सफल महिला उद्यमियों का सफलता का सूत्र उन्हीं की जुबानी

0


हममें से हर किसी के भीतर एक छिपी हुई लालसा होती है कि काश किसी तरह से हमारे हाथ सफलता को पाने का गुप्त सूत्र लग जाए। महिला उद्यमिता दिवस के मौके पर याॅरस्टोरी ने एक सवाल पांच सफल महिला उद्यमियों के सामने रखा।

हमने उनसे पूछा कि एक सफल व्यपार के निर्माण के लिये सबसे आवश्यक गुण क्या है और जवाब के रूप में जो हमारे सामने आया वह कुछ यूँ हैः

स्वाति भार्गव मात्र दो दिन पहले ही फंडिग की घोषणा करने वाली कंपनी कैशकरो (CashKaro) की सहसंस्थापक हैं। उनकी कंपनी कालारी कैपिटल से 25 करोड़ का ए सीरीज का निवेश पाने में सफल रही है। स्वाति का मानना है कि मल्टीटास्किंग सफलता को पाने का सबसे सटीक और कारगर नुस्खा है। वे कहती हैं, ‘‘महिलाओं के पास घर और परिवार के मोर्चे पर कई जिम्मेदारियां होती हैं जिनका उन्हें निर्वहन करना पड़ता है। वे चाहे अपने करियर में कितना ही ऊँचा मुकाम क्यों न पा लें वे किसी भी सूरत में इन जिम्मेदारियों से दूर नहीं भाग सकतीं। किसी भी स्टार्टअप को आपका 200 प्रतिशत चाहिये होता है और ऐसे में महिलाओं को अपने समय का प्रबंधन करना एक सबसे बड़ी चुनौती होता है। मुझे इस बात का विश्वास है कि निःसंदेह महिलाएं मल्टीटास्किंग में बेहतर होती हैं, और अधिकतर मौकों से पुरुषों की तुलना में अधिक!’’

स्वाति बेडेकर अपने वात्सल्य फांउडेशन के माध्यम से ग्रामीण इलाकों में रहने वाली महिलाओं के बीच मासिक धर्म को लेकर एक स्वच्छ ईको-सिस्टम तैयार करने की दिशा में काम कर रही हैं। स्वाति के अनुसार, ‘‘किसी भी महिला उद्यमी में स्वयं के अलावा अपनी दृष्टि, क्षमता और जानकारी के प्रति आत्मविश्वास का भाव होना बहुत आवश्यक है। इसके अलावा व्यक्तित्व में दृढ़ता का भाव होना बहुत जरूरी है।’’

बिटगिविंग (BitGiving) की 26 वर्षीय सहसंस्थापक और सीईओ इशिता आनंद का मानना है कि दृढ़ता और मोटी चमड़ी का होना सफलता का मुख्य सूत्र है। वे कहती हैं, ‘‘अक्सर होता यह है कि महिलाएं खुद पर बहुत अधिक बोझ डाल लेती हैं, और चूंकि एक उद्यमी का सफर वैसे ही बहुत कठिन होता है ऐसे में यह बहुत आवश्यक होता है कि आप अपना आत्मविश्वास बनाए रखें और अपनी काबिलियत पर भरोसा रखें। किसी भी उद्वमी के लिये इन दो चीजों से भरोसा हटने से बुरा कुछ नहीं हो सकता।’’

जाॅब्सफाॅरहर (JobsForHer) की संस्थापक नेहा बगारिया कहती हैं, ‘‘वे कहते हैं कि आप अपने लिये जो सीमाएं तय कर लेते हैं आपके जीवन में सिर्फ वही होती हैं। और जो महिला उद्यमी खुद को गहराई से, विस्तार करने और बड़े सपने देखने से रोकती हैं यह उनपर बड़े दर्दनाक तरीके से लागू होता है। ऐसे में किसी भी महिला उद्यमी को एक स्टार्टअप के सफल संचालन के लिये सबसे पहले तो अपनी काबिलियत पर भरोसा हो चाहिये। हमें स्वयं को अपनी परवरिश और समाज द्वारा अपने लिये निर्धारित की गई बंदिशों की दीवारों से बाहर लाने की जरूरत है और इसे पीछे छोड़ते हुए हम सफलता पर अपना दावा पेश कर सकती हैं।’’ उनका यह उद्यम महिलाओं को शादी के टूटने के बाद, मातृत्व के बाद, बुजुर्गों की देखभाल इत्यादि से जुड़े काम दिलवाकर उन्हें अपने पैरों पर खड़ा करने में मदद करता है।

हाईजीन एंड यू की संस्थापक प्रियंका जैन कहती हैं, ‘‘किसी भी महिला उद्यमी के पास ‘‘अपनी सोच को पूरा करने की प्रतिबद्धता’ जरूर होनी चाहिये क्योंकि कई प्रकार की चुनौतियों से परिपूर्ण उद्यमिता के सफर के दौरान ऐसे कई मौके आते हैं जब आपके भटक जाने की संभावनाएं काफी बढ़ जाती हैं।’’

तो सफलता के लिये आपका पसंदीदा नुस्खा क्या है आप भी बताइये?

लेखिकाः तनवी दुबे

अनुवादकः निशांत गोयल

Worked with Media barons like TEHELKA, TIMES NOW & NDTV. Presently working as freelance writer, translator, voice over artist. Writing is my passion.

Stories by Nishant Goel