रणदीप को अभिनेता निर्देशक के साथ काम करना लगता है आसान

0


अभिनेता रणदीप हुड्डा का कहना है कि उन निर्देशकों के साथ काम करना आसान होता है, जो खुद अभिनेता होते हैं लेकिन उन फिल्म निर्माताओं के साथ काम करना मुश्किल होता है जो अभिनय करना चाहते हैं। रणदीप की अगली फिल्म ‘दो लफ्जों की कहानी’ है जिसका निर्देशन अभिनेता-निर्देशक दीपक तिजोरी ने किया है।

अभिनेता ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह अच्छा होता है अगर वह एक अभिनेता हो क्योंकि वह जानता है कि अभिनेता को कैसे काम करना है। मैं हमेशा ऐसे निर्देशकों को पसंद करता हूं जो अभिनेता भी हों। इसमें हमेशा एक लाभ मिलता है।’’

रणदीप ने यह पूछे जाने पर कि क्या ऐसे निर्देशकों के साथ काम करने में लाभ मिलता है जो खुद भी अभिनेता हैं, के जवाब में यह बात कही। हालांकि, ‘सरबजीत’ के स्टार का मानना है कि इससे एक नुकसान भी है क्योंकि फिल्म निर्माता कभी कभी खुद के भीतर एक अभिनेता की तलाश करने लगते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘नुकसान तब होता है जब निर्देशक अभिनेता नहीं होते हैं, लेकिन अभिनेता बनना चाहते हैं। यह मुश्किल है। उन्होंने अभिनय नहीं किया होता, लेकिन उनके अंदर अभिनेता होता है।’’

रणदीप ने कहा, ‘‘आज कोई भी कुछ भी कर सकता है। वे अपनी ट्यूनिंग की मदद से गा भी सकता है।’’ अभिनेता कल शाम ‘दो लफ्जों की कहानी’ के दूसरे ट्रेलर लांच के मौके पर बोल रहे थे। यह फिल्म 10 जून को प्रदर्शित हो रही है। फिल्म में काजल अग्रवाल भी नजर आने वाली हैं।

(पीटीआई) 

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...