मोबाइल से भुगतान झटपट कहीं भी, कभी भी

Mswipe ने बनाया देश का पहला कार्ड रीडरसाल 2012 में शुरू हुई Mswipe की सेवाएंMswipe में 100 से ज्यादा कर्मचारी

0

कभी आपने किराने वाले की दुकान में जाकर सामान खरीदा हो और जब भारी भुगतान करने की नौबत आये तो आप नकद की जगह उसे कार्ड थमाये जिसे वो स्वीकार ना करे। या फिर आप किसी छोटी सी दुकान में गए हों और वहां पर आपको कोई चीज पसंद आ जाए और जेब में भुगतान लायक पैसे ना हों और आसपास कोई एटीएम भी ना हो, तो ऐसी स्थिति में आप क्या करेंगे। जिंदगी में ऐसा कई बार होता है और हम चाह कर भी खाली हाथ रहते हैं।

पॉइंट ऑफ सेल (पीओएस) यानी बिक्री केंद्र ये वो जगह है जहां पर ग्राहक, किसी दुकानदार को उसकी सेवाएं या वस्तु के बदले भुगतान करता है। देश में छोटे और मध्यम् दर्जे के दुकानदारों के साथ भुगतान को लेकर कई बार ऐसी परेशानियां आती हैं। कुछ इसी तरह की परेशानी का सामना करना पड़ा था उद्यमी मनीष पटेल को जनवरी 2009 में। जब दुकानदार ने उनसे कार्ड लेने से मना कर दिया था। जिसके बाद उन्होने इसका एक प्रभावी तोड़ निकाला और Mswipe Technologies Private Limited के माध्यम् से अपना उद्यम शुरू किया।

Mswipe देश का पहला मोबाइल ब्रिकी केंद्र है जिसे साल 2012 में कार्ड रीडर के साथ शुरू किया गया था। जिसे किसी भी मोबाइल फोन से जोड़ा जा सकता है। Mswipe कार्ड रीडर से कोई दुकानदार कोई भी मोबाइल फोन इस्तेमाल कर सकता है भले ही वो स्मॉर्टफोन ना हो। ये उपकरण तीन चरणों में काम करता है। पहले चरण में फोन के ऑडियो जैक में प्लग लगाना होता है दूसरे चरण में एप्लिकेशन शुरू करनी होती है और तीसरे और अंतिम चरण में कार्ड को स्वैप करना होता है। इस पूरी प्रक्रिया को उन्होने खुद ही विकसित किया है। ये ऐप कई मोबाइल प्लेटफॉर्म में काम करता है।

मनीष का कहना है कि ये बड़ा मौका है छोटे दुकानदारों को अपने साथ जोड़ने का। जिनको मोबाइल भुगतान टर्मिनल का इस्तेमाल करने की इच्छा हो। Mswipe सहज और सस्ता मोबाइल बिक्री केंद्र उपलब्ध कराता है। फिलहाल ये देश के 200 शहरों में काम कर रहा है और कई इंश्योरेंश एजेंट, घर में सामान छोड़ने वाले इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। 6 हजार से ज्यादा कारोबारी इस सेवा को देश भर में इस्तेमाल कर रहे हैं वहीं श्रीलंका में भी इसकी काफी मांग है तभी तो ये वहां पर 1000 से ज्यादा स्टोरों में काम कर रहा है।

ये कितना सरल और सहज है इसका अनुमान इस बात से भी लगाया जा सकता है कि शुरूआत में Mswipe का इस्तेमाल एक सेलून ने किया। कई बार ग्राहक घर तक सेवाएं मांगते हैं और बहुत बार ऐसा होता है कि उनके पास भुगतान के लिए उस वक्त पैसे नहीं होते। ऐसे में पैसा इकठ्ठा करने में उनका काफी वक्त जाया होता है। Mswipe इस समस्या को जड़ से खत्म कर देता है। मनीष बताते हैं कि कुछ दिन पहले उनके ऑफिस में एक एसी ठीक करने वाला आया था जिसने उनसे Mswipe की मांग की थी। वो इस बात को लेकर काफी खुश था कि इसे इस्तेमाल करना काफी आसान और सरल है ऐसे में जब वो एसी ठीक करने किसी के घर या ऑफिस में जाएगा तो उसको भुगतान करने में कोई दिक्कत नहीं होगी।

Mswipe सिर्फ छोटे कारोबारियों की ही मदद नहीं करता बल्कि बड़े कारोबारी भी इसका खूब फायदा उठा रहे हैं। इन कारोबारियों में रिलांयस लाइफ इंश्योरेंश, आईसीआईसीआई प्रू और Eureka Forbes शामिल हैं। ये उपकरण इस्तेमाल में काफी आसान है और ज्यादातर फोन के साथ ये काम करता है। भुगतान के लिए कारोबारी को मशीन में रकम की संख्या डालनी होती है जिसके बाद ग्राहक का कार्ड स्वैप किया जाता है साथ ही ग्राहक का मोबाइल नंबर और ई-मेल की जानकारी भी देनी होती है ताकि भुगतान की रसीद एसएमएस या ई-मेल के जरिये भेजी जा सके। तो दूसरी ओर उस रकम को कारोबारी के खाते में डाल दिया जाता है।

दिसंबर, 2013 में Mswipe की टीम ने पहला ईएमवी कम्प्लाइंट मोबाइल पीओएस सलूशन पेश किया इसमें ब्लू टूथ से भी चल सकता था इसके लिए इसे फोन से साथ जोड़ना जरूरी नहीं होता था। इस मशीन से कारोबारी क्रेडिट या डेबिट कार्ड से उसी स्पीड और सुरक्षा से भुगतान ले सकता था जैसे पारंपरिक पीओएस टर्मिनल से लेते थे। साथ ही इसकी इंटरचेंज फीस भी काफी कम होती थी। इसके अलावा कोई भी कारोबारी किसी भी भुगतान को रद्द कर सकता था साथ ही पिछले 30 लेनदेन की जानकारी ले सकता था इसके अलावा दिन भर का संक्षिप्त विवरण प्राप्त कर सकता है।

मुंबई स्थित इस उद्यम को हाल ही में निवेश मिला है। इसमें मैट्रिक्स पार्टनर्स इंडिया, ऐक्सिस बैंक और डीएसजी कंज्यूमर पार्टनर्स शामिल हैं। इस निवेश का इस्तेमाल कंपनी वितरण के काम को बढ़ाने में लगाएगी। Mswipe ने विभिन्न बैंकों के साथ समझौता किया हुआ है और देश भर के छोटे और मध्यम कोरोबारियों को अपने साथ जोड़ा है। Mswipe में इस वक्त सौ से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं और देशभर में डायरेक्ट सेल्स एजेंट नेटवर्क है जो अपने ग्राहकों को उत्पाद की बिक्री के बाद सेवाएं प्रदान करता है। नए निवेश से कंपनी को उम्मीद है कि अब उसकी पैठ टीयर2 और टीयर 3 शहरों में बढ़ेगी।

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...