14 साल की लड़कियों में तेजी से बढ़ रहे हैं अवसाद के लक्षण

0

लिवरपूल यूनिवर्सिटी और लंदन कॉलेज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने साल 2000 और 2001 में पैदा हुए दस हजार से भी ज्यादा बच्चों का परीक्षण किया है। इस स्टडी को नाम दिया गया मिलेनियम कोहॉर्ट स्टडी। इस स्टडी में पाया गया कि 3, 5, 7, 11 और 14 साल के उम्र के बच्चों में मानिसक स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें पनपने लगती हैं। 

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
जो बच्चे 14 साल की दहलीज पर पहुंच गए थे उन्होंने खुद ही डिप्रेशन से जुड़े लक्षणों के बारे में सवाल किए। 14 साल के तमाम किशोरों ने अपनी भावनात्मक दिक्कतें साझा कीं। इसमें जरूरी बात ये सामने आई कि इन बच्चों में से 24 फीसदी लड़कियां और 9 फीसदी लड़के डिप्रेशन के शिकार थे।

व्यवहार की समस्याएं जैसे कि हिस्टीरिक होने का अभिनय करना, लड़ना और विद्रोही हो जाना, इन सब की शुरुआत बचपन में 5 वर्ष से ही शुरू हो जाती हैं। लेकिन फिर 14 वर्ष की आयु तक ये समस्याएं आजकल ज्यादा ही बढ़ती नजर आ रही हैं। बचपन और शुरुआती किशोरावस्था में लड़कियों की व्यवहार समस्याएं होने की तुलना में लड़कों की अधिक संभावना थी। 

लिवरपूल यूनिवर्सिटी और लंदन कॉलेज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने साल 2000 और 2001 में पैदा हुए दस हजार से भी ज्यादा बच्चों का परीक्षण किया है। इस स्टडी को नाम दिया गया मिलेनियम कोहॉर्ट स्टडी। इस स्टडी में पाया गया कि 3, 5, 7, 11 और 14 साल के उम्र के बच्चों में मानिसक स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें पनपने लगती हैं। उनके माता-पिताओं ने खासकर इस उम्र के बच्चों के बारे में समस्याएं बताईं। और जो बच्चे 14 साल की दहलीज पर पहुंच गए थे उन्होंने खुद ही डिप्रेशन से जुड़े लक्षणों के बारे में सवाल किए। 14 साल के तमाम किशोरों ने अपनी भावनात्मक दिक्कतें साझा कीं। इसमें जरूरी बात ये सामने आई कि इन बच्चों में से 24 फीसदी लड़कियां और 9 फीसदी लड़के डिप्रेशन के शिकार थे।

वहां के नेशनल चिल्ड्रेंस ब्यूरो में प्रकाशित अनुसंधान के अनुसार शोधकर्ताओं ने अवसादग्रस्त लक्षणों और परिवार की आय के बीच संबंधों की जांच भी की। आम तौर पर, बेहतर आयवर्ग वाले परिवारों के 14 वर्षीय बच्चों में गरीब घरों के उनके साथियों के मुकाबले अवसादग्रस्त लक्षणों के उच्च स्तर की संभावना नहीं थी। भावनात्मक समस्याओं की माता-पिता की रिपोर्ट बचपन में लड़कों और लड़कियों के लिए लगभग समान थी, जो 11 वर्ष की आयु में सात से 12 प्रतिशत की उम्र के 7 प्रतिशत बच्चों से बढ़ रही थी। लेकिन, 14 साल की उम्र में किशोरावस्था में पहुंचने पर, भावनात्मक समस्याएं लड़कियों में अधिक प्रचलित होकर बढ़ गई थीं।

किशोरावस्था आते ही बदलने लगता है व्यवहार-

व्यवहार की समस्याएं जैसे कि हिस्टीरिक होने का अभिनय करना, लड़ना और विद्रोही हो जाना, इन सब की शुरुआत बचपन में 5 वर्ष से ही शुरू हो जाती हैं। लेकिन फिर 14 वर्ष की आयु तक ये समस्याएं आजकल ज्यादा ही बढ़ती नजर आ रही हैं। बचपन और शुरुआती किशोरावस्था में लड़कियों की व्यवहार समस्याएं होने की तुलना में लड़कों की अधिक संभावना थी। जैसा कि 14 वर्षीय बच्चों की 'अपनी भावनात्मक समस्याओं की अपनी रिपोर्ट उनके माता-पिता के लिए अलग थी, इस शोध में युवाओं के विचारों को अपने मानसिक स्वास्थ्य पर विचार करने के महत्व पर प्रकाश डाला गया।

लिवरपूल इंस्टीट्यूट ऑफ साइकोलॉजी, हेल्थ एंड सोसाइटी विश्वविद्यालय से प्रमुख लेखक डॉ प्रविथा पाटाले के मुताबिक, हाल के वर्षों में बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर एक बढ़ती हुई नीतिगत ध्यान रखा जा रहा है। हालांकि इस पीढ़ी के लिए मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं की राष्ट्रीय स्तर के प्रतिनिधि अनुमानों की कमी हुई है। अन्य शोध में, हमने पिछली पीढ़ियों की तुलना में लड़कियों द्वारा आजकल बढ़ती मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का उल्लेख किया है और इस अध्ययन में अवसाद की चिंताजनक उच्च दर पर प्रकाश डाला गया है।

मिलेनियल समूह अध्ययन के निदेशक प्रोफेसर इम्ला फित्त्सिमन्स के मुताबिक, ये स्पष्ट निष्कर्ष इस बात का सबूत देते हैं कि लड़कियों के बीच मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं तेजी से बढ़ जाती हैं जब वे किशोरावस्था में प्रवेश करती हैं। और इस समृद्ध आंकड़ों के उपयोग के आगे शोध करने के लिए आवश्यक कारणों और परिणामों को समझने के लिए आवश्यक है। इस अध्ययन में आज ब्रिटेन में युवा किशोरों के बीच मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं की सीमा को दर्शाया गया है।

माता-पिता किशोर बच्चों पर दें विशेष ध्यान-

ब्रिटेन के नेशनल चिल्ड्रेन्स ब्यूरो की चीफ एक्जीक्यूटिव, एना फेचटवंग के मुताबिक, हजारों बच्चों के इस अध्ययन से हमें ब्रिटेन में बच्चों के बीच मानसिक स्वास्थ्य की मात्रा के बारे में सबसे ज्यादा मजबूत सबूत मिलते हैं। 14 साल के एक चौथाई के साथ अवसाद के लक्षण दिखाते हुए लड़कियों, यह अब संदेह से परे है कि यह समस्या संकट बिंदु तक पहुंच रही है। चिंता यह है कि माता-पिता अपनी बेटियों की मानसिक स्वास्थ्य की जरूरतों को कमजोर कर सकते हैं। इसके विपरीत, माता-पिता अपने बेटों में लक्षणों को उठा रहे हैं, जो लड़कों ने खुद को रिपोर्ट नहीं किया है। यह महत्वपूर्ण है कि दोनों बच्चे और उनके माता-पिता अपनी आवाज को जल्दी पहचान की संभावना और विशेषज्ञ सहायता तक पहुंच के लिए अधिकतम करने के लिए सुन सकते हैं।

नए शोध में यह भी पता चलता है कि गरीब परिवारों के बच्चों में अवसाद के लक्षण आमतौर पर अधिक सामान्य होते हैं। हम जानते हैं कि वैक्यूम में मानसिक स्वास्थ्य मौजूद नहीं है और सरकार बच्चों की भलाई को बेहतर बनाने की अपनी योजनाओं को प्रकाशित करने के लिए तैयार करती है, इसे नुकसान के अन्य पहलुओं के साथ ओवरलैप को संबोधित करना चाहिए। इस विषय पर पूर्ण अध्ययन का ब्यौरा 'नई शताब्दी के बच्चों के बीच मानसिक बीमार स्वास्थ्य' पर पढ़ा जा सकता है।

ये भी पढ़ें: मलेरिया के शक्तिशाली मच्छरों से लड़ने को वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाली नई दवा

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी