इन मानवीय मूल्यों के कारण महान थे महाराणा प्रताप

2

महाराणा प्रताप ऐसे व्यक्ति थे जो अपने अस्तित्व को तिरोहित नहीं होने देना चाहते थे। उनका संघर्ष, हर उस सच्चे और निष्ठावान मानव का संघर्ष है जो उसे मानव होने के लिए सिद्ध करना होता है। प्रत्येक का अपना अस्तित्व है। जब किसी के अस्तित्व-बिम्ब को एक आंधी उखाड़ फेंकना चाहती है तब सहज महाराणा प्रताप की याद आने लगती है।

महाराणा प्रताप (फोटो साभार- शटरस्टॉक)
महाराणा प्रताप (फोटो साभार- शटरस्टॉक)
कहते हैं कि बहती धारा में कोई पेड़ उग नहीं पाता है। लेकिन कुछ हठीले दरख्त ऐसे भी होते हैं जिन्हे समय का सैलाब भी बहा नहीं पाता है। वह अविचल, अडिग खड़े रहते हैं प्रलयंकारी तूफानों में। धारा का तेज बहाव, समय की तपिश, तूफानों के रक्ताभ थपेड़े उनका बाल भी बांका नहीं कर पाते हैं।

महाराणा प्रताप की सालगिरह के दो दिन पहले ही मुल्क के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में आरएसएस की पत्रिका अवध प्रहरी के महाराणा प्रताप विशेषांक के विमोचन कार्यक्रम में शिरकत करते हुये अपने संबोधन में, अकबर नहीं महाराणा थे महान, कह कर फिर एक बार महान कौन, का सवाल खड़ा कर दिया है। कुछ लोग 2019 के चुनावी समर से इस बयान को जोड़ कर देख रहे हैं। किंतु योगी आदित्यनाथ तो दशकों से महाराणा को महान कहते आ रहे हैं। महानता के अपने-अपने मापदंड हो सकते हैं। जैसे मेरा मानना है कि महान बनने के लिये किसी भी व्यक्ति अथवा शासक में मानवता का होना बुनियादी शर्त है। वह जितना अधिक मानवीय मूल्यों और जन पक्षधरता के निकट होगा, महानता से समीपता बढ़ती चली जायेगी।

मानवीय मूल्य और जन पक्षधरता वाले निणर्यों की बुनियाद पर मैं महाराणा प्रताप को समकालीन इतिहास का महान शासक मानता हूं। अब प्रश्न है कि आखिर महाराणा में महानता थी क्या? महाराणा की महानता को जानने के लिये इंटरनेट की तरंगों पर मचल रही 21वीं सदी को थोड़ा पीछे मुड़ कर उस कालखंड की तरफ देखना पड़ेगा जब भारत का स्वर्ण काल बीत चुका था। इंद्रप्रस्थ का सिंहासन बन चुका था तख्त-ए-दिल्ली। चंगेज खान के फरजंद (उत्तराधिकारी) लूटने लगे थे इस देव भूमि को। जिन्हें कभी सूर्य और चंद्र के वशंज होने का अभिमान था वो क्षत्रिय, अब कुरनीस करने लगे थे जलालुद्दीन मोहम्मद अकबर के दरबार में।

मुगलों के परचम तले भारतवर्ष के बड़े-बड़े राज्य अपना अस्तित्व खो रहे थे। जो कल तक राजा थे, वह आज मनसबदार बन कर खुद को महफूज समझ रहे थे। कहीं से बगावत की कोई आवाज नहीं आ रही थी। सत्य ने सत्ता के सम्मुख समर्पण कर दिया था। कहते हैं कि बहती धारा में कोई पेड़ उग नहीं पाता है। लेकिन कुछ हठीले दरख्त ऐसे भी होते हैं जिन्हे समय का सैलाब भी बहा नहीं पाता है। वह अविचल, अडिग खड़े रहते हैं प्रलयंकारी तूफानों में। धारा का तेज बहाव, समय की तपिश, तूफानों के रक्ताभ थपेड़े उनका बाल भी बांका नहीं कर पाते हैं।

उस वक्त, कुछ ऐसे ही मतवाले दरख्तों से लहलहा रही थी वीर मेवाड़ की धरती, जब अपने साम्राज्यवादी मंसूबों की कुत्सित पिपासा को मिटाने के लिये अकबर तेजी से मेवाड़ की ओर आगे बढ़ रहा था। और मेवाड़ मचल रहा था स्वाधीनता के अमर गायक महाराणा प्रताप की तान पर। वो महाराणा, जिसने वीरता के प्रतिमानों को ही बदल दिया। वो, महाराणा जिसने मृत्यु की नाद पर जीवन को थिरकना सिखाया। वो महाराणा, जिसकी रगों में महारानी पद्मनी का तेज, राणा सांगा का पराक्रम, माता पन्ना धाय का त्याग, संस्कार बन कर दौड़ रहा था। भला उसे अकबर नाम का अंधड़ क्या परेशान करता। लालच के पृष्ठ पर अपमान के अक्षरों से लिखे तमाम संधि प्रस्तावों पर स्वाभिमान की स्याही उड़ेलता रहा महाराणा। लिहाजा सज गई हल्दीघाटी। शायद हल्दीघाटी के हिस्से में भी वीरों की तपस्थली होने का गौरव आना था। हल्दीघाटी की जय-पराजय तो अलग विषय है लेकिन अकबर को इस युद्ध के बाद यह ज्ञात हो गया कि आगे का मार्ग आसान नहीं है। उसके अविजित होने का दंभ हिल गया। सम्पूर्ण भारतवर्ष ने महाराणा में एक नई उम्मीद देखनी प्रारम्भ कर दी। अब प्रताप का संघर्ष हर उस व्यक्ति और समाज के लिये प्रेरणा बन चुका था, जो अपने अस्तित्व की रक्षा को अपना धर्म समझता था।

यह विडंबना ही है कि जन समान्य और इतिहासकार, महज हल्दीघाटी के युद्ध तक ही सीमित कर देते हैं प्रताप को। जबकि सच तो यह है कि महाराणा अपने कालखंड के सबसे बड़े समाज सुधारक थे। अब देखिये न, जातीय जड़ता में जकड़े हुये मध्यकालीन युग में प्रताप ने अपनी सेना में अछूत समझे जाने वाले दलित धांगर बिरादरी के लोगों को न केवल शामिल किया था बल्कि उन्हें सेना की अगली कतार में चलने का गौरव भी प्रदान किया। यह किसी भी वंचित समुदाय को योद्धा बनाने की युगांतकारी पहल थी। राणा प्रताप ने बाल्यकाल से ही भीलों को हमेशा सम्मान की दृष्टि से देखा और तात्कालीन समाज में व्याप्त अनेक जातीय शिष्टाचार को दरकिनार कर उनके साथ एक पंगत में बैठ भोजन करते थे राणा। यह स्वामी भक्त भीलों के शौर्य और राणा के समतामूलक विचारों का ही परिणाम है कि आज भी मेवाड़ राजवंश के प्रतीक चिन्ह पर एक ओर क्षत्रिय खड़ा है तो दूसरी ओर भील। यही नहीं, अनेक अवरोधों के बावजूद सामाजिक समरसता में एक कदम आगे बढ़ते हुये अफगान पठान हकीम खां सूर के दल को अपने हरावल दस्ते की कमान सौंपी।

महाराणा प्रताप प्रजा के हृदय पर शासन करने वाले शासक थे। उनकी एक आज्ञा हुई और विजयी सेना ने देखा कि उसकी विजय व्यर्थ है। चित्तौड़ भस्म हो गया, खेत उजड़ गये, कुएं भर दिये गये और ग्राम के लोग जंगल एवं पर्वतों में अपने समस्त पशु एवं सामग्री के साथ अदृश्य हो गये। दशकों तक मेवाड़ में अन्न का दाना नहीं उपजा। पूरा मेवाड़ युद्ध का मैदान बना हुआ था। सब तरफ भुखमरी और मार-काट थी, ऐसे में सब साथ छोड़ जाते हैं लेकिन मेवाड़ ने प्रताप का साथ कभी नहीं छोड़ा। मेवाड़ की जनता प्रताप के पीछे चट्टान की तरह खड़ी रही। कभी कोई शिकवा नहीं किया। ऐसी स्वामिभक्ति और प्रतिबद्धता सिर्फ प्रताप जैसे अद्वितीय व्यक्तित्व का स्वामी ही कमा सकता है। निष्ठा का यह स्तर, किसी भी कालखंड के शासक की जन स्वीकार्यता को मापने की कसौटी है। मुझे नहीं लगता तब से अब तक इतनी बड़ी जन स्वीकार्यता किसी अन्य राजा को प्राप्त हुई हो। उसकी वजह है, क्योंकि महाराणा प्रताप तत्कालीन जन-जीवन का प्रतीक हैं। महाराणा प्रताप ने अपने पिता उदयसिंह के समय से उपेक्षा पायी थी और वह निरन्तर तकलीफों से घिरे रहे थे। हर बार सह-अस्तित्व की पहचान बनाये रखने के लिए, उन्हें जन-बल का आश्रय लेना पड़ा था, इसलिए सम्राट होकर भी अकबर, महाराणा प्रताप के जीतेजी मेवाड़ को ना जान सका, ना जीत सका और न कभी वो मेवाड़ जनजीवन की प्राणशक्ति ही बन सका। अकबर का शक्ति सागर, व्यर्थ ही इस अरावली के शिखर से टकराता रहा।

