‘एनफील्ड राइडर्स’ के लिए छोड़ी स्विस बैंक की नौकरी, जोड़ी जुनूनी दोपहिया चालकों की टीम

बलजीत गुजराल काॅलेज के दिनों से ही मोटरसाइकिल से सवारी अभियानों के शौकीन रहे हैंअपने जैसे सफर के दीवानों को एक मंच उपलब्ध करवाने के लिये पत्नी के साथ की ‘एनफील्ड राइडर्स’ की स्थापनाइनके बेड़े में 20 से अधिक राॅयल मोटरसाइकिल हैं और अबतक सफलतापूर्वक 100 अभियानों का कर चुके हैं संचालनकई बड़े व्यापारिक घरानों के उच्च पदों पर काम कर रहे कर्मचारियों के लिये भी आयोजित करते हैं मोटरसाइकिल अभियान

0

अधिकतर मर्दों की तरह मोटरसाइकिलों के प्रति दीवानगी और प्रेम बचपन से ही बलजीत गुजराल के जीवन का एक अभिन्न हिस्सा रहा है। यात्रा के प्रति उत्साह ओर दो पहियों की सवारी करते हुए लगातार नई मंजिलों को तलाशने के जुनून ने उन्हें ‘एनफील्ड राइडर्स’ की स्थापना करने के लिये प्रेरित किया। अपनी मोटरसाइकिल उठाकर कभी भी यात्रा पर निकल जाने के लिये बदनाम बलजीत अपने काॅलेज के दिनों से ही ऐसे अभियानों के शौकीन रहे हैं और अब तो उन्हें यात्रा करते हुए एक दशक से भी अधिक का समय हो चुका है। अपने यात्रा अनुभवों के आधार उन्हें महसूस हुआ कि आज के समय में एक ऐसी संगठित मोटरसाइकिल टूर कंपनी की जरूरत है जो यात्रा अभियानों के दौरान उनकी हर आवश्यकता का ध्यान रख सके और सफर के दौरान सामने आने वाली लाॅजिस्टिक्स, आवास और यात्रिक खराबी इत्यादि जैसी परेशानियों से भी दो-चार होने के लिये तैयार हो। एक संतोषजनक विकल्प की नाकाम तलाश के बाद उन्होंने और 10 वर्षों से भी अधिक से एक शिक्षाविद् के रूप में कार्यरत उनकी पत्नी पूनम ने यात्रा के प्रति इस जुनून को एक नया आयाम देते हुए ‘एनफील्ड राइडर्स’ की स्थापना की। उनका इरादा इसके माध्यम से अपने जैसे जुनूनी यात्रियों को एक साथ लाते हुए दोपहिया सवारी के सुख को आपस में साझा करने का था। इनके बेड़े में 20 से अधिक राॅयल एनफील्ड मोटरसाइकिलें है और अबतक यह टीम 100 से अधिक यात्रा अभियानों का सफल आयोजन कर चुकी है। हमने इस कंपनी और यात्रा के इस जुनून के बारे में और अधिक जानने के लिये बलजीत से संपर्क कियाः

वाईएसः आपने शुरुआत कैसे की? आप क्या सेवाएं उपलब्ध करवा रहे हैं?

बलजीतः एकफील्ड राइडर्स की स्थापना अप्रैल 2012 में हुई। शुरुआत में हमनें अपनी व्यक्तिगत बचत में से दो मोटरसाइकिल खरीदीं। उस समय हमारे पास संसाधनों की बेहद कमी थी इसलिये हमें अपनी कवर्ड पार्किंग को एक गेराज का रूप देना पड़ा जहां इन मोटरसाइकिलों को खड़ा किया जाता और इनकी मरम्मत की जाती। हमने विशुद्ध रूप से मोटरसाइकिल किराये पर देने से शुरुआत की थी और आज हम 4 प्रमुख कार्यक्षेत्रों में सक्रिय हैं। हम अब भी बाइक किराये पर देने के अलावा मोटरसाइकिल यात्रा अभियानों की अगुवाई करते है। इसके अलावा हम एनफील्ड बाइकों का एक मरम्मत घर (गैराज) संचालित करने के साथ-साथ यात्री कैफे का भी सफल संचालन कर रहे हैं। एनफील्ड राइडर्स के माध्यम से हम ऐसी सेवाएं प्रदान करते हैं जो सड़क के रास्ते नई मंजिलों की तलाश में निकले मोटरसाइकिल उत्साहियों, साहसिक छुट्टियों पर निकले यात्रियों और खोजकर्ताओं की उनके सफर में मदद करती हैं। अपनी स्थापना के दो वर्षों के भीतर ही हमें साहसिक यात्राओं की शौकीन बिरादरी में एक अद्भुत प्रतिक्रिया मिली है ओर अब हमें सफर के शौकीन एकल सवारों, जोखिम उठाने को तैयार युगलों, बड़े समूहों और कंपनियों का समर्थन मिल रहा है। यह लोग हमारे साथ विभिन्न मोटरसाइकिल अभियानों के तहत लद्दाख, उत्तर पूर्व, भूटान, थाईलैंड इत्यादि का यात्रा का आनंद उठा रहे हैं।

