घर की सुंदरता बढ़ाने के साथ ही मच्छर भी भगाएंगे ये पौधे

0

 बागवानी के लिए मॉनसून सबसे अच्छा मौसम माना जाता है। इस मौसम में लगाने जाने वाले 90 प्रतिशत पौधे सही ढंग से पनपते हैं। तो अब देर किस बात की इन पौधों के बारे में जानकारी लीजिए और लगा दीजिए घर में मच्छर भगाने वाले पौधे।

हम मच्छरों को भगाने के लिए कई तरह के केमिकल वाले प्रॉडक्ट यूज करते हैं, जिनसे मच्छर भले ही न भागें, लेकिन हमारे स्वास्थ्य को जरूर नुकसान होता है।

हर कोई चाहता है कि उसके आस-पास हरियाली हो और घर भी फूल पौधों से भरा हो, लेकिन कम ही लोग होते हैं जो नियमित रूप से पौधों की देखभाल करते हैं।

बागवानी के शौकीन लोगों के लिए एक जानकारी वाली अच्छी खबर है। शायद आपको न पता हो कि कुछ पौधे ऐसे हैं जिन्हें घर में लगाने पर वो घर की सुंदरता तो बढ़ाते ही हैं। साथ ही मच्छरों से भी आपको दूर रखते हैं। वैसे हर कोई चाहता है कि उसके आस-पास हरियाली हो और घर भी फूल पौधों से भरा हो, लेकिन कम ही लोग होते हैं जो नियमित रूप से पौधों की देखभाल करते हैं। आजकल तो मच्छरों की सबसे बड़ी समस्या होती है घरों में। जिनसे कई जानलेवा बीमारियां भी जन्म लेती हैं। हम मच्छरों को भगाने के लिए कई तरह के केमिकल वाले प्रॉडक्ट यूज करते हैं, जिनसे मच्छर भले ही न भागें, लेकिन हमारे स्वास्थ्य को जरूर नुकसान होता है।

तो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक प्रॉडक्ट्स को अलविदा कह दीजिए क्योंकि अब हम आपको ऐसे पौधों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें लगाने से घरों से मच्छर भागते हैं। अच्छी बात यह है कि ये पौधे हवा को भी साफ करते हैं। वैसे भी बागवानी के लिए मॉनसून सबसे अच्छा मौसम माना जाता है। इस मौसम में लगाने जाने वाले 90 प्रतिशत पौधे सही ढंग से पनपते हैं। तो अब देर किस बात की इन पौधों के बारे में जानकारी लीजिए और लगा दीजिए घर में मच्छर भगाने वाले पौधे।

हॉर्स मिंट- यह एक तरह का मिंट है। इससे कसैली महक आती है। इसे घर में लगाने से मच्छर भागते हैं।

लेमन ग्रास- इस पौधे से नींबू की तरह महक आती है। इस पौधे को लगाने से मच्छर घर से दूर रहते हैं।

रोजमेरी- इसके नीले फूल गर्मी के मौसम में बढ़ते हैं। सर्दी में इसके गमले को घर के अंदर रखना चाहिए।

गेंदा- इसकी महक बहुत तीखी होती है। मच्छरों को इसकी महक पसंद नहीं आती। ये कीड़ों को भी दूर रखता है।

लैवेंडर- इस पौधे की खुशबू बड़ी तेज होती है। मच्छर इसकी खुशबू के कारण दूर भागते हैं।

इसके अलावा कुछ और पौधे हैं जिन्हें घर में लगाना चाहिए। जैसे, तुलसी के पौधे में कई गुण हैं। इसे कम जगह में लगाया जा सकता है। तुलसी का पौधा लगाने से कीटाणु नहीं आते। महक में मौजूद एस्ट्रोन हमारे मानसिक संतुलन को भी बनाए रखता है।

पुदीना- पेट की समस्या को पुदीना दूर करता है। पाचन शक्ति मजबूत होती है। साथ ही पेट की गर्मी को कम करता है। बहुत ही कम खर्च में इसे घर में लगाया जा सकता है। इसकी महक से वातावरण अच्छा रहता है।

धनिया- धनिया में विटामिन 'A' पाया जाता है। इससे मधुमेह को कंट्रोल में रखा जा सकता है। इसका सेवा करने से थकान भी दूर होती हे। धनिया की डंडी को खाने से थाइरॉयड पर भी नियंत्रण पाया जा सकता है।

करी पत्ता- करी पत्ते का प्रयोग स्वाद को दोगुना कर देता है। इसके अलावा इससे डायबिटीज भी कंट्रोल होती है। डॉक्टर भी डायबिटीज के मरीजों को करी पत्ता खाने की सलाह देते हैं।

कुछ पौधे ऐसे भी होते हैं जो साल के बारह महीने कभी भी लगाए जा सकते हैं। जैसे- बोगनवेलिया, हैबिस्कस, रात की रानी, चमेली, मोतिया, मोगरा, मोरपंख, फाइकस, गेंदा। लेकिन कुछ पौधए सिर्फ गर्मी के लिए होते हैं जैसे, कॉसमॉस, जीनिया, सूरजमुखी, टिथोनिया, गेलार्डिया। इनके बीज फरवरी के आखिरी दिनों में लगाने चाहिए। 2 महीने में इनके पौधों से फूल निकलने लगेंगे। वहीं मॉनसून वाले पौधों में, ऐजेरेंटम, बालसम, एमरेंथस, टोरिनिया, गामफेरिना, कनेर का नाम आता है। इन पौधों को मॉनसून के दिनों में लगाना चाहिए। करीब दो-ढाई महीने में फूल आ जाते हैं।

सर्दी के पौधों की बात करें तो गुलाब, कॉर्न फ्लॉवर, कारनेशन, डेजी, डहेलिया, गुलदाउदी, हॉलीहॉक, गेंदा, कॉसमॉस को लगाना बेहतर होगा। इन्हें अक्टूबर में लगाना चाहिए। इनमें दिसंबर-जनवरी में फूल आने लगते हैं। बागवानी के लिए एक और जरूरी चीज है कि आपके पास अच्छी खाद भी होनी चाहिए। इसके लिए एक क्विंटल मिट्टी में 25 किलो रेत, एक क्विंटल वर्मी कंपोस्ट, पोटाश और जिंक मिट्टी में मिलाकर एक मिश्रण तैयार करें। अगर आप चाहें तो किचन से निकलने वाली वेस्ट सब्जी के डंठल और छिलकों से घर पर खाद तैयार कर सकते हैं। नेचुरल खाद होने से कोई साइड इफेक्ट नहीं होते। 

यह भी पढ़ें: सीए का काम छोड़ राजीव कमल ने शुरू की खेती, कमाते हैं 50 लाख सालाना

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...