महाराणा प्रताप की अदम्य वीरता, दृढ़ साहस और कुशल सेनानायक की उज्वल कीर्ति के आलोक में अनेक ऐसे गुण, जो महाराणा के व्यक्तित्व को विभिन्न आयामों में विराटता प्रदान करते हैं, छिप कर रह गये हैं। विदित हो कि महाराणा प्रताप में अच्छे सेनानायक के गुणों के साथ-साथ अच्छे व्यवस्थापक की विशेषताएं भी थी। अपने शासनकाल में उन्होने युद्ध में उजड़े गांवों को पुन: व्यवस्थित किया। नवीन राजधानी चावण्ड को अधिक आकर्षक बनाने का श्रेय महाराणा प्रताप को जाता है। चावंड को चित्रकला का केंद्र बनाकर नई चित्र शैली मेवाड़ी शैली का प्रारम्भ करवाया। महाराणा प्रताप को स्थापत्य, कला, भाषा और साहित्य से भी लगाव था। वे स्वयं विद्वान तथा कवि थे। उनके शासनकाल में अनेक विद्वानों एवं साहित्यकारों को आश्रय प्राप्त था। राजधानी के भवनों पर कुम्भाकालीन स्थापत्य की अमिट छाप देखने को मिलती है। पद्मिनी चरित्र की रचना तथा दुरसा आढा की कविताएं महाराणा प्रताप के युग को आज भी अमर बनाये हुए हैं। उनकी प्रेरणा से ही मथुरा के चक्रपाणी मिश्र ने विश्व वल्लभ नामक स्थापत्य तथा मुहूर्त माला नामक ज्योतिष ग्रंथ की रचना की। चांवड में चावंड माता के मंदिर का निर्माण भी राणा प्रताप ने ही करवाया था।

दीगर है कि अंग्रेजी हुकूमत से स्वाधीनता हेतु संघर्षरत अनेक महान क्रांतिकारियों के प्रेरणा स्रोत थे 500 वर्ष पूर्व जन्में महाराणा। वीर शिरोमणि चंद्रशेखर आजाद के लिये आदर्श थे राणा। क्रान्तिकारियों के लिए मेवाड़ की धरती, चित्तौडग़ढ़ और हल्दीघाटी तीर्थस्थल बन चुके थे। क्रान्तिकारी संगठन अनुशीलन समिति के हर सदस्य के लिए मेवाड़ की तीर्थयात्रा कर चित्तौड़ के विजय स्तम्भ के नीचे शपथ लेना अनिवार्य था। भारतवर्ष से देशभक्त, क्रान्तिकारी हल्दीघाटी की मिट्टी का तिलक करने आते थे। वस्तुत: अंग्रेजों की दासता से मुक्ति दिलाने के लिए महाराणा प्रताप के नाम ने जादू का काम किया। महाराणा प्रताप विशाल ब्रितानी साम्राज्य से जूझते राष्ट्रभक्तों के लिए आदर्श और प्रेरणापुंज थे।