वाईएसः बीतो दो वर्षों में आपने कितनी तरक्की की है?

बलजीतः जब हमने वर्ष 2012 में इस क्षेत्र में कदम रखा था तब हम सिर्फ किराये पर मोटरसाइकिल देने के काम तक ही सीमित थे। 2012 में हमारे पास सिर्फ 2 राॅयल एनफील्ड थीं और आज 2015 में हमारे पास 20 से भी अधिक मोटरसाइकिलों का बेड़ा है। वर्ष 2013 में हमने मोटरसाइकिल अभियानों और एक सर्विस स्टेशन की नींव रखी। अब तक हमने मुख्य रूप से स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक, सिएट, स्टार यूनियन डेकी, लोढ़ा डवलपर्स सहित कई नमाचीन और बड़े नामों के साथ केन किया है जिन्होंने हमारी सेवाओं का उपयोग अपने कर्मचारियों के लिये मोटरसाइकिल यात्राओं का आयोजन करने के लिये किया है। उदाहरण के लिये वर्ष 2013 में हमनें स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक के वरिष्ठ प्रबंधन कर्मचारियों के लिये एक 21 दिवसीय मोटरसाइकिल अभियान का आयोजन किया था जिसमें उन्होंने मुंबई से लद्दाख तक लगभग 3500 किलोमीटर से भी अधिक का सफर तय किया। यह अभियान मूल रूप से उनके एशिया पैसेफिक काॅर्पोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) जिसे ‘देखना ही भरोसा करना है’ के नाम से जाना जाता है के तहत आयोजित किया गया था जिसमें उन्होंने अपने समर्थित एक एनजीओ के लिये धन जुटाने का काम भी किया था।

2014 में मई से सितंबर के मध्य में हम 8 बैचों के माध्यम से 120 यात्रियों को अपने मोटरसाइकिल अभियान के तहत लद्दाख की सेर करवा चुके हैं। हमारी अपनी एक ई-काॅमर्स आधारित वेबसाइट है जहां लोग पहले से ही अपने लिये अपने सफर के लिये हमसे संपर्क करते हुए हमारे एक संरक्षित भुगतान गेटवे के द्वारा भुगतान करते हुए हमारी विभिन्न सेवाओं के लिये एडवासं बुकिंग करवा सकते हैं। हमारी वेबसाइट के माध्यम से यात्री अपने सफर के लिये मोटरसाइकिल का किराया, अभियान के अलावा जैकेट, हेलमेट कैमरा, दस्ताने, वाटरप्रूफ टेंट इत्यादि की एडवांस बुकिंग करवा सकते हैं। इसके अलावा बीते एक वर्ष के दौरान हम 200 से भी अधिक यात्रियों को अपने विभिन्न अभियानों के द्वारा भूटान, नेपाल, थाईलैंड, गोवा, राजस्थान, कच्छ के रण इत्यादि की भी सेर करवा चुके हैं। यहां गौर करने वाली बात यह है कि हमारे यह अभियान 15 से 20 दिनों के बेहद कठिन अभियान रहे हैं और यात्रियों ने इनका पूरा मजा उठाया है।

वाईएसः हमें कुछ उस विशेष समुदाय के बारे में भी बतायें जो आप तैयार करने में सफल रहे हैं

बलजीतः सोशल मीडिया पर हमारे प्रशंसको की एक बहुत बड़ी संख्या है। हमारा फेसबुक 45 हजार से भी अधिक प्रशंसकों द्वारा पसंद किया गया है और इस संख्या में प्रति दिन इजाफा हो रहा है। बाइकिंग के उत्साहियों का राॅयल एनफील्ड बुलेट मोटरसाइकिल के प्रति प्रेम और इस शानदार दोपहिया की सवारी करने के जुनून की वजह से ही हम दो वर्षों के इस छोटे से समय में इतना नाम कमाने में सफर रहे हैं।

वाईएसः आप अपनी टीम के बारे में हमें कुछ बताइये

बलजीतः एनफील्ड राइडर्स आज जो कुछ भी है वह अपनी टीम की वजह से ही है और उसे इस मुकाम तक पहुंचाने में पूरी टीम की बड़ी अहम भूमिका रही है। हमनें सिर्फ 2 कर्मचारियों के साथ यह सफर शुरू किया था और आज हमारी टीम मुंबई, मनाली और लेह-लद्दाख जैसी जगहों पर काम कर रहे 25 से भी अधिक लोगों से सुसज्जित है। यह सब लोग हमारे साथ रोड कैप्टन, राईड काॅ-आॅर्डिनेटर, राॅयल एनफील्ड से प्रमाणित मिस्त्री और बैक-अप वैन चालकों के रूप में जुड़े हुए हैं। हम अपने स्टाफ को पूरी तरह से खुश और प्रेरित रखने में विश्वास रखते हैं ओर इसीलिये शुरुआत से लेकर आज तक कभी भी हमारी टीम में आपसी मनमुटाव का कोई वाकया सामने नहीं आया है। इसके अलावा नए-नए गंतव्यों को तलाशने वाले जुनूनी चालकों को तलाशना कोई आसान काम नहीं है लेकिन जैसे-जैसे टीम तैयार होती गई वैसे-वैसे ही काॅर्पोरेट पृष्ठभूमि से जुड़े अनुभवी पेशेवर इनके साथ जुड़ने लगे। उदाहरण के लिये हमारे आॅपरेशन प्रमुख दीपक चंद्रशेखर फाइनेंस से एमबीए और मीडिया प्लानिंग के क्षेत्र में 7 वर्षों से भी अधिक का काॅर्पोरेट अनुभव रखते हैं। इसके अलावा हमारे रोड कैप्टेनों में से एक अक्षय जोशी एक प्रमाणित शेफ हैं।

वाईएसः आपकी इस स्टार्टअप की अबतक की यात्रा के सबसे यादगार लम्हों के बारे में बताइये

बलजीतः किसी भी उद्यमी के लिये एक स्टार्टअप को स्थापित करने की यात्रा कभी भी आसान नहीं होती। जब मैंने अपने मित्रों और शुभचिंतकों को यह बताया कि मैं स्विस बैंक की एक बेहद उच्च प्रोफाइल वाली सम्मानजनक नौकरी छोड़ रहा हूँ तो उनमें से अधिकतर का रवैया बेहद निराश करने वाला था। उन्हें इस बात का बिल्कुल भी यकीन नहीं हुआ कि मैं एक लगी-लगाई नौकरी छोड़कर अपनी पार्किंग को गैराज का स्वरूप देकर उसमें राॅयल एनफील्ड मोटरसाइकिल की मरम्मत में अपने हाथ गंदे करूंगा। 6 अंकों में मिलने वाले वेतन को छोड़ना एक बेहद मुश्किल चुनौती थी लेकिन काम के प्रति समर्पण और जुनून के चलते ही मैं देश की सबसे बेहतरीन मोटरसाइकिल टूर कंपनी स्थापित करने में सफल रहा हूँ। आज की तारीख में उपभोक्ताओं द्वारा हमें दिये गए प्रशंसापत्र हमारे लिये सबसे सम्मानजनक और खुशी देने वाले पल होते हैं क्योंकि वे हमारे पास उपभोक्ता के रूप में आते हैं और जब वे जाते हैं तो वे एक मित्र में तब्दील हो चुके होते हैं।

वाईएसः भविष्य के लिये आपकी क्या योजनाएं हैं?

बलजीतः अब हमने उत्तरी भारत में भी अपनी पहुंच बनाने में सफलता प्राप्त की है और हमनें मनाली और लेह में भी अपने शाखा कार्यालय खोले हैं। इस वर्ष के अंत तक हम बैंगलोर, पुणे और चेन्नई तक विस्तार करते हुए अपने कार्यलय खोलने चाहते हैं। इसके अलावा हम मोटरसाइकिल चालकों के पसंदीदा स्थल नाॅर्थ ईस्ट, कंबोडिया, लाओस और श्रीलंका के लिये भी आॅफबीट मोटरसाइकिल अभियान शुरू करना चाहते हैं।

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Worked with Media barons like TEHELKA, TIMES NOW & NDTV. Presently working as freelance writer, translator, voice over artist. Writing is my passion.

Stories by Nishant Goel