अपने कर्मचारियों को लाखों का दिवाली गिफ्ट देने वाले बिजनेसमैन की कहानी

0

आज धनतेरस, परसो दिवाली, पैसे वालों के त्योहार। जिनकी जेब में फूटी कौड़ी नहीं, उनकी बात अब करे भी कौन, वह भी धनतेरस के दिन। आज तो 31 लाख गिफ्ट पाने वाली नौकरानी और उस हीरा कारोबारी ढोलकिया की बातें, जो अपने इक्का-दुक्का नहीं, बल्कि साढ़े पांच हजार कर्मचारियों को कारें गिफ्ट कर नाम कमा रहे हैं।

कर्मचारियों को दी जाने वाली महंगी लग्जरी कारें
कर्मचारियों को दी जाने वाली महंगी लग्जरी कारें
 कभी अपने चाचा से मामूली लोन लेकर हीरे का व्यापार शुरू करने वाले सूरत के हीरा कारोबारी सावजी ढोलकिया ने इस दिवाली पर अपने छह सौ कर्मचारियों को तोहफ़े में कार और नौ सो कर्मचारियों को एफ़डी (फिक्‍स्‍ड डिपोजिट) दी है।

धरती के कुबेर दिल खोलकर मेहरबान हैं। दिवाली-धनतेरस पर कंपनियां अपने कर्मचारियों पर धन वर्षा कर रही हैं। सूरत के हीरा कारोबारी सावजी ढोलकिया ने अपने छह सौ कर्मचारियों को कारें दी हैं तो 'कैपिटल फर्स्‍ट' के चेयरमैन वैद्यनाथन वेंबू नौकरानी को 31 लाख रुपए का दिवाली गिफ्ट दे रहे हैं। यहां तक कि स्टार्ट-अप कंपनी 'हेकिल' ने भी अपने चार कर्मचारियों को महंगी कारें उपहार में दी हैं। दिवाली के मौके पर एक दूसरे को उपहार देने का चलन वैसे तो पुराना है लेकिन अगर ये गिफ्ट लाखों नहीं, करोड़ों में हों, फिर तो इस छप्पर फाड़ गिफ्ट्स के क्या कहने। इस दानगीरी में सरकारें भी भला कैसे पीछे हों। हिमाचल सरकार ने अपने चार लाख कर्मचारियों, पेंशनरों को दिवाली तोहफे में छह फीसदी महंगाई भत्ता दिया है। यूपी सरकार ने राज्य कर्मचारियों को 982 करोड़ रुपए का बोनस और डीए का डबल गिफ्ट दिया है।

महाराष्‍ट्र सरकार ने बृह्नमुंबई इलेक्ट्रिक सप्‍लाई और ट्रांसपोर्ट के हर कर्मचारी को साढ़े पांच-पांच हजार रुपए बोनस का तोहफा दिया है। इस बार देश के 12 लाख नॉन गजटेड रेल कर्मचारियों की भी 78 दिन के वेतन बोनस के रूप में अठारह-अठारह हजार रुपए मिलने से बल्ले-बल्ले हो रही है। करोड़ों कर्मचारियों को धनतेरस से पहले वेतन मिला है। इस अकूत धन वर्षा का असर धनतेरस और दिवाली के लिए सजे बाजारों पर भी दिख रहा है। बाजारों की शाम खूब गुलजार हो रही हैं।

नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनी 'कैपिटल फर्स्‍ट' के चेयरमैन वैद्यनाथन वेंबू ने अपने सहयोगियों, पर्सनल स्‍टाफ और नजदीकी रिश्‍तेदारों को 20 करोड़ रुपए कीमत के शेयर दिवाली गिफ्ट के रूप में दिए हैं। उन्होंने 4.29 लाख शेयर गिफ्ट किए हैं। स्टॉक एक्सचेंज बीएसई को दी गई जानकारी के मुताबिक, वैद्यनाथन ने कंपनी में अपनी निजी हिस्सेदारी से कैपिटल फर्स्ट के 26 कर्मचारियों को ये शेयर दिए हैं। इनमें 3 कंपनी के पूर्व कर्मचारी हैं। इसके अलावा 10 रिश्तेदार और 5 उनके निजी स्टाफ लोग भी उपहार पाने वालों में शामिल हैं। निजी स्टाफ में ड्राइवर और घर में काम करने वाली नौकरानी को 6500-6500 शेयर दिए हैं। फिलहाल कैपिटल फर्स्ट के एक शेयर की कीमत 478.60 रुपए है और इस हिसाब से ड्राइवर और नौकरानी को 31-31 लाख रुपए के गिफ्ट मिले।