कर्नल टॉड ने ही लिखा है कि ‘अरावली पर्वत श्रंखला का कोई पथ ऐसा नहीं है जो प्रताप के किसी कार्य से पवित्र न हुआ हो- किसी शानदार विजय या उससे भी शानदार पराजय से। हल्दीघाटी मेवाड़ की थर्मोपल्ली है और दिवेर का मैदान उसकी मैराथन है।’महाराणा प्रताप के सबसे बड़े प्रशंसक और अनुयायी, महान स्वतंत्रता सेनानी गणेश शंकर विद्यार्थी ने अपनी पत्रिका ‘प्रताप’ का पहला अंक महाराणा प्रताप को समर्पित करते हुए लिखा था कि ‘महान् पुरुष, निस्संदेह महान पुरुष। क्या भारतीय इतिहास के किसी खून में इतनी चमक है? स्वतंत्रता के लिए किसी ने इतनी कठिन परीक्षा दी? जननी जन्मभूमि के लिए किसने इतनी तपस्या की? देशभक्त, लेकिन देश पर अहसान जताने वाला नहीं, पूरा राजा, लेकिन स्वेच्छाचारी नहीं। उसकी उदारता और दृढ़ता का सिक्का शत्रुओं तक ने माना। भील उसके इशारे के बंदे थे। भामाशाह ने उसके पैरों पर सब कुछ रख दिया। मानसिंह उससे नजर नहीं मिला सकता था। अकबर उसका लोहा मानता था। अकबर का दरबारी खानखाना उसकी तारीफ में पद्य रचना करना अपना पुण्य कार्य समझता था। जानवर भी उसे प्यार करते थे और घोड़े चेतक ने उसके ऊपर अपनी जान न्यौछावर कर दी थी। स्वतंत्रता की देवी का वह प्यारा था और वह उसे प्यारी थी। चित्तौड़ का वह दुलारा था और चित्तौड़ की भूमि उसे दुलारी थी। उदार इतना कि बेगमें पकड़ी गईं और शान-सहित वापस भेज दी गईं। सेनापति फरीद खां ने कसम खायी कि प्रताप के खून से मेरी तलवार नहायेगी। प्रताप ने उस सेनापति को पकड़ कर छोड़ दिया। अपने से कहीं विशाल और ताकतवर साम्राज्य को न केवल चुनौती देकर बल्कि सफलतापूर्वक अपना राज्य वापस जीत कर एशिया के सबसे ताकतवर बादशाह का घमण्ड चूर-चूर कर दिया।’

महाराणा का कुल इतिहास सहजीवन और सहअस्तित्व के आदर्श का प्राकट्य है। ढूंढने पर भी एक भी संदर्भ ऐसा नहीं प्राप्त होता है जिसमें राणा ने कभी किसी के साथ जाति, पंथ, रंग, लिंग की बुनियाद पर कोई भेदभाव किया हो। यह मानवता की सबसे बड़ी कसौटी है।

महाराणा प्रताप ऐसे मानव थे जो अपने अस्तित्व को तिरोहित नहीं होने देना चाहते थे। उनका संघर्ष, हर उस सच्चे और निष्ठावान मानव का संघर्ष है जो उसे मानव होने के लिए सिद्ध करना होता है। प्रत्येक का अपना अस्तित्व है। जब किसी के अस्तित्व-बिम्ब को एक आंधी उखाड़ फेंकना चाहती है तब सहज महाराणा प्रताप की याद आने लगती है। वस्तुत: वह हमारे दुर्धर संघर्ष, निष्ठा, समर्पण और पराक्रम की अपूर्व धरोहर हैं। वह ऐसा इतिहास हैं, जो कभी मर नहीं सकता। ऐसे भी अनेक प्रयास हुए हैं और आगे भी होते रहेंगे जो महाराणा प्रताप की गरिमा को सन्देह की शय्या पर सुलाना चाहेंगे। लेकिन शायद ऐसा करने वाले यह भूल गये हैं कि महाराणा प्रताप का इतिहास मानव-जीवन का पर्याय है और कोई भी ऐतिहासिक दुराग्रह, उसे प्राप्त प्रतिष्ठा से अपदस्थ नहीं कर सकती। युगों-युगों तक पीढिय़ां स्वाधीनता के अमर हस्ताक्षर को स्मरण कर प्रेरणा प्राप्त करती रहेंगी।

यह भी पढ़ें: घरों में काम करने वाली महिला ने वर्ल्ड रेसिंग चैंपियनशिप के लिए किया क्वॉलिफाई

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

लेखक / पत्रकार

Related Stories

Stories by प्रणय विक्रम सिंह