पर है। उसके बाद क्रमश: दिल्ली, अहमदाबाद, बेंगलुरू और कोलकाता का स्थान है।


पीटीआई

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...