वैद्यनाथन ने 11-11 हजार शेयर वैद्यनाथन के 23 सहयोगियों और 3 पूर्व कर्मचारियों को दिए है। उनके भाई सत्यमूर्थी वेंबू को 26,000 शेयर और अन्य भाई कृष्णामूर्थी को 13,000 शेयर गिफ्ट में मिले। इसके अलावा 71,500 लाख शेयर वैद्यनाथन के नजदीकी परिवार के 8 सदस्‍यों और रिश्‍तेदारों को दिए जाएंगे। यह उपहार देने से पहले वैद्यनाथन के पास कंपनी के 40.4 लाख शेयर या 4.08 फीसदी हिस्‍सेदारी थी। अब उनके पास 36.11 लाख शेयर बचे हैं।

यह भी कितनी हैरत की बात हो सकती है कि कभी अपने चाचा से मामूली लोन लेकर हीरे का व्यापार शुरू करने वाले सूरत के हीरा कारोबारी सावजी ढोलकिया ने इस दिवाली पर अपने छह सौ कर्मचारियों को तोहफ़े में कार और नौ सो कर्मचारियों को एफ़डी (फिक्‍स्‍ड डिपोजिट) दी है। इस बार खास बात ये रही है कि पहली बार चार कर्मचारियों को ये तोहफ़ा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों से दिल्ली में दिया गया। ढोलकिया के मुताबिक लॉयल्टी प्रोग्राम के तहत 1500 कर्मचारी चुने गए थे, जिनमें से 600 ने कार और बाकी 900 ने बैंक में एफ़डी की मांग की थी। 

ढोलकिया ने अपनी कंपनी हरे कृष्‍णा एक्‍सपोर्ट्स के 600 कर्मचारियों को कार की चाबियां सौंपी हैं। ऐसा पहली बार हुआ, जब दिल्‍ली में 'स्किल इंडिया इंसेंटिव सेरेमनी' में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक दिव्‍यांग महिला कर्मचारी समेत चार कर्मचारियों को नई कार की चाबियां सौंपीं। इस वर्ष कंपनी के कर्मचारियों को रेनॉ क्विड और मरुति सुजुकी सेलेरियो कारें मिली हैं। दोनों ही कारों की ऑन रोड कीमत क्रमश: 4.4 लाख और 5.38 लाख रुपये है। ढोलकिया ने बताया है कि कंपनी में करीब 5500 कर्मचारी हैं, जिनमें से 4,000 को उनके उपहार मिल भी चुके हैं। 2016 में ढोलकिया ने अपने कर्मचारियों को 400 फ्लैट और 1260 कारें उपहार में दी थीं, वही 2015 में 491 कारें और 200 फ्लैट दिए गए थे। हालांकि पिछले वर्ष 2017 में ऐसे उपहार नहीं बांटे गए थे।

ये तो कुछ खास बड़े कारोबारियों के दिवाली गिफ्ट की दास्तानें रहीं। वैश्विक ग्राहकों को वित्तीय आंकड़े उपलब्ध कराने वाली स्टार्ट-अप कंपनी 'हेकिल' ने भी अपने चार कर्मचारियों को महंगी कारें उपहार में दी हैं। इससे कुछ दिन पहले रीयल्टी पोर्टल हाउसिंग डॉट काम के प्रमुख राहुल यादव अपने निजी शेयर कर्मचारियों के बीच बांटकर सुर्खियां बटोर चुके हैं। हेकिल ने सबसे अच्छा निष्पादन करने वाले चार में से दो कर्मचारियों को हुंदै एक्सेंट और अन्य दो कर्मचारियों को आई-10 ग्रैंड उपहार में दी है। कंपनी में कुल 23 कर्मचारी कार्यरत हैं। जब सरकारें भी दिवाली पर करोड़ों के गिफ्ट दे रही हैं तो ऐसे अंदेशे भी लाजमी हैं कि तीन राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव और कुछ माह बाद संभावित लोकसभा चुनाव के लिए मतदाताओं की जेब किस तरह भारी कर दी जाए, पार्टियां भी कुछ न कुछ जुगत जरूर तलाश रही होंगी। वैसे भी इतने बड़े देश में चुनाव आयोग और अदालतें किस-किस की मनमानी को जरायम मानें। 

यह भी पढ़ें: शराब पीकर गाड़ी चलाने से रोकने के लिए शुरू हुआ 'ड्राइव सेफ डैडी' कैंपेन 

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

पत्रकार/ लेखक/ साहित्यकार/ कवि/ विचारक/ स्वतंत्र पत्रकार हैं। हिन्दी पत्रकारिता में 35 सालों से सक्रीय हैं। हिन्दी के लीडिंग न्यूज़ पेपर 'अमर उजाला', 'दैनिक जागरण' और 'आज' में 35 वर्षों तक कार्यरत रहे हैं। अब तक हिन्दी की दस किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनमें 6 मीडिया पर और 4 कविता संग्रह हैं।

Related Stories

Stories by जय प्रकाश जय