डिजिटल इकॉनमी से जुड़कर बिजनेस को ऊंचाइयों तक पहुंचा रहा है प्रियंका कंवर का फिनटेक स्टार्टअप 

0

देश में अब बैंकिंग का तरीका बदल रहा है और इसमें एक बड़ा हाथ है फिनटेक या फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी कंपनियों का। ये कंपनियां अपने इनोवेशन की वजह से देश के कोने-कोने में बैंकिंग सर्विस पहुंचाने में मददगार रही हैं। यही वजह है कि अब बैंक इन्हें अपना प्रतिद्वंद्वी नहीं, बल्कि पार्टनर मानने लगे हैं।

प्रियंका कंवर (फाइल फोटो)
प्रियंका कंवर (फाइल फोटो)
कंपनी ने वीजा, मास्टरकार्ड और रुपे सहित कई विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त सर्विस प्रोवाइडर के साथ साझेदारी की है। अन्य भागीदारों में कई शीर्ष फाइनेंशियल और बी 2 बी संस्थान शामिल हैं, जो काइट के ग्राहकों को अन्य समाधानों की एक सीरीज तक पहुंच प्रदान करते हैं।

काइट भारतीय व्यवसायों, उनके कर्मचारियों और उससे हटकर लोगों के लिए सुलभ, सुरक्षित और आधुनिक फाइनेंस देता है। बतौर टीनेजर, प्रियंका कंवर हर दिन वो काम करतीं थी जिसमें उन्हें आनंद आता था और जिसमें उन्हें लगता था कि ये वो काम है जो जीवन के मिसन को बदल सकता है। प्रियंका कहती हैं कि वह अपनी सीमाओं को और बढ़ा रहीं थीं, नई चीजें तेजी से सीख रहीं थीं साथ ही हर कदम पर बड़ी चुनौतियों का सामना भी कर रही थीं। वो इसलिए क्योंकि वह लगातार एक व्यक्ति के रूप में विकसित होना चाहतीं थीं। उनका दूसरा मिशन लोगों को सशक्त बनाने में मदद करना था, चाहे वह उनका परिवार और मित्र हो, या फिर वो लोग हों जिनसे उन्होंने कभी मुलाकात भी नहीं की थी।

जैसे-जैसे वह बड़ी हुईं, उन्होंने हर वो काम बिना डगमगाए किया जिसे वे करना चाहती थीं। लेकिन, सबसे पहले, अधिकांश अचीवर्स की तरह, अच्छी शिक्षा प्राप्त करना सबसे महत्वपूर्ण था। उन्होंने येल विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में ग्रेजुएट होने के बाद एक्सेंचर और एचएसबीसी जैसी क्लासिक बैंकिंग और कंसल्टिंग कंपनियों से विभिन्न तरह का अनुभव हासिल किया। इसके अलावा उन्होंने बतौर छात्र कुछ वैश्विक गैर लाभकारी संस्थाओं का संचालन भी किया।

हालांकि, प्रियंका का दिल हमेशा उन्हें उद्यमिता की ओर अकर्षित करत रहता था। इसलिए उन्होंने जोखिम उठाया और 'काइट' स्टार्टअप शुरू किया। काइट एक फिनटेक स्टार्टअप हैं जो लोगों की फाइनेंस और टेक्नॉलोजी तक बेहतर पहुंच बनाने के लिए उन्हें सशक्त करता है। दरअसल कुछ समय पहले प्रियंका ने अपने सबसे अच्छे दोस्त प्रभातेज सिंह भाटिया के साथ वर्षों से इन मुद्दों पर चर्चा की थी। जिसके बाद दोनों ने अहसास किया कि, यदि वे अपनी संबंधित स्किल्स का इस्तेमाल करते हैं तो- अकैडमिक्स में प्रियंका और व्यवसाय में प्रभातेज मिलकर भारत में फाइनेंस में काम करने वाले स्टार्टअप का निर्माण कर सकते हैं।

गौरतलब है कि देश में अब बैंकिंग का तरीका बदल रहा है और इसमें एक बड़ा हाथ है फिनटेक या फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी कंपनियों का। ये कंपनियां अपने इनोवेशन की वजह से देश के कोने-कोने में बैंकिंग सर्विस पहुंचाने में मददगार रही हैं। यही वजह है कि अब बैंक इन्हें अपना प्रतिद्वंद्वी नहीं, बल्कि पार्टनर मानने लगे हैं।

