कॉलेज के पार्क में शुरू की क्लास, गरीब बच्चों को मुफ्त में पढ़ा रहे इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स

0

फरीदाबाद स्थित YMCA यूनिवर्सिटी के युवा छात्र अपना भविष्य बनाने के लिए तो पढ़ ही रहे हैं, साथ में वे यूनिवर्सिटी कैंपस में ही आसपास के गरीब और बेसहारा बच्चों को शिक्षा दे रहे हैं।

पहली तस्वीर सांकेतिक दूसरी साभार एनबीटी
पहली तस्वीर सांकेतिक दूसरी साभार एनबीटी
कॉलेज में बीटेक छात्रों द्वारा यह पहल शुरू की गई है, जिसमें यूनिवर्सिटी के पार्क में गरीब बच्चों को मुफ्त में शिक्षा दी जाती है। वहीं अगर बारिश होने लगती है या मौसम खराब होता है तो सारे बच्चे क्लासरूम में शिफ्ट कर दिये जाते हैं।

देश के भविष्य की बागडोर युवाशक्ति के हाथ में होती है। इसीलिए अगर युवा शिक्षित और जागरूक नहीं होंगे तो देश और समाज का विकास होना मुश्किल है। फरीदाबाद स्थित YMCA यूनिवर्सिटी के युवा छात्र अपना भविष्य बनाने के लिए तो पढ़ ही रहे हैं, साथ में वे यूनिवर्सिटी कैंपस में ही आसपास के गरीब और बेसहारा बच्चों को शिक्षा दे रहे हैं। कॉलेज में बीटेक छात्रों द्वारा यह पहल शुरू की गई है, जिसमें यूनिवर्सिटी के पार्क में गरीब बच्चों को मुफ्त में शिक्षा दी जाती है। वहीं अगर बारिश होने लगती है या मौसम खराब होता है तो सारे बच्चे क्लासरूम में शिफ्ट कर दिये जाते हैं।

एनबीटी की एक खबर के मुताबिक यह पहल दो वर्ष पहले दो स्टूडेंट शिवानी और शुभम ने शुरू की थी। उनका मकसद था कि गरीब बच्चे बड़ी मुश्किल से स्कूल की फीस भर पाते हैं और उनके लिए ट्यूशन या कोचिंग जाना बड़ी बात होती है। इसलिए शुभम और शिवानी ने सोचा कि हम इन बच्चों को यूनिवर्सिटी में ही बुलाकर पढ़ाएंगे। दोनों ने पास के ही इंदिरा नगर और कृष्णा कॉलोनी के 25 बच्चों को एकजुट किया और उन्हें पढ़ाना शुरू किया। हालांकि शुभम और शिवानी अब अपनी पढ़ाई कर के निकल गए हैं, लेकिन उनके द्वारा शुरू किया गया सिलसिला आज भी कायम है।

उनके जूनियर कुश खुराना और अनु ने अब यह जिम्मेदारी संभाल ली है। बीटेक की पढ़ाई कर रहीं अनु कहती हैं कि हाइटेक युग में बच्चों को पढ़ाते वक्त यू-टयूब का सहारा लिया जाता है। बच्चों को एजुकेशनल विडियो दिखाए जाते हैं। उन बच्चों को विडियो के माध्यम से पढ़ाई का महत्व समझाया जाता है। देश के उन आईपीएस व आईएएस अधिकारियों का विडियो उन्हें दिखाते हैं, जिन्होंने विषम परिस्थितियों से जूझते हुए मुकाम हासिल किया। इसके अलावा, गुरु और माता-पिता के प्रति मधुर व्यवहार बनाने के लिए शिष्टाचार का विडियो दिखाया जाता है। गणतंत्र दिवस, स्वतंत्रता दिवस व अन्य पर्वों पर बच्चों के सांस्कृतिक कार्यक्रम कराए जाते हैं।

इन क्लासेज का काफी फायदा भी हुआ है। यहां पढ़ने वाले बच्चों ने न केवल बोर्ड एग्जाम में अच्छे नंबर हासिल किए बल्कि इसी YMCA कॉलेज में बीटेक जैसे कोर्स में एडमिशन भी ले लिया।

कुश ने बताया कि हमने इंद्र को फ्री पढ़ाया, जिसने 12वीं कक्षा अच्छे नंबरों से उत्तीर्ण की। इसके बाद इंद्र ने वाईएमसीए में प्रवेश लिया। कुश का कहना है कि हमें इंद्र के प्रवेश लेने पर बेहद खुशी है और मन को सुकून मिलता है। हमारी सोच है कि हम जो शिक्षा ले रहे हैं, हम ऐसे बच्चों को शिक्षा बांटे, जो किसी आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण पढ़ नहीं पाते हैं। 

यह भी पढ़ें: गुजरात के इस मंदिर ने पेश की मिसाल, हनुमान चालिसा और कव्वाली हुई साथ-साथ

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी