ऐसे रोकें कैंसर

अपनी आहार योजना में यहां दिये गये कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल करके कैंसर को रोका जा सकता है।

0

"आजकल की भागदौड़ भरी ज़िंदगी में इंसान यदि कुछ भूल रहा है, तो वो है उसका स्वास्थ्य! जबकि सबसे ज्यादा ज़रूरी है शरीर की देखभाल। कभी-कभी तो ऐसा भी होता है, कि कई बड़ी बीमारियों का बहुत बाद में पता चलता है। उन्हीं बड़ी बीमारियों में एक है कैंसर। कैंसर आजकल बहुत आम हो गया, जो कि 100 में से 10 लोगों में पाया जाता है। इससे पहले की ये बीमारी आप तक पहुंचे आप अपने खानपान पर थोड़ा-सा ध्यान रखकर, इसे खुद से दूर रख सकते हैं।"

कैंसर को मात देना कठिन काम है। जो लोग इससे पीड़ित हैं, वे कीमोथैरेपी करवाते, हॉस्पिटल के चक्कर लगाते, दवाइयां खाते-खाते थक जाते हैं। इन सबमें बहुत खर्च भी होता है। इससे पहले की इन सबकी नौबत आये, क्यों न अपनी डाइट में ऐसी चीज़ें शामिल की जायें, जो कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी को दूर रखें और उसके बचाव में मदद करें। आईये जानते हैं उन चीज़ों के बारे में जो कैंसर को दूर रखने मददगार हैं।

बंद गोभी है फायदेमंद

बंद गोभी फेफड़ों और प्रोस्टेट कैंसर को रोक देता है। इसमें फाइटोकेमिकल्स और ग्लूकोसिनोलेट्स प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं। इनमें कैंसर से लड़ने की क्षमता बहुत ज्यादा होती है। वॉशिंगटन के फ्रेड हचिंसम कैंसर रिसर्च सेंटर में एक हज़ार लोगों पर की गई स्टडी से पता चला कि जिन लोगों ने सप्ताह में तीन या चार बार से ज्यादा बंद गोभई खाई है, उनमें प्रोस्टेट कैंसर की आशंक 41 प्रतिशत कम हो गई।

ग्रीन टी और कलरफुल बेरीज़ को शामिल करें भोजन और पेय में

वजन कम करना और उम्र पर काबू पाने जैसे गुणों से लैस ग्रीन-टी, स्तन कैंसर के खतरे को कम करने के लिए भी फायदेमंद है। 
साथ ही रसभरी, स्ट्रॉबेरी, चेरी, जामुन और करौंदा में कैंसर निरोधक इलैजिक एसिड पाया जाता है। इनमें एंटीअॉक्सीडेंट्स, विटामिन, मिनरल्स और पोषक तत्व जैसे विटामिन ए, बी, सी, डी और ई, कौरोटेनाइड्स, कोएंजाइम्स क्यू 10, पॉलिफेनल्स और जिंक आदि से भरपूर होता है। खाने में बेरीज़ के जूस या इन्हें शामिल किया जा सकता है।

टमाटर के न्यूट्रिएंट्स लड़ते हैं कैंसर से

टमाटर में एंटी-कैंसर एजेंट लाइकोपीन के साथ विटामिन ए, विटामिन सी, कैरेटिनॉइड्स, बीटा-कैरोटीन जैसे न्यूट्रिएंट्स पाये जाते हैं। खाने में टमाटर की मात्रा बढ़ाने से कोलन कैंसर, एथरोस्क्लेरोसिस और डायबिटीज जैसे खतरे कम हो जाते हैं। पके हुए टमाटर प्रोस्टेट कैंसर से रक्षा करते हैं।

प्याज़-लहसुन न खाने वाले खाना शुरू कर दें प्याज़-लहसुन

एक रसोईं प्याज़ के बगैर अधूरी होती है। इस प्याज़ के जो तत्व हमारी आंखों में आंसू ला देते हैं, वे तत्व कैम्फरोल महिलाओं को ओवरी में कैंसर से बचाता है। नर्सेस हेल्थ स्टडी के दौरान पता चला कि जो औरतें ज्यादा प्याज़ खाती हैं, उनमें ओवरी कैंसर होने की आशंका 40 प्रतिशत कम हो जाती है।
साथ ही, लहसुन में एलिसिन नाम का तत्व पाया जाता है। यह तत्व कैंसर सेल्स की रोकथाम के साथ कारसिनोजेनिक केमिकल्स को कम करता है। डेर्मोटोलॉजिकल रिसर्च की रिपोर्ट के अनुसार लहसुन में एजोएन नाम का कंपाउंड पाया जाता है, जो स्किन कैंसर को रोकने में मददगार है।

साबुत अनाज और दही कम करते हैं कैंसर के खतरे को

चावल, कुटू, जई, मकई, राई, जौ और ऐमरैन्थ के अनाज महिलाओं में स्तन कैंसर की रोकथाम के लिए कारगर है। अमेरिकन जर्नल क्लीनिकल न्यूट्रिशन के अनुसार ये अनाज कौलोरेक्टल कैंसर की आशंका कम करते हैं।
अमेरिकन जर्नल अॉफ क्लीनिकल न्यूट्रिशन के अनुसार दही या दूसरे डेयरी उत्पाद कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे को कम करते हैं। दही पाचन क्षमता को भी बढ़ाता है। क्रीमी दही शरीर को कैंसर से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है। 

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...