डिजिटल इकॉनमी के लिए फाइनेंस समाधान

प्रियंका कहती हैं कि, "काइट पिछले साल इस धारणा के साथ लॉन्च किया गया था कि भारतीय फाइनेंस को तत्काल आधुनिक मरम्मत की आवश्यकता है। जैसा कि हमने देखा, भारतीय अर्थव्यवस्था पुरानी स्कूली तकनीक और पुरानी सोच पर चली आ रही है, जहां एक बैंक अपनी चार दीवारों तक ही सीमित था, और लाखों लोगों की अभी भी बुनियादी वित्तीय अवसरों तक पहुंच नहीं थी। हमने महसूस किया कि केवल व्यवसायों और उपभोक्ताओं को ही समान रूप से बेहतर फाइनेंस समाधान की आवश्यकता नहीं थी, बल्कि एक पूरे सिस्टम को थी जो उन्हें आगे बढ़ने के लिए सपोर्ट करता है।"

कई उद्यमियों और व्यवसायों के साथ बातचीत के बाद, वे अंतराल और अक्षमताओं की पहचान करने में कामयाब रहे। प्रियंका बताती हैं, "औसत मिडसाइज बिजनेस सालाना 65 लाख रुपये कर बचत के चक्कर में गंवा देता है। इसके अलावा अकाउंटेंट्स 250 से अधिक कार्यदिवस मैन्युअल फाइनेंस प्रक्रियाओं का प्रबंधन करने में खर्च कर देते हैं। इस अक्षमता का मतलब है कि भारतीय अर्थव्यवस्था खराब ट्रैकिंग और बर्बाद कार्यदिवस से पीड़ित है। लेकिन जीएसटी जैसे बदलाव और कैश-लेस अर्थव्यवस्था के प्रयासों के साथ, लाखों व्यवसाय इस औपचारिक क्षेत्र में प्रवेश करने वाले हैं। काइट का लक्ष्य इस नई डिजिटल अर्थव्यवस्था के लिए सुलभ, सुरक्षित और आधुनिक फाइनेंस समाधान बनाना है। देश के कुछ प्रसिद्ध संस्थानों के साथ साझेदारी के तहत, हम फाइनेंशियल खुफिया जानकारी से प्रेरित अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए एक संपूर्ण पारिस्थितिक तंत्र बना रहे हैं, जिससे व्यवसाय अपनी बॉटम लाइन के बजाय अपनी सफलता पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।"

काइट के प्लेटफॉर्म ने लेनदेन में $70 मिलियन से अधिक की प्रक्रिया पूर की है। ये स्टार्टअप 1,200 शहरों से 110,000 उपयोगकर्ताओं को अपनी सेवा दे रहा है जो छह मिलियन से अधिक डेटा पॉइंट्स के साथ अपनी मजबूत फाइनेंशियल पहचान भी बना रहा है। कंपनी ने वीजा, मास्टरकार्ड और रुपे सहित कई विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त सर्विस प्रोवाइडर के साथ साझेदारी की है। अन्य भागीदारों में कई शीर्ष फाइनेंशियल और बी 2 बी संस्थान शामिल हैं, जो काइट के ग्राहकों को अन्य समाधानों की एक सीरीज तक पहुंच प्रदान करते हैं। काइट ने अपने आधुनिक और सुलभ वित्तीय समाधानों के माध्यम से, बैंकों की वितरण आवश्यकताओं को हल करने के लिए भारत के 10 सबसे बड़े बैंकों के साथ कई समझौते किए हैं। ये भागीदारी वैश्विक स्तर पर काइट को 40 मिलियन से अधिक व्यापारियों तक पहुंच बनाने में मदद करती है।

फायरफाइटिंग मोड में

अक्सर एक नए स्टार्टअप को कई चुनौतियों से गुजरना होता है, काइट इससे अलग नहीं था। प्रियंका कहती हैं "जब आप एक कंपनी चला रहे हैं, तो हर दिन एक नई, अप्रत्याशित चुनौती आपके सामने रहती है। छोटी-छोटी चुनौतियों से निपटने के लिए लोगों को पूरी तरह से चुस्त और तकनीकी में परफेक्ट रहना होता। जैसे किसी स्थापित भागीदारों के साथ सही डील हासिल करने के लिए आपको पर्याप्त विश्वसनीयता हासिल करनी होती। हालांकि ऐसे मौकों पर मैं फायरफाइटिंग मोड में रहती हूं। पीछे देखूं तो, एक उद्यमी के रूप में मैंने जो सबसे बड़ी चुनौती का सामना किया है, वह खुद को साबित करना है। अब मैं इस तरह के जोखिम को खतरनाक और बड़े पैमाने पर ले सकती हूं। ऐसे कई क्षण रहे हैं जहां मैंने खुद को एक युवा उद्यमी के तौर पर संदेह से देखा। लेकिन मुझे खुशी है कि मैं पहले से कहीं अधिक मजबूत हो गई हूं।"

