आइसक्रीम की दुकान से सालाना 20 करोड़ का बिजनेस खड़ा करने वाले नारायण पुजारी

0

एक 13 साल लड़का जो हमेशा मायानगरी मुंबई में आने और छा जाने के सपने देखा करता था। वो अपने सपनों के शहर आया और आज वो इस शहर की सबसे प्रसिद्ध फूड चेन का मालिक है...

साभार: बिजनेस वर्ल्ड
साभार: बिजनेस वर्ल्ड
यह नारायण पुजारी की वास्तविक जीवन की कहानी है, जो कि मुंबई में रेस्तरां श्रृंखला 'शिव सागर' को खड़ा करने वाले व्यक्ति है। 

1990 में शुरू हुई, नारायण की कंपनी शिव सागर फूड्स एंड रिसॉर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड ने इस साल 20 करोड़ रुपये का सालाना कारोबार किया है।

एक 13 साल लड़का जो हमेशा मायानगरी मुंबई में आने और छा जाने के सपने देखा करता था। वो अपने सपनों के शहर आया और आज वो इस शहर की सबसे प्रसिद्ध फूड चेन का मालिक है। वो सब कर रहा है, जिसको कभी लोग खयाली पुलाव पकाना कहकर उसे चिढ़ाते थे। ये किसी फिल्म की कहानी लग रही है न? लेकिन यह नारायण पुजारी की वास्तविक जीवन की कहानी है, जो कि मुंबई में रेस्तरां श्रृंखला 'शिव सागर' को खड़ा करने वाले व्यक्ति है। शिव सागर शहर भर में 16 ब्रांचेज के साथ मुंबई का सबसे प्रसिद्ध शाकाहारी रेस्तरां ब्रांड है। 1990 में शुरू हुई, नारायण की कंपनी शिव सागर फूड्स एंड रिसॉर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड ने इस साल 20 करोड़ रुपये का सालाना कारोबार किया है।

इस रंगीले सफर की शुरुआत मुंबई के केम्प्स कॉर्नर में एक छोटी आइसक्रीम पार्लर के साथ हुई थी। 1967 में कर्नाटक के कुंडापुर में जन्मे नारायण हमेशा से ही मुंबई से आकर्षित थे। उनके गांव के लोग जो मुंबई में रहते थे और काम करते थे, ने उन्हें इस शहर के बारे में कहानियां काफी कहानियां सुनाई थीं। यहीं से नारायण के मन में भी मुंबई शहर पर राज करने की ललक जागी। नारायण के परिवार वाले एक मध्य वर्ग के एक संयुक्त परिवार में रहते थे और खेती पर निर्भर थे। नारायण के सपने और उनकी वास्तविकता में एक बड़ा अंतर था। 

हालांकि 1980 में 13 साल की उम्र में उन्होंने अचानक स्कूल छोड़ने और मुंबई जाने का निर्णय लिया। उस साल अप्रैल में, उनकी नानी ने उन्हें 30 रुपये दिए थे। उसी पैसों से उन्होंने एक निजी टूर बस ले ली और मुंबई पहुंचे। उनके पास रहने की जगह थी, उनके पिता की बहन मुंबई में सांताक्रूज में रहती थीं। एक रिश्तेदार की मदद से नारायण ने दक्षिण मुंबई के बलार्ड एस्टेट में कार्यालय कैंटीन में एक वेटर का काम किया। नारायण याद करते हैं, मुझे 40 रुपये का वेतन मिलता था और 9 बजे से सुबह 6 बजे तक काम करता था, फिर रात की स्कूल में जाने के बाद मैं कैंटीन में सोया करता था। मैं शनिवार और रविवार को अन्य लड़कों के साथ फुटबॉल और क्रिकेट खेलता था और अपनी छुट्टियां मनाता था।

कुछ महीनों में, उन्होंने अपनी पहली नौकरी छोड़ दी और पीडब्ल्यूडी कार्यालय के कैंटीन में काम करना शुरू कर दिया। वह वहां दो साल तक काम करते रहे। उसके बाद कफ परेड में उन्हें अपना 20-सीटर कैंटीन शुरू करने का अवसर मिला। नारायण कहते हैं, कैंटीन को चलाने के दौरान मैंने व्यवसाय के प्रबंधन का हिस्सा सीखा। मैं समझ गया कि एक रेस्तरां कैसे चलाना है।

1990 में उनके जीवन ने एक नया मोड़ लिया और सब कुछ हमेशा के लिए बदल दिया। बागुभाई पटेल नाम के एक व्यक्ति ने नारायण को अपनी दक्षिण मुंबई में केम्प्स कॉर्नर में आइसक्रीम की दुकान 'शिव सागर' चलाने के लिए बुलाया क्योंकि वह इसे अच्छी तरह से संचालित नहीं कर पा रहे थे। नारायण ने इस दुकान में एक साझेदारी की कि वह लाभ का 25 प्रतिशत ले लेंगे और 75 प्रतिशत बागुभाई के पास जायेंगे। नारायण के मुताबिक, "दुकान काफी बड़ी थी और अच्छा कारोबार भी कर रही थी, इसलिए मैंने उसी दुकान में पाओ-भाजी को एक आइटम के रूप में जोड़ा और लोगों ने इसे पसंद करना शुरू किया। जल्द ही हम एक पूर्ण शाकाहारी खाना रेस्तरां बन गए; हमारे ज्यादातर ग्राहक गुजराती थे।" इसके बाद उन्होंने चर्चगेट में एक शाखा खोलने का फैसला किया। इससे पहले सालाना कारोबार सिर्फ 3 लाख था, लेकिन नारायण ने कारोबार को संभाला लेकिन सिर्फ एक साल में 1 करोड़ रुपये तक पहुंच गया।

नारायण ने द वीकेंडलीडर से बातचीत में कहा, मेरा जीवन अचानक बदल गया और मैं अमीर बन गया। 1990 और 1994 के बीच की अवधि मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण थी। मैंने शिव सागर का बड़ा हिस्सा खरीदा। उन्होंने चर्चगेट की नई शाखा को लॉन्च करने के लिए 16 घंटे काम किया। उन्होंने 1994 में शादी की। वो चार वर्ष मेरे लिए महत्वपूर्ण थे क्योंकि मेरा सपना सच हो रहा था। मेरी पत्नी ने मुझे व्यवसाय चलाने में भी मदद की। वह अब मेरी कंपनी के निदेशकों में से एक है।

नारायण का दिन अभी भी वैसे ही 6.30 बजे शुरू होता है जैसे शुरुआती दिनों में होता था जब वह एक कैंटीन में वेटर थे। नारायण की दो बेटियां निकिता और अंकिता हैं और वह अब सांताक्रूज़ में रहती हैं। उनकी पत्नी यशोधा और बेटी निकिता भी शिव सागर फूड्स एंड रिजॉर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक हैं। निकिता ने स्वामी विवेकानंद कॉलेज से इंस्ट्रुमेंटरी इंजीनियरिंग में स्नातक की उपाधि प्राप्त की है और हाल ही में कारोबार में शामिल हो गई हैं। नारायण कहते हैं, "मैंने पढ़ाई नहीं की लेकिन मैं हमेशा अपने बच्चों को इसके लिए प्रोत्साहित करता हूं।" 

ये भी पढ़ें: घर से भागकर अपना बिजनेस करने वाला लड़का आज 1450 करोड़ टर्नओवर वाली कंपनी का है मालिक

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी