माता-पिता को अपने बच्चों से संबंधित निर्णय लेने में मदद करती है'किड्सस्टॉपप्रेस'

किड्सस्टाॅपप्रेस.कॉम अभिभावकों को अपने बच्चों से संबंधित निर्णय लेने में सहायता करने वाला एक आॅनलाइन मंच है, जहाँ माता-पिता अपने अनुभवों को भी इस मंच पर साझा कर सकते हैं।  यह मंच फ्रेंच कनेक्शन, यूके (एफसीयूके) के साथ मार्केटिंग और कम्युनिकेशंस की प्रमुख के रूप में कार्य कर चुकी मानसी जावेरी के दिमाग की उपज है। उन्होंने अपने पहले बच्चे के जन्म के समय सामने आई चुनौतियों के परिणामस्वरूप कुछ नया करने की दिशा में इस मंच की नींव रखी। 

0

अन्य महिलाओं की तरह पहली बार गर्भवती होने का पता चलने पर मानसी जावेरी उत्साहित तो थीं। वह सोचती थीं कि क्या मुझे अपने बच्चे के बीमार होने का पता चल सकेगा? क्या होगा अगर मैं अपने बच्चे को अधिक खिला-पिला देती हूँ या फिर वह आधापेट ही खा पाता है? मैं अपने घर और दफ्तर के बीच कैसे सामंजस्य बैठा पाऊंगी? के अलावा ऐसे ही कई अन्य सवाल उनके जेहन में दौड़ने लगे थे।

मानसी जावेरी
मानसी जावेरी

हालांकि अपनी बेटी के जन्म के बाद भी वे हमेशा इसी उधेड़बुन में रहीं कि क्या वे अपने बच्चे के लिहाज से सबकुछ ठीक कर रही हैं। दो बच्चों, एक शांत नौकरी, कई घंटों का काम, बच्चें के साथ पार्क में खेलना, दूसरी प्रेरणादायक माओं से मिलना और कई उनींदी रातों से गुजरने के बाद वे खुदद को एक संपूर्ण माता का दर्जा देने में कामयाब हुईं।

मानसी को इस बात का अहसास था कि प्रत्येक अभिभावक को इस चुनौतीपूर्ण दौर से गुजरना पड़ता है और उन्होंने उनकी सहायता करने के लिये कुछ नया करने का फैसला किया और इसके बाद उन्होंने Kidsstoppress.com (किड्सस्टाॅपप्रेस) को तैयार किया। मानसी कहती हैं, ‘‘यह एक ऐसी वेबसाइट है जो माता-पिता को अपने बच्चों से संबंधित निर्णय को लेने में मदद करती है।’’

यह वेबसाइट बच्चों के जीवन के हर पहलू से संबंधित जानकारी उपलब्ध करवाती है फिर चाहे वह खान-पान, यात्रा, गतिविधियों, विभिन्न आयोजनों, सेवाओं या खरीददारी से संबंधित हों और इसके अलावा अभिभावक भी अपने अनुभवों को दूसरे के साथ साझा करते हैं। मानसी कहती हैं, ‘‘अने बच्चे के लिये सर्वश्रेष्ठ की खोज के दौरान मैं यह बहुत अच्छी तरह से जान और समझ पाई कि अपने बच्चे से संबंधित कोई फैसला लेते समय मैं अपने अलावा अगर किसी और की राय से इत्तेफाक रख सकती हूँ तो वह एक माँ की ही राय हो सकती है।’’

एक ऐसा मंच जहां बढ़ते हुए बच्चों से संबंधित हर जानकारी उपलब्ध हो और उन्हें बढ़ते हुए देखना एक शानदार अनुभव में तब्उील हो सके और मानसी ऐसा ही कुछ तैयार करना चाहती थीं। वे पुराने दिनों को याद करते हुए कहती हैं, ‘‘हालांकि उस समय भी इंटरनेट बहुत सी सामग्री उपलब्ध थी लेकिन उसमें से कुछ भी भारत से संबंधित नहीं थी क्योंकि हमारे देश में थोड़ी-थोड़ी दूरी पर सामने आने वाली चुनौतियां बदलती रहती हैं। मैं एक पूर्णकालिक नौकरी कर रही थी और इसी वजह से मेरे पास यह सुनने और जानने के लिए बहुत ही सीमित समय था कि दूसरी माओं की इस बारे में क्या राय है कि बच्चों के लिए क्या अच्छा है और क्या बुरा। लेकिन मेरी एक चीज तक पहुंच थी और वह थी प्रौद्योगिकी। बस उसी समय मैंने यह सोचना प्रारंभ कर दिया कि मैं इन दोनों को कैसे एक करते हुए साझा मंच प्रदान कर सकती हूँ।’’

Kidsstoppress.com द्वारा किये जा रहे कार्यों के बारे मेें बताते हुए वे कहती हैं, ‘‘हमार देश का मीडिया और अनगिनत सेवाएं रेस्टोरेंट, सिनेमा, कंसर्टस और ऐसी ही अन्य जानकारियों को लोगों तक पहुंचाने के लिये समर्पित हैं लेकिन कोई भी आपको यह जानकारी देने की जहमत उठाने को तैयार नहीं है कि किसी इलाके में एक नया पार्क शुरू किया है या फ्लेमिंगो और अन्य प्रवासी पक्षी आजकल हमारे देश के किस क्षेत्र में आ रहे हैं या फिर दिल्ली का बाल संग्रहालय बच्चों के लिये एक विशेष शो का आयोजन कर रहा है या बच्चे रानी बाग, भायखाला या फिर संजय गांधी नेश्नल पार्क में जाएं तो वहां उन्हें क्या देखने को मिलेगा। इसके अलावा चूंकि बाजार में बच्चों से संबंधित उत्पाद बहुत महंगे होते हैं इसलिये मैं दूसरी माताओं से मिलने वाली प्रतिक्रियाओं को बहुत पसंद करती हूँ।’’

मानसी ने अपने पहले बच्चे के जन्म के दो वर्ष बाद जून 2011 में मानसी ने मुंबई में Kidsstoppress.com की स्थापना बिना किसी की मदद के अपने दम पर की और उसके बाद से इसे ब्लाॅगर-इन-चीफ का पद संभाल रही हैं। हालांकि उन्हें विज्ञापन और ब्रांडिंग के अलावा खुदरा और जीवनशैली के क्षेत्र में काम करने का आठ वर्षों से अधिक का अनुभव है और इससे पहले वे भारत में फ्रेंच कनेक्शन, यूके (एफसीयूके) के साथ मार्केटिंग और कम्युनिकेशंस की प्रमुख के रूप में कार्यरत थीं, एक वेबसाइट का निर्माण करना इनके लिये एक बिल्कुल नया अनुभव और बहुत बड़ी चुनौती था। इसके अलावा प्रारंभिक दौर में इसे अमली जामा पहनाना भी एक बहुत बड़ी चुनौती था।

यह माताओं से संबंधित एक ब्लाॅग या फिर बच्चों का एक केंद्र न होकर बच्चों की जीवनशैली से संबंधित एक ऐसी वेबसाइट के रूप में स्थापित हुआ है जो नवीनतम ब्रांड के अलावा देश में बच्चों से संबंधित आयोजनों और सेवाओं की जानकारी भी साझा करता है और इस प्रकार यह विभिन्न उद्यमियों को भी अपने लिये बिल्कुल सही उपभोक्ताओं तक पहुच बनाने में एक सुनहरा मौका देता है।

हालांकि प्रारंभ में विभिन्न सेवाओं और उत्पादों से संबंधित लोगों को आॅनलाइन और डिटिल मीडिया के उपयोग से उनके व्यवसाय में आने वाले बदलाव से रूबरू करवाना एक टेढ़ी खीर था लेकिन समय के साथ उनके रवैये में भी सकारात्मक बदलाव आया है।

मानसी कहती हैं, ‘‘आज के समय में वे पहले के मुकाबले बहुत अधिक जागरुक हैं और अब वे आॅनलाइन तरीके से सूचीबद्ध किये जाने की प्रासंगिकता के बखूबी वाकिफ हैं। उन्हें अब यह बहुत अच्छह तरह से मालूम है कि एक मासिक पत्रिका की पारंपरिक सूची में जगह बनाने के मुकाबले जल्द और बेहद व्यापक रूप से खुद को आगे बढ़ाना अधिक फायदेमंद है।’’

बीते दो वर्षों के दौरान उनके साथ करने के लिये ऐसे बहुत से ऊर्जावान और युवा लोग सामने आए हैं जो इइसके अलावा इनके पास दो पूर्णकालिक सहयोगी भी हैं।

मानसी बताती हैं, ‘‘हमनें प्रतिदिन 100 विजि़टर्स से शुरू किया था और आज यह संख्या बढ़कर 60 हजार हो गई है। हम प्रतिमाह 1 लाख 20 हजार से अधिक विजि़टर्स पा रहे हैं जिनमें से 35 प्रतिशत दोबारा हमारी वेबसाईट पर आने वाले हैं।’’

इसके अलावा वे विभिन्न शहरों में बच्चों से संबंधित आयोजित होने वाले आयोजनों में साझेदार होते हैं। इन्होंने वर्ष 2012 में दीपावली के मौके पर बच्चों के लिये एक आॅनलाइन प्रदर्शनी ‘बाज़ार’ का सफलतापूर्वक आयोजन किया और इसकी सफलता से प्रेरित होकर अगले वर्ष दोबारा इसका आयोजन किया। इसके अलावा इन्होंने स्तनपान से लेकर समर कैंप तक बच्चों से संबंधित विभिन्न विषयों पर माता-पिता को जागरुक करने के लिये कई गाइडों को भी तैयार किया है।

अपने काम को करते हुए मिलने वाले सबसे बड़े इनाम के बारे में बात करते हुए मानसी कहती हैं, ‘‘जब माताएं मुझे ईमेल के माध्यम से लिखती हैं कि कैसे Kidsstoppress.com ने उन्हें उनके बच्चों के लिये उचित और उद्देश्यपूर्ण निर्णय लेने में कैसे मदद की।’’

मूल- मालविका वेलयनिकल

वेबसाइट

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Worked with Media barons like TEHELKA, TIMES NOW & NDTV. Presently working as freelance writer, translator, voice over artist. Writing is my passion.

Stories by Nishant Goel