पेटीएम बना पेमेंट बैंक, लेकिन क्या होगा आपके पैसों का?

यदि आप पेटीएम का इस्तेमाल करते हैं, तो ये खबर आपके लिए ही है। कंपनी अपने ग्राहकों को जो बात 23 मई को बतायेगी हम आपको आज ही बता रहे हैं, आप भी जानें पेटीएम पेमेंट बैंक के फायदे...

1

अगर आप भी पेटीएम का इस्तेमाल करते हैं, तो ये खबर आपके लिए ही है। देश की सबसे बड़ी ई-वॉलिट कंपनी मानी जाने वाली पेटीएम को पेमेंट बैंक का लाइसेंस मिल गया है और अब ये पेमेंट बैंक के तौर पर अपनी सर्विस शुरू करने जा रही है, जिसकी घोषणा कंपनी कर चुकी है।

फोटो साभार: livemint
फोटो साभार: livemint
पेटीएम पेमेंट बैंक लिमिटेड यानी PPBL को रिजर्व बैंक ने आखिरी इजाजत भी दे दी है। अब पेटीएम इसी 23 मई से बैंक के तौर पर काम करना शुरू कर देगा।

पिछले साल हुई नोटबंदी के बाद अब लगभग सभी स्मार्टफोन यूजर अपने फोन में कोई न कोई ई-वॉलिट रखता ही है। वैसे ज्यादातर लोगों के पास पेटीएम होता है। अगर आप भी पेटीएम का इस्तेमाल करते हैं, तो ये खबर आपके लिए ही है। देश की सबसे बड़ी ई-वॉलिट कंपनी मानी जाने वाली पेटीएम को पेमेंट बैंक का लाइसेंस मिल गया है और अब ये पेमेंट बैंक के तौर पर अपनी सर्विस शुरू करने जा रही है। कंपनी ने इसकी घोषणा भी कर दी है। पब्लिकली जारी किये गये एक नोटिस में कंपनी ने कहा है, कि पेटीएम पेमेंट बैंक लिमिटेड यानी PPBL को रिजर्व बैंक ने आखिरी इजाजत भी दे दी है और ये इसी 23 मई से बैंक के तौर पर काम करना शुरू कर देगा।

पेमेंट बैंक नॉर्मल बैंक से थोड़े अलग होते हैं, उसके बारे में हम थोड़ा बाद में बताएंगे। पहले आप ये जान लीजिए कि रिजर्व बैंक ने पेटीएम को अपने वॉलिट बिजनेस को पेमेंट्स बैंक लाइसेंस के तहत पेमेंट बैंक को ट्रांसफर करने की अनुमति दे दी है। यानी अगर आप पेटीएम यूज़ कर रहे हैं तो आप पेटीएम बैंक के ग्राहक बन गए हैं। लेकिन परेशान मत होइये इसके लिए आपको कुछ भी नहीं करना होगा। ये सब पेटीएम अपने आप कर देगा। फिर भी अगर आप पेटीएम बैंक के ग्राहक नहीं बनना चाहते हैं, तो आप वॉलिट की सर्विस बंद भी कर सकते हैं। इससे जुड़ी कुछ जरूरी बातें आप जान लें,

आपके पैसे रहेंगे सही सलामत

अभी आपके पेटीएम में जितने भी पैसे हैं, वो सारे पेटीएम बैंक में चले जाएंगे और ये अपने आप होगा इसके लिए आपको कुछ भी नहीं करना है। ये इसलिए हो रहा है क्योंकि अब वॉलिट बिजनेस भी पेमेंट्स बैंक का ही हिस्सा होगा। हालांकि कंपनी अपने ग्राहकों को 23 मई को ये सब बताएगी। मगर हम अभी से आपको सब कुछ बता दे रहे हैं।

ऐप में नहीं होगा कोई बदलाव

आप पेटीएम का जो ऐप अभी यूज कर रहे हैं, बाद में भी वैसे ही यूज करेंगे, क्योंकि उसमें कुछ बदलने नहीं जा रहा है। यह वैसे ही रहेगा। मतलब ऐप में किसी तरह का बदलाव नहीं होने जा रहा है। आप पहले के जैसे टैक्सी, तेल, खाने पीने या शॉपिंग के लिए पेमेंट करते रहेंगे। अगर आप कंपनी के पेमेंट्स बैंक में अकाउंट का विकल्प चुनते हैं तो ऐसा होगा। नहीं तो आपका वॉलिट पहले की तरह से ही काम करता रहेगा। फिर भी पेटीएम आपको अलग से खाता खोलने का ऑप्शन देगी।

पेटीएम ने जो नोटिस जारी किया है, उसमें लिखा गया है कि पेटीएम अपने वॉलिट को पेमेंट बैंक में ट्रांसफर कर देगी। देश में लगभग 21.80 करोड़ लोग पेटीएम वॉलिट का इस्तेमाल करते हैं। पेटीएम ने ये भी बताया है कि इस पेमेंट बैंक का लाइसेंस भारतीय निवासी विजय शेखर शर्मा को मिला है। ये विजय शेखर शर्मा ही पेटीएम कंपनी के मालिक हैं। इन्होंने वन97 कम्युनिकेशंस की स्थापना की थी।

पेटीएम के जारी नोटिस में कहा गया है, कि 23 मई के बाद पेटीएम वॉलिट पेमेंट बैंक में बदल जाएगा और कोई कस्टमर ऐसा नहीं चाहता है, तो उसे पेटीएम को बताना होगा। पेटीएम उसके वॉलिट में बचे पैसों को उसके खाते में ट्रांसफर कर देगा। कई लोग ऐसे भी हैं जो एक बार पेटीएम यूज करके भूल गए हैं, मतलब अगर छह महीने से पुराने ग्राहक हैं तो आपको खुद कंपनी को बताना होगा कि हम भी पेमेंट बैंक का हिस्सा बनना चाहते हैं।

क्या होंगे फायदे?

आप सोच रहेंगे कि सबकुछ तो वैसा ही है तो फिर ग्राहक को इससे क्या फायदा? लेकिन फायदा है जनाब। अभी तक आपके वॉलिट में पैसे पड़े होते थे उसका कोई ब्याज नहीं मिलता था, लेकिन अब आपको आपकी जमा राशि पर ब्याज भी मिलेगा। ब्याज के साथ-साथ चेकबुक और डेबिट कार्ड भी मिलेगा। हालांकि पेमेंट बैंक किसी ग्राहक को कर्ज या एडवांस नहीं दे सकते, तो क्रेडिट कार्ड जैसी किसी सुविधा की हसरतें मत ही पालिए। हालांकि पेटीएम बैंक में जमा रकम की एक लिमिट होगी। मतलब ज्यादा से ज्यादा आप 1 लाख रुपये तक की राशि पेमेंट बैंक में रख सकते हैं।

पेटीएम का पेमेंट बैंक शुरुआत में 400 करोड़ रुपये से अपना बिजनेस शुरू करेगा। यूपी के नोएडा में पहली ब्रांच खोली जाएगी। क्योंकि यहीं पर पेटीएम का ऑफिस भी है। पिछले साल ही पेटीएम को बैंक खोलने की मंजूरी मिल गई थी, लेकिन कई कारणों से ये टलता गया। कंपनी के सीईओ विजय शेखर शर्मा ने कहा है, कि बैंक पर खर्च करने के लिए रकम जुटाने में समस्या आ रही थी इसलिए इतना लेट हो गया। विजय शेखर पहले फेज में 20 करोड़ ग्राहकों को इससे जोड़ने का टार्गेट लेकर चल रहे हैं। इस बैंक को पहले आरबीआई के पूर्व अधिकारी शिंजिनी कुमार संभालने वाली थीं, लेकिन अब उनकी जगह रेणु सत्ती को पेमेंट बैंक चलाने की जिम्मेदारी दी गई है। 

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...