टाटा कंपनी ब्रैंड वैल्यू के मामले में लगातार 5वें साल भी रही नंबर वन

0

 यह 5वीं बार है जब टाटा को देश का सर्वश्रेष्ठ ब्रैंड घोषित किया गया। इंटरब्रैंड इंडिया की ओर से जारी की गई रिलीज के मुताबिक 'बेस्ट इंडियन ब्रांड्स रिपोर्ट-2017' के तहत टाटा को सर्वश्रेष्ठ ब्रैंड घोषित किया गया। 

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
इस साल टाटा के ग्रोथ में 0.4 फीसदी की गिरावट आई है, लेकिन फिर भी वह पहले स्थान पर बरकरार रहा। रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि रिलायंस इंडस्ट्री की ब्रैंड वैल्यू 9 प्रतिशत ग्रोथ के साथ 38,212 करोड़ रुपये रही।

देश की बड़ी कपनियां जैसे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, इन्फोसिस, महिंद्रा, आईसीआईसी और गोदरेद टॉप टेन की लिस्ट से बार रहे। स्टेट बैंक की कुल ब्रैंड वैल्यू 24,775 रही। एसबीआई 7 प्रतिशत की दर से वृद्धि कर रहा है।

अगर आपसे पूछा जाए कि वह कौन सी भारतीय कंपनी है जो नमक से लेकर विदेशी कंपनियों के लिए सॉफ्टवेयर तैयार करती है तो आपके दिमाग में सिर्फ एक ही नाम आएगा, टाटा। अगर ब्रैंड वैल्यू की बात करें तो टाटा कंपनी लगातार चार साल से नंबर एक पर कायम है। यह 5वीं बार है जब टाटा को देश का सर्वश्रेष्ठ ब्रैंड घोषित किया गया। इंटरब्रैंड इंडिया की ओर से जारी की गई रिलीज के मुताबिक 'बेस्ट इंडियन ब्रांड्स रिपोर्ट-2017' के तहत टाटा को सर्वश्रेष्ठ ब्रैंड घोषित किया गया। हालांकि हाल ही में लॉन्च हुई मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो को दूसरा स्थान मिला।

इसके पहले दूसरे स्थान पर टेलीकॉम कंपनी एयरटेल को दूसरा स्थान हासिल हुआ था, लेकिन इस बार रिलायंस इंडस्‍ट्रीज ने एयरटेल को पीछे छोड़ते हुए दूसरे पायदान पर पहुंच गई है। रिलायंस इंडस्‍ट्रीज को यह फायदा जियो की लॉन्चिंग के बाद मिला। इस रिपोर्ट के मुताबिक टाटा ग्रुप की ब्रैंड वेल्यू तकरीबन 73,944 करोड़ रूपए है। वहीं दूसरी ओर आमने सामने मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस कंपनी और जियो दूसरे पायदान पर रही है। जिसकी ब्रांड वेल्यू करीब 38,212 करोड़ रूपए है। एयरटेल तीसरे स्थान पर है और इसकी ब्रांड वेल्यू 36,927 करोड़ रूपए है।

इस साल टाटा के ग्रोथ में 0.4 फीसदी की गिरावट आई है, लेकिन फिर भी वह पहले स्थान पर बरकरार रहा। रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि रिलायंस इंडस्ट्री की ब्रैंड वैल्यू 9 प्रतिशत ग्रोथ के साथ 38,212 करोड़ रुपये रही। वहीं एयरटेल की ब्रैंड वैल्यू 5 प्रतिशत सालाना ग्रोथ के साथ 36,927 रही। इन कंपनियों के बाद एचडीएफसी बैंक और एलआईसी का नंबर आया जो क्रमश: चौथे और पांचवे नंबर पर रहीं। इन दोनों कंपनियों की सालाना ग्रोथ 9 प्रतिशत रही। एचडीएफसी की ब्रैंड वैल्यू 26,305 करोड़ रही वहीं भारतीय जीवन बीमा निगम की ब्रैंड वैल्यू 25,774 करोड़ रुपये।

देश की बड़ी कपनियां जैसे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, इन्फोसिस, महिंद्रा, आईसीआईसी और गोदरेद टॉप टेन की लिस्ट से बार रहे। स्टेट बैंक की कुल ब्रैंड वैल्यू 24,775 रही। एसबीआई 7 प्रतिशत की दर से वृद्धि कर रहा है। वहीं इन्फोसिस 23,291 करोड़ और महिंद्रा के पास 16,915 करोड़ की ब्रैंड वैल्यू है। गोदरेज के बाद कंस्ट्रक्शन और भारी निर्माण कंपनी एल ऐंड टी को 11वां स्थान मिला। इंटरब्रैंड इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर आशीष मिश्रा ने कहा, 'हमारे विश्लेषण से इन ग्लोबल कंपनियों के बारे में सीधा सच जानने को मिला है। बदलते बाजार में ब्रैंड वैल्यू की अपनी ही अहमियत है।'

यह भी पढ़ें: कारोबारी सुगमता की रिपोर्ट पर इंद्रा नूयी ने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था शानदार प्रगति पर 

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...