'Hobbyix' के सदस्य बनें, नित नई फिटनेस गतिविधियों के साक्षी बनें

प्रतिमाह मात्र 1999 रुपये देकर 30 दिनों के लिये हैदराबाद के 120 फिटनेस केंद्रों का कर सकते हैं उपयोग अमरीका में प्रचलित क्लासपास की अवधारणा से प्रेरित होकर जतिन और अभिषेक ने की स्थापनाशुरुआत के पहले ही महीने में 700 लोगों को सदस्य बनाने में कामयाब रहा यह स्टार्टअपआने वाले दिनों में देश के अन्य मेट्रो शहरों में विस्तार की है योजना

0

हैदराबाद में रह रहे रजत जैन की जिम की वार्षिक सदस्यता अभी समाप्त ही हुई थी और वे इस सदस्यता का आने वाले वर्ष के लिये नवीनीकरण करवाने के बजाय कुछ और बेहतर तलाशने का मन बनाए बैठे थे।

रजत बताते हैं, ‘‘मेरे लिये वार्षिक सदस्यता का विचार बिल्कुल भी अच्छा अनुभव नहीं रहा था क्योंकि मैं पूरे वर्ष में कुल मिलाकर दो महीने भी जिम का इस्तेमाल नहीं कर सका था। इसके अलावा मुझे यह अहसास भी हुआ कि वहां मौजूद प्रशिक्षक का रवैया सिर्फ कुछ प्रारंभिक दिनों में ही अच्छा था क्योंकि उस दौरान वो मुझे उन्हें अपने लिये निजी प्रशिक्षक के तौर पर रखने के लिये मनाने के प्रयास कर रहे थे। मुझे लगा कि उन्हें निजी प्रशिक्षक के रूप में न रखने के फैसले के बाद उन्होंने आपकी उपेक्षा करनी शुरू कर दी और इस प्रकार से आप भी व्यायाम के प्रति अपनी रुची खो देते हैं।’’

रजत एक ऐसे किफायती विकल्प को तलाशने में जुट गए जो उन्हें प्रेरित करने में भी सफल रहे। उन्होंने जस्टडायल के माध्यम से कोंडापुर के आसपास स्थित जिम को तलाशने के लिये क्वेरी फार्म भरा और उनके आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा जब कुछ घंटो बाद ही उनके पास एक फोन भी गया। वह फोन था Hobbyix के संस्थापक जतिन बंसल का जिन्होंने उन्हें मासिक फिटनेस कार्ड के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए समझाया कि कैसे इसके माध्यम से वे शहर के 120 फिटनेस केंद्रों तक अपनी पहुंच बना सकते हैं और मात्र कुछ ही मिनटों में वे इसे लेने के लिये मान भी गए।

रजत बताते हैं, ‘‘मैं इतनी सारी सुविधाओं का लाभ सिर्फ 2 हजार रुपयों से भी कम का भुगतान करके पा रहा था। मैं वास्तव में बहुत प्रसन्न था क्योंकि इा पास के माध्यम से मैं ज़ुम्बा और तैराकी जैसे उन कार्यों को भी कर सकता था जो अबतक मेरे लिये बिल्कुल नए और अनछुए थे।’’

बदलाव लाने वाला क्षण

अब से कुछ वर्ष पहले जतिन भी रजत की तरह ही असमंजस की स्थिति से दो-चार हो रहे थे क्योंकि वे भी किसी जिम की वार्षिक सदस्यता लेकर अपनी मेहनत का पैसा बर्बाद नहीं करना चाहते थे क्योंकि उन्हें बहुत अच्छी तरह से मालूम था कि जितना पैसा वे खर्च करेंगे उसके बदले मिलने वाली सुविधाएं कुछ भी नहीं हैं।

जतिन बताते हैं, ‘‘उसी दौरान मैंने अमरीका में प्रचलित क्लासपास के बारे मेे सुना, लेकिन उसमें भी उपयोगकर्ता के सामने एक ही फिटनेस स्टूडियो का निश्चित और सीमित उपयोग कर सकने की सीमा निर्धारित थी। मुझे नहीं लगता कि ऐसा कोई माॅडल भारतीयों के फिटनेस से संबंधित मुद्दों का हल करने में मददगार साबित होगा और इसी के मद्देनजर मैंने इसे एक परियोजना के रूप में लेने का फैसला किया।’’

स्टार्टअप का उद्गम

नवंबर 2014 तक आईआईटी दिल्ली से स्नातक जतिन और उनके एनआईटी कुरुक्षेत्र के एक मित्र अभिषेक भाटिया Hobbyix पर पार्टटाइम रूप में काम करते रहे। जल्द ही उन्हें इस बात का अहसास हुआ कि अगर उन्हें अवसरों का पूरा लाभ उठाना है तो उन्हें इस काम में अपनी सारी ऊर्जा और समय लगाना होगा।

उन्होंने जिम जाने वालों पर अनुसंधान करना प्रारंभ किया और हरबार वे एक स्थिति पर आकर रुक जाते और हरबार यह स्थिति उनका आत्मविश्वास बढ़ाने वाली साबित हो रही थी। इन्होंने पाया कि किसी भी जिम में वार्षिक सदस्यता लेने वाले सिर्फ 25 से 30 प्रतिशत सदस्य ही यमित रूप से व्यायाम करने के लिये आते हैं। इनकी समझ में एक और बात आई कि क्यों जब एक जिम में सिर्फ 1000 लोगों के व्यायाम करने की व्यवस्था है तब भी वह 4000 सदस्य बना लेता है और सफलतापूर्वक संचालन करता है।

जतिन कहते हैं, ‘‘कोई भी उपयोगकर्ता जो फिटनेस गतिविधि के सदस्यता ले लेता है वह उन्हीं व्यायामों और कार्यों को लगभग रोजाना करके उन्हें बेहद नीरस और उबाऊ पाता है और नतीजतन वह बहुत जल्द ही इससे दूर हो जाता है। यह सबकुछ इन्हीं बातों को ध्यान में रखकर प्रारंभ हुआ और हमनें उपयोगकर्ताओं के व्यायाम के इस अनुभव को और अधिक मजेदार और आकर्षक बनाने के लिये उन्हें प्रतिदिन एक नई गतिविधि का विकल्प देने का फैसला किया।’’

आने वाले कुछ महीनों के भीतर दोनों नें अपनी-अपनी नौकरियों को छोड़कर 19 जून को Hobbyix का शुभारंभ किया।

Hobbyix में क्या विशेष है

Hobbyix एक मासिक क्रेडिट आधारित फिटनेस पास है जो उपयोगकर्ताओं को विभिन्न किस्मों के फिटनेस स्टूडियों और गतिविधियों तक पहुंच प्रदान करता है। जैसे ही कोई उपयोगकर्ता 1999 रुपये के इस मासिक पास को खरीदता है उसे 30 क्रेडिट मिल जाते हैं जिनकी एवज में वह हैदराबाद के 120 फिटनेस केंद्रों में 300 से अधिक गतिविधियों को अंजाम दे सकता है।

जतिन कहते हैं, ‘‘अधिकांश मौकों पर एक सामान्य जिम मंे होने वाली गतिविधियों की एवज में सिर्फ एक क्रेडिट लगता है लेकिन कुछ फिटनेस केंद्रों में जहां टाॅलीवुड के कलाकार अक्सर आते रहते हैं तीन क्रेडिट भी चार्ज करते हैं। मूलतः आप अपने इन क्रेडिट को जैसे चाहें वैसे इस्तेमाल कर सकते हैं और अपने उद्यम के माध्यम से हमारा उद्देश्य उपयोगकर्ताओं को इसी प्रकार की आजादी और लचीलापन प्रदान करना था।’’

एक बार क्रेडिट प्राप्त करने के बाद उपयोगकर्ता आॅनलाइन जाकर अपनी पसंद की श्रेणी का चुनाव कर सकते हैं। एक बार बुकिंग कंफर्म होने के बाद उस श्रेणी के प्रशिक्षक को भाग लेने वाले व्यक्ति के संपूर्ण विवरण के साथ एक टेक्स्ट मैसेज प्राप्त होता है। सत्र के प्रारंभ होने से पांच मिनट पहले तक बुकिंग की जा सकती है। इसके माध्यम से उपयोगकर्ता योग, जिम, तैराकी, डांस और यहां तक कि पास के साथ मुक्केबाजी तक का चुनाव कर सकते हैं।

साथ ही जतिन यह भी जानकारी देते हैं कि वे प्रतिदिन के पास भी उपलब्ध करवाते हैं और बताते हैं, ‘‘अधिकतर लोग प्रतिदिन एक ही प्रकार के व्यायाम को करके बहुत जल्द ऊब जाते हैं और नतीजतन फिटनेस की अपनी यात्रा को बीच में ही छोड़ देते हैं। हमारे साथ जुड़कर उन्हें रोजाना नए-नए व्यायाम और गतिविधियों से रूबरू होने का मौका मिलता है।’’

बाजार और प्रतिस्पर्धा

वर्ष 2015 के दौरान भारत के फिटनेस बाजार के करीब 100 बिलियन के रहने का अनुमान है और यह साल-दर-साल 20 से 25 प्रतिशत की सीएजीआर की दर से वृद्धि कर रहा है। इस बाजार के अधिकांश हिस्सा अभी भी असंगठित है जिसकी वजह से इसे कई प्रकार की समस्याओं से दो-चार होना पड़ता है।

हालांकि इस क्षेत्र में फिटनेसपापा, जिमर और जिमपिक जैसे कुछ अन्य स्टार्टअप्स ने पैर रखा है लेकिन इन सबमें एक फिटनेस केंद्र में महीने में सिर्फ 3 या 4 बार जाने की सीमाएं हैं।

वर्तमान और भविष्य की झलक

सिर्फ एक ही महीने के दौरान Hobbyix के माध्यम से 700 सत्रों को बुक किया गया था। जतिन आगे कहते हैं, ‘‘हमें अपने सामने एक बेहतर भविष्य नजर आ रहा है क्योंकि हम हैदराबाद में एक बेहतर और बड़े नेटवर्क के रूप में विस्तार करने की योजना तैयार कर रहे हैं और हमारा इरादा आने वाले दिनों में देश के अन्य मेट्रो शहरों में भी विस्तार करने का है। हमारा इरादा एक जीवनशैली सदस्यता पास लाने की है जो एक ऐसे पोर्टल के रूप में काम करेगा जिसके माध्यम से उपयोगकर्ता संगीत, फोटोग्राफी, पाकशास्त्र से लेकर डांस इत्यादि सीखने के लिये भी सत्र बुक कर सकेगा।’’

वेबसाइट

Worked with Media barons like TEHELKA, TIMES NOW & NDTV. Presently working as freelance writer, translator, voice over artist. Writing is my passion.

Stories by Nishant Goel