महिलाओं का स्वागत करना चाहिए

हालांकि प्रियंका खुश हैं कि भारत में स्टार्टअप पारिस्थितिक तंत्र और विश्व स्तर पर महिला उद्यमियों को बेहतर समर्थन देने के लिए विकसित हुआ है। उनका मानना है कि महिलाओं के संस्थापकों के रूप में सफल होने के लिए इसे और अधिक करने की जरूरत है। वह कहती हैं कि "तथ्य यह है कि पिछले साल इक्विटी फंडिंग का केवल दो प्रतिशत भारत में महिला संस्थापकों के पास गया था, जो एक गहरी समस्या है। चाहे वह 22 वर्षीय इंजीनियरिंग स्नातक हो या 36 वर्षीय मां, सभी को स्टार्टअप शुरू करने का जोखिम उठाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। उन्हें निवेशकों के साथ पूर्वाग्रह का सामना न करना पड़े, इसके लिए हमें महिलाओं को हर कदम पर और अधिक सहायता देने की जरूरत है। महिलाओं का इस पारिस्थितिकी तंत्र में स्वागत होना चाहिए। हमें मजबूत महिला रोल मॉडल, अधिक महिला-केंद्रित उद्यम, सलाहकारों तक बेहतर पहुंच और महिला उद्यमियों को सेलीब्रेट करना चाहिए।" यह केवल फंडिंग के बारे में नहीं है कि महिलाओं को चिंता करने की जरूरत हो। बल्कि यह सेक्सिज्म, स्टीरियोटाइपिंग और पुराने ढर्रे के बारे में है।

प्रियंका आगे कहती हैं कि, "मैं फाइनेंस में काम करती हूं, लेकिन आप एक ऐसे बड़े बैंक में पारंपरिक सूट पहने हुए 45 वर्षीय पुरुषों से भरे कमरे की कल्पना करिए जहां एक युवा महिला ड्रेस में कारोबार की बातें करती है। मेरे साथ निश्चितरूप से कई ऐसे पल आए जब रूढ़िवादी बिजनेसमैन लोगों ने मेरे साथ बातचीत के दौरान कोई आई कॉनटैक्ट नहीं बनाया बल्कि मेरे पुरुष सह-संस्थापक जो भी बोल रहे थे वे उस पर ध्यान दे रहे थे।" वह कहती हैं कि इस तरह की छोटी घटनाओं ने मुझे पहले कमजोर किया, लेकिन अब मैं उन पर हंसती हूं। प्रियंका कहती हैं कि महिला उद्यमियों को पहले खुद पर विश्वास करने की जरूरत है। अगर उनके अंदर दृढ़ विश्वास है को वे किसी भी स्टीरियोटाइप को तोड़ सकती हैं।

पहुंच में सुधार और प्रभाव पैदा करना

फिलहाल, प्रियंका काइट का विस्तार करने और दुनिया भर के व्यवसायों और कर्मचारियों के लिए सबसे नवीन वित्तीय मंच में इसे बदलने पर केंद्रित है। वे कहती हैं कि "हम यह सुनिश्चित करने के लिए सावधानीपूर्वक हमारी कोर तकनीक का निर्माण कर रहे हैं ताकि यह विभिन्न उत्पादों, क्लाइंट सेगमेंट और भौगोलिक क्षेत्रों में तेजी से स्केल कर सके। जल्द ही लॉन्च होने वाली कुछ बहुत ही रोचक और बड़े पैमाने पर साझेदारी के साथ, मैं कंपनी को अगले स्तर पर ले जाने के लिए उत्साहित हूं, और भारत में एसएमबी के लिए क्रेडिट और बीमा तक पहुंच में सुधार करने के लिए विशेष रूप से उत्सुक हूं।" वह शिक्षा, काम के अवसरों और उद्यमिता के लिए समर्थन के साथ वंचित समुदायों को सशक्त बनाने के लिए काइट की तकनीकी विशेषज्ञता और व्यापार नेटवर्क का उपयोग करते हुए शक्तिशाली मंच बनाना चाहती हैं।

यह भी पढ़ें: कॉम्पिटिशन की तैयारी करने वाले बच्चों को खुद पढ़ा रहे जम्मू के एसपी संदीप चौधरी

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी