मुंबई के 150 छात्रों का ग्रुप बदल रहा 1,000 लोगों की जिंदगी

0

कॉलेज के दोस्तों के एक समूह ने लोगों की मदद करने के आइडिया पर काम किया। ये लोग कला, शिक्षा और स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के कल्याण के लिए वीकेंड पर काम करते हैं।

2016 में पंकज ठक्कर द्वारा शुरू किए गए इस समूह की शुरुआत में केवल 6 दोस्त थे जो अपना खाली समय लोगों की भलाई के लिए बिताते थे। लेकिन अब देखते-देखते ये 16 से 22 साल के आयु वर्ग के 150 से अधिक युवाओं का सामूहिक बन गया है। 

उपेक्षित लोगों के कल्याण के लिए उठाया गया आपका एक काम आपको महान लोगों की कतार में खड़ा कर सकता है। 2016 में पंकज ठक्कर द्वारा शुरू किया, 'वी कैन, वी विल' समूह मुंबई में उपेक्षित लोगों के कल्याण के लिए काम करता है। 150 से अधिक युवाओं का ये समूह शैक्षिक सेमिनार, स्वास्थ्य कार्यक्रम, खाद्य वितरण ड्राइव, और रक्तदान शिविर भी आयोजित करता हैं।

इसी साल जुलाई के पहले सप्ताह में मुंबई के गोरई डंपिंग ग्राउंड में बेहद अलग नजारा देखने को मिला। महिलाएं, पुरुष, बच्चे और युवा सभी अपने नए कपड़ों और एसेसरीज को लेकर बहुत ही उत्साहित थे। डमीपार्ड के चारों ओर झोपड़डियों में बेहद सुखद वातावरण था। यह कोई त्यौहार नहीं था। बल्कि रणबीर कपूर की फिल्म संजू को देखने के लिए लोगों में उत्साह का एक नजारा था। शिवाजी बाने, दीपक निवलकर और अमृता कोलकर उन सैकड़ों में से थे, जिन्होंने अपनी जिंदगी में पहली बार बोरीवली में मैक्सस सिनेमा के मूवी थियेटर के अंदर कदम रखा था। 35 वर्षीय शिवाजी कहते हैं, "हम कभी भी थिएटर जाना एफोर्ड नहीं कर सकते थे, लेकिन जब 'वी कैन, वी विल' टीम ने हमें अप्रोच किया तो यह हमारे लिए जिज्ञासा से कहीं अधिक था। हमें यह मौका मिला। हम तंग गलियों में रहते हैं और यहां तक कि अगर हम थियेटर जाने के लिए पैसे बचा भी लें तो, तो हम सामाजिक दबाव से डरते थे।"

कॉलेज के दोस्तों के एक समूह ने इस आइडिया पर काम किया। ये लोग कला, शिक्षा और स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के कल्याण के लिए वीकेंड पर काम करते हैं।

इनका मानना है कि ये कोई गैर सरकारी संगठन या ट्रस्ट नहीं हैं। वे कहते हैं, "हमारा मानना है कि परिवर्तन लाने के लिए आपको संगठन बनाने की आवश्यकता नहीं है; अगर उनके पास जुनून है तो दोस्तों का सिर्फ एक समूह भी ऐसा कर सकता है। हम समाज में बदलाव लाना चाहते थे, और मुंबई में रहने वाले अधिकांश लोगों की वर्तमान स्थिति से असंतुष्ट थे।" 2016 में पंकज ठक्कर द्वारा शुरू किए गए इस समूह की शुरुआत में केवल 6 दोस्त थे जो अपना खाली समय लोगों की भलाई के लिए बिताते थे। लेकिन अब देखते-देखते ये 16 से 22 साल के आयु वर्ग के 150 से अधिक युवाओं का सामूहिक बन गया है। साथ में, वे हर हफ्ते 1,000 से ज्यादा लोगों को के जीवन पर प्रभाव डाल रहे हैं।

