क्या है मिशन इंद्रधनुष? क्यों कर रही है दुनिया इसकी तारीफ?

मिशन इंद्रधनुष के अंतर्गत हो चुका है ढाई करोड़ से भी ज्यादा बच्चों का वैक्सिनेशन...

1

इंटरनेशनल वैक्सीन एक्सेस सेंटर (आईवीएसी) और जॉन्स हॉपकिंस ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा संकलित निमोनिया और दस्त से मरने वाले बच्चों की सबसे ज्यादा संख्या वाले 15 देशों की प्रगति पर हाल ही की रिपोर्ट ने मिशन इंद्रधनुष की वजह से सबसे प्रगति के लिए भारत की प्रशंसा की।

मिशन इंद्रधनुष के तहत इतना बढ़िया काम किया गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मई में प्रगति की समीक्षा बैठक में इस योजना के 90 प्रतिशत की कवरेज लक्ष्य को पूरा करने की डेडलाइन को 2020 से घटाकर 2018 तय कर दिया।

500 से अधिक जिलों में लगभग 25 मिलियन बच्चों को टीका लगाया है। यूआईपी में नए और कम मात्रा वाले टीकों की शुरूआत और पैमाने के साथ, एमआई ने भारत की 2017 जीएपीपीडी (निमोनिया और अतिसार के निवारण और नियंत्रण के लिए ग्लोबल एक्शन प्लान) स्कोर में हासिल की गई प्रतिरक्षण कवरेज में वृद्धि को बढ़ावा देने में मदद की है। 

मिशन इंद्रधनुष ने हाल ही में जॉन्स हॉपकिंस रिपोर्ट में वैश्विक डायरिया और न्यूमोनिया पर समृद्ध प्रशंसा प्राप्त की है। इस मिशन के तहत देश भर में दूरदारज के क्षेत्रों में उन बच्चों तक पहुंचने में सफलता हासिल की गई जो किसी भी अवस्था में वैक्सिनेशन के सभी स्तरों में से किसी एक स्तर को पूरा करने से चूक गए थे। मोबाइल वैक्सिनेशन वैन से देश भर में दौर किया गया और बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए टीकाकरण किया गया।

इंटरनेशनल वैक्सीन एक्सेस सेंटर (आईवीएसी) और जॉन्स हॉपकिंस ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा संकलित निमोनिया और दस्त से मरने वाले बच्चों की सबसे ज्यादा संख्या वाले 15 देशों की प्रगति पर हाल ही की रिपोर्ट ने मिशन इंद्रधनुष की वजह से सबसे प्रगति के लिए भारत की प्रशंसा की। 500 से अधिक जिलों में लगभग 25 मिलियन बच्चों को टीका लगाया है। यूआईपी में नए और कम मात्रा वाले टीकों की शुरूआत और पैमाने के साथ, एमआई ने भारत की 2017 जीएपीपीडी (निमोनिया और अतिसार के निवारण और नियंत्रण के लिए ग्लोबल एक्शन प्लान) स्कोर में हासिल की गई प्रतिरक्षण कवरेज में वृद्धि को बढ़ावा देने में मदद की है। मिशन इंद्रधनुष के तहत इतना बढ़िया काम किया गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मई में प्रगति की समीक्षा बैठक में इस योजना के 90 प्रतिशत की कवरेज लक्ष्य को पूरा करने की डेडलाइन को 2020 से घटाकर 2018 तय कर दिया।

मिशन इंद्रधनुष के चार चरण पूरे हुए हैं, जिसमें पूरे देश में 2.55 करोड़ बच्चों और 68.7 लाख गर्भवती महिलाओं को टीका लगाया गया है। इसकी तुलना 2.63 करोड़ बच्चों के वार्षिक जन्म संगोष्ठी से होती है और हर साल 2 करोड़ से भी कम समय में नियमित प्रतिरक्षण होता है। मिशन का नेतृत्व पूर्व स्वास्थ्य सचिव सी के मिश्रा ने किया था, जो अब पर्यावरण मंत्रालय में हैं। चूंकि यह मिशन अगले महीने तीन साल पूरे करेगा, समग्र रिपोर्ट कार्ड की अच्छी तरह पड़ताल हो रही है।

हालांकि मंत्रालय अभी टीकाकरण कवरेज में वास्तविक परिवर्तन का अनुमान लगा रहा है। 27 अक्टूबर को यूनिसेफ द्वारा एक कवरेज मूल्यांकन सर्वेक्षण 2018 आयोजित करने के लिए एक बैठक आयोजित की गई, ताकि उपलब्धियों का प्रमाणिक रूप से अनुमान लगाया जा सके। अब तक पूरे भारत का केवल एख टीकाकरण आंकड़ा है जोकि राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण IV से संदर्भित है। ये अांकड़ा 2015-16 के अनुमानों पर आधारित है और जिसके मुताबिक देश में 62 प्रतिशत टीकाकरण कवरेज है।

समन्वित बालशक्ति और टीकाकरण सर्वेक्षण (आईएनसीआईसीआईएसआईएस) की रिपोर्ट के मुताबिक, मिशन इंद्रधनुष के पहले दो चरणों में एक वर्ष में पूर्ण प्रतिरक्षण कवरेज में 6.7 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है, जो कि अतीत में एक प्रतिशत वार्षिक वृद्धि की तुलना में है। लाभ को स्थायी बनाने के लिए मंत्रालय ने हाल ही में गुजरात में वडनगर से 8 अक्टूबर को मोदी द्वारा इंटेंसिफाइड मिशन इंद्रधनुश का शुभारंभ किया, जिसके तहत केंद्र भी राज्य को संसाधन प्रदान कर रहा है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि शुरुआती स्तर पर ये संख्या वापस नहीं आती है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, एमआई (मिशन इंद्रधनुष) में, हम स्पष्ट थे कि राज्यों को मौजूदा संसाधनों का उपयोग करना है लेकिन आईएमआई में जिसके लिए 121 जिलों की पहचान की गई है, हम अतिरिक्त संसाधन भी दे रहे हैं हमने दूरदराज के क्षेत्रों तक पहुंचने के लिए मोबाइल वैन तैनात किया है, जो कि स्वास्थ्य केंद्रों के दूसरे केंद्र से दूसरे आंदोलन के लिए टीए / डीए के लिए व्यवस्था की गई ताकि कोई भी केंद्र अप्रयुक्त न हो और हमने जिला मजिस्ट्रेट को जिला कार्य बल की बैठक के लिए जवाबदेही तय करने के लिए कहा। मिशन के निदेशक और राज्य के प्रतिरक्षण अधिकारियों के एक व्हाट्सएप समूह दैनिक अद्यतन और प्रतिक्रिया के लिए है।

90 प्रतिशत प्रतिरक्षा को प्राप्त करने के लक्ष्य से टीकाकरण अंतराल को प्लग करने के लिए 25 दिसंबर, 2014 को मिशन इंद्रधनुश की शुरूआत की गई थी। प्रतिशत कवरेज लक्ष्य आम तौर पर सेट नहीं किए जाते हैं जब तक कि यह पोलियो जैसे किसी बीमारी के विशिष्ट कार्यक्रम के लिए नहीं है। क्योंकि पिछले 10% तक पहुंचने से आमतौर पर अधिक लागत लगता है।

ये भी पढ़ें: ऐसे कमायें जैक मा की तरह हजारों करोड़ डॉलर

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...