शुरुआत

कक्षा 9 ड्रॉपआउट पंकज ने अपनी बोर्ड परीक्षा प्राइवेट तौर पर पूरी की। पंकज के पास शिक्षित होने के लिए कई रास्ते और विकल्प नहीं थे। शुरुआती कठिनाइयों का सामना करने के बाद, पंकज को शिक्षा की पहुंच और नौकरी हासिल करने से संबंधित समस्याओं का एहसास हुआ। पंकज का मानना है कि यह उन बच्चों की गलती नहीं है जिन्हें इससे गुजरने के लिए मजबूर किया जाता है। और यह उनकी प्रेरणा बन गई। वे कहते हैं "मुझे लगा कि मुझे शिकायत करने के बजाए समाज के लिए कुछ करना चाहिए।"

2016 में, जब वह सिविल इंजीनियरिंग में अपना डिप्लोमा पूरा कर रहे थे, तो उन्होंने और उनके दोस्तों ने अपने वीकेंड को झोपड़ियों में बिताना शुरू कर दिया। उन्होंने एक वीकेंड कंदिवली के एक मंदिर में 60 बच्चों को पढ़ाया। अगले रविवार को आसपास के इलाकों में 300 लोगों को नाश्ता बांटा। प्रत्येक गुजरने वाले दिन के साथ, सोशल मीडिया पर उनकी पहुंच बढ़ी जिसके बाद कई छात्रों ने इस पहल का हिस्सा बनने में अपनी रूचि व्यक्त की। टीम का मुख्य फोकस शिक्षा था। समूह सेंट लॉरेंस, पंचोलिया, आनंदीबाई और मदर टेरेसा स्कूलों सहित कई स्कूलों के लिए व्यक्तित्व विकास, जीवन कौशल और व्यावसायिक प्रशिक्षण पर विभिन्न सेमिनार आयोजित करेगा।

वी कैन वी विल के वॉलंटियर
वी कैन वी विल के वॉलंटियर

स्वयंसेवक हर्ष बताते हैं "हम हर शनिवार मदर टेरेसा हाई स्कूल जाते हैं और कक्षा 5 से 10 तक के छात्रों के लिए लेक्चर लेते हैं और उन विषयों को कवर करते हैं जो उनके एकेडिक्स में शामिल नहीं हैं। जैसे मनी मैनेजमेंट, स्ट्रेस मैनेजमेंट, गुड टच बैड टच, मेमोरी माइंड गेम्स, और पर्सनैलिटी डेवलपमेंट।" वर्तमान में 25 से अधिक सक्रिय स्वयंसेवकों वाली टीम ने शताब्दी अस्पताल में मरीजों को फल वितरित करने, अस्पताल के कर्मचारियों और मरीजों के रिश्तेदारों, और कंस्ट्रक्शन वर्कर्स, ऑटो ड्राइवरों और कंदिवली में काम करने वाले मजदूरों को नाश्ते का वितरण करने के लिए अपना आगे काम बढ़ाया है।

पहल

पिछले दो वर्षों में, समूह ने अस्पतालों, झोपड़पट्टी क्षेत्रों, डंपिंग ग्राउंडों में काम किया है। मुंबई में गर्मियों के दौरान सार्वजनिक शौचालयों को साफ किया है, रक्तदान शिविर आयोजित किए हैं, सैनिटरी पैड और मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में जागरूकता फैलाई है, मटका (मिट्टी के बर्तन) बांटे हैं, और वंचित बच्चों के लिए नृत्य और संगीत सत्र भी आयोजित किया है। यह सब समूह द्वारा बनाए गए मजबूत स्वयंसेवक नेटवर्क के माध्यम से संभव हो पाया है। 23 वर्षीय थियेटर कलाकार दर्शन महाजन बताते हैं "हम विभिन्न क्षेत्रों पर काम कर रहे हैं, हम बहुत ही ओपन हैं। हम मुख्य रूप से शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करते हैं जो स्कूलों में पढ़ाया जाने वाला कोई विशेष पाठ्यक्रम नहीं है।"

10 बजे से दर्शन, कुछ अन्य स्वयंसेवकों के साथ मिलकर बच्चों के लिए कार्यशाला और गतिविधियों का आयोजन करते हैं। इनमें उत्पत्ति और मिट्टी के साथ काम करना, संगीत, नृत्य और गायन कार्यशालाएं (बीट मुक्केबाजी और डीजेम्बे ड्रमिंग) शामिल हैं। टीम ने बच्चों को सेल्फ-डिफेंस भी सिखाया है और गुड टच, बैड टच के बारे में जागरूकता पैदा की है। हर्ष कहते हैं, "हम उन्हें अद्वितीय एक्सपोजर देने के लिए हर हफ्ते कुछ अलग करने की कोशिश करते हैं। हम कभी-कभी अन्य लोगों को विशिष्ट विषयों पर बातचीत करने के लिए आमंत्रित करते हैं।"

उनकी अन्य गतिविधियों में शामिल हैं:

1. लिक्विड साबुन इंस्टालेशन: कंदीवली में सार्वजनिक शौचालय में एक लिक्विड साबुन डिस्पेंसर स्थापित किया गया। नियमित आधार पर इसे रिफिल किया जाता है।

2. मेट्रो गतिविधि: हर शनिवार शाम मुंबई मेट्रो श्रमिकों को स्नैक्स का वितरण।

3. स्ट्रीट एनिमल केयर: टीम ने सड़कों पर मिले आठ जख्मी कुत्तों और दो खरगोशों को एडॉप्ट किया है।

4. लाइब्रेरी: उन्होंने कक्षा 10 के बच्चों के लिए एक पुस्तकालय भी स्थापित किया है। छात्रों को यहां उनकी बोर्ड परीक्षाओं के लिए अध्ययन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। 5 बजे से शाम 12 बजे तक, एक शिक्षक-स्वयंसेवक पुस्तकालय में बोर्ड परीक्षा से दो महीने पहले से मौजूद रहता है, ताकि छात्रों के प्रश्नों (डाउट्स) को हल करने में मदद मिल सके।

हर्ष बेहद गर्व के साथ कहते हैं, "मदर टेरेसा स्कूल के प्रिंसिपल ने हमें कक्षा 10 के छात्र महेश कुमार को पढ़ाने और मार्गदर्शन करने का काम सौंपा, जिन्होंने मुश्किल से अपनी परीक्षा उत्तीर्ण की यहां तक कि वह कुछ विषयों में फेल भी हुए। हम, स्वयंसेवकों ने उन्हें एक साल के लिए गहन प्रशिक्षण दिया, और इस साल, उन्होंने 46 प्रतिशत के साथ परीक्षा पास कर ली।"

5. रेडियम: मुंबई शहर को सुरक्षित बनाने के उद्देश्य से, टीम ने डिवाइडर्स पर रेडियम स्टिकर लगाए हैं ताकि रात में ड्राइविंग आसान हो जाए।

6. प्लेटलेट्स दान करना: वी कैन, वनी विल समूह नियमित रूप से टाटा मेमोरियल अस्पताल में रक्त प्लेटलेट दान करता है।

7. रोजगार: टीम, वितरण के लिए और खाना पकाने के लिए लोगों को भर्ती करके आजीविका और नौकरी के अवसर प्रदान करने की कोशिश करती है। यहां तक कि वे टिकाऊ आय अर्जित करने के लिए पेपर बैग बनाने में भी उनकी मदद करते हैं।

भविष्य

युवा टीम अपने समूह को औपचारिक एनजीओ में बदलने, अपनी पहल के लिए धन जुटाने और विस्तार करने की उम्मीद कर रही है। वर्तमान में, उनका काम व्यापक रूप से कंदिवली और बोरिवली में फैला हुआ है। 'वी कैन, वनी विल' का सपना है कि सड़कों पर भीख मांग रहे बच्चों के लिए कुछ काम किया जाए। पंकज एक ऐसी जगह बनाना चाहते है जहां सड़क के बच्चे इकट्ठे रह सकें, समय बिताएं और कुछ सीख सकें।

अंत में पंकज कहते हैं, "अभी तक हमनें अपने इलाके में इन मुद्दों को पाया, और हम उन पर काम कर रहे हैं। हम नए स्थानों को ढूंढते रहते हैं और समस्याओं को हल करने की कोशिश करते हैं। वे हमारे जैसे इंसान हैं, और उनके पास हमारे जैसान ही मन और शरीर है। वे हमसे अधिक हासिल कर सकते हैं, तो हमें केवल सपना ही क्यों देखना चाहिए।"

यह भी पढ़ें: ड्राइवर भी महिला और गार्ड भी: बिहार की बेटियों ने मालगाड़ी चलाकर रचा इतिहास

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी