योरस्टोरी के एक दशक: 9 वजहें जिनके लिए आपको होना चाहिए टेकस्पार्क्स में

0

टेकस्पार्क्स के हर संस्करण में आपको कुछ न कुछ नया देखने को मिलता होगा। हर साल यह प्रोग्राम बड़ा और बेहतर होता जाता है। इस साल टेकस्पार्क्स का 9वां संस्करण आयोजित होने वाला है और योरस्टोरी भी अपने सफर के एक दशक पूरे कर रहा है।

 यहां आपको अपने सफर के बारे में बताते हुए पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर मिलेंगे और डेलीहंट के संस्थापक और सीईओ दोनों मौजूद रहेंगे जो हमें बताएंगे कि भारत के पांच करोड़ भारतीय इंरनेट यूजर की दिलचस्पी किन चीजों में है।

भारत का सबसे पसंदीदा सालाना टेक्नॉलजी, इनोवेशन और उद्यमिता शिखर सम्मेलन टेकस्पार्क्स की शुरुआत होने वाली है। हम इस प्रोग्राम से बस दो दिन दूर हैं योरस्टोरी के ऑफिस में इस प्रोग्राम को लेकर गजब का उत्साह है। टेकस्पार्क्स के हर संस्करण में आपको कुछ न कुछ नया देखने को मिलता होगा। हर साल यह प्रोग्राम बड़ा और बेहतर होता जाता है। इस साल टेकस्पार्क्स का 9वां संस्करण आयोजित होने वाला है और योरस्टोरी भी अपने सफर के एक दशक पूरे कर रहा है।

दो दिन तक चलने वाले इस आयोजन में लोगों से जुड़ने, बात करने और अपने साझा करने के खूब मौके मिलेंगे। आप में से कई लोग अभी भी सोच रहे होंगे कि इस प्रोग्राम में शामिल होना चाहिए या नहीं तो हम आपको बता देते हैं कि ये दो दिन ऐसे बीतने वाले हैं जिन्हें आप याद करेंगे। यहां वर्कशॉप्स होंगी, प्रॉडक्ट की लॉन्चिंग होगी, बहसें होंगी और अपने-अपने क्षेत्र के विशेषज्ञ अपने अनुभव साझा करेंगे।

विशेषज्ञों को सुनें और सीखें

यहां आपको साइंस से लेकर डिजाइन तक हर क्षेत्र के लोगों को सुनने और उनसे मिलने का मौका मिलेगा। यहां पूरे भारत के बिजनेस लीडर्स, सरकारी संस्थाओं के प्रमुख, वेंचर कैपिटलिस्ट्स और कंपनियों के प्रमुख मिलेंगे। यहां आपको अपने सफर के बारे में बताते हुए पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर मिलेंगे और डेलीहंट के संस्थापक और सीईओ दोनों मौजूद रहेंगे जो हमें बताएंगे कि भारत के पांच करोड़ भारतीय इंरनेट यूजर की दिलचस्पी किन चीजों में है। वैसे ये दिलचस्पी सेक्स या पॉर्न से जुड़ी नहीं है! जानना चाहते हैं कि भारतीय इंटरनेट यूजर किस चीज में सबसे ज्यादा दिलचस्पी रखते हैं? हमें भी इंतजार है।

टेकस्पार्क्स में डेल्हिवरी के मोहित टंडन हमें बताएंगे कि देशभर के 12,000 से ज्यादा पिन कोड तक पहुंच कैसे बनाई जाती है। बिग बास्केट के संस्थापक हमसे अपनी कहानी साझा करेंगे। और इन सबके साथ ही मीडिया और ऐडवर्टाइजिंग क्षेत्र के बादशाह कहे जाने वाले आशीष भसीन अपने 30 साल के अनुभवों से हमें डिजिटल इंडिया में छुपी संभावनाओं से रूबरू कराएंगे। फ्लिपकार्ट की लॉजिस्टिक सहयोगी कंपनी ई-कार्ट को खड़ा करने वाले सुजीत ने उड़ान नाम का स्टार्टअप शुरू किया है, वे भी हमसे मुखातिब होंगे। जिस वक्त ये सभी वक्ता बात कर रहे होंगे उस वक्त ट्विटर पर हैशटैग #tsparks के साथ अपने विचार साझा करना न भूलें।

सबके लिए कुछ न कुछ

इस साल सात श्रेणियां ऐसी हैं जिन पर बात होगी। इनमें डिजाइन, तकनीक, इंपैक्ट और महिलाओं से जुड़े मुद्दे भी होंगे। इनके साथ हम तकनीक और समाज पर पड़ने वाले उसके प्रभाव जैसी गहरी बातों पर चर्चा करेंगे। ग्रीनोपिया की को-फाउंडर और रिसर्च हेड मयूखिनी पांडेय को सुनना न भूलें। वह इस कार्यक्रम में 'एक सीईओ के तौर पर डिजाइनर' विषय पर बोलेंगी। वहीं इंस्टामोजो के हेड ऑफ डिजाइन सिद्धार्थ इंसानों के पूर्वाग्रह और झुकाव पर अपने विचार साझा करेंगे। यहां आप पने सवाल पूछ सकते हैं और इनसे बात भी कर सकते हैं।

दूसरे देशों के वक्ता

TechSparks में भारत के अलावा दुनिया के दूसरे हिस्से से भी वक्ता आएंगे। इस साल टेकस्पार्क्स में आपको पता चलेगा कि दक्षिण कोरिया, जापान, इज़राइल, स्वीडन जैसे देशों की निगाहें भारत पर क्यों हैं। यह एक ऐसा मौका है जहां आप दूसरे देशों के स्टार्टअप से जुड़ सकते हैं और ये भी जान सकते हैं कि वैश्विक बाजार में किस चीज की डिमांड है।

टेक-30 से मिलें

अगर हम टेक-30 की लिस्ट बनाने लगें तो इसमें पूरा दिन लग जाएगा इसलिए हम कुछ नाम बताना चाहेंगे- Mobisy, Innovaccer, Vicara. ये सभी टेक-30 कंपनियां हैं जो आने वाले वक्त के सुपरस्टार हैं। इसलि अगर आप यहां आएंगे तो जान सकेंगे कि स्टार्टअप की वो कौन सी चीजे हैं जो वेंचर कैपिटलिस्ट्स को आकर्षित करती हैं। इसलिए यहां आने पर आपको कई सारे इन्वेस्टर्स को लुभाने का भी मौका मिलेगा।

कोई भी स्टार्टअप कार्यक्रम वेंचर कैपिटलिस्ट्स के बिना अधूरा है। यह टेकस्पार्क्स पता लगाएगा कि भारतीय वेंचर कैपिटलिस्ट्स भारतीय स्टार्टअप्स में पैसा लगाने को इच्छुक हैं, उनकी निगाहें किस सेक्टर में हैं।

एग्जिबिटर्स

टेकस्पार्क्स 2017 की झलकियां 
टेकस्पार्क्स 2017 की झलकियां 

समाधान प्रदाताओं, स्टार्टअप्स, मल्टीनेशनल कंपनियां और कई प्रदर्शकों से मिलने, उनसे बात करने और उनके साथ पार्टनरशिप करने का मौका आपके पास होगा। हम ये नहीं बताएंगे कि कौन कौन एग्जिबिटर्स यहां आ रहे हैं, ये आपको खुद से पता लगाना होगा। आइए 6 और 7 अक्टूबर को और खुद जान जाइए।

मास्टरक्लास

उद्योग जगत की महान हस्तियों से आपको मिलने का मौका मिलेगा, वे आपको कई सारी चीजें सिखाएंगे। इस साल हमने 8 मास्टरक्लास रखी हैं। सैमसंग की शुरुआती चरण में इन्वेस्ट करने वाली इकाई सैमसंग नेक्स्ट जो सॉफ्टवेयर और सर्विस पर ध्यान केंद्रित करती है, मास्टरक्लास का आयोजन करेगी जिसका ध्यान "इंजीनियरों के लिए यूएक्स" पर केंद्रित होगा।

लोगों से जुड़ने के मौके तलाशें

यहां आपको चाय भी मिलेगी और कॉफी भी और लगभग 2,000 लोग भी होंगे जिनसे आप बात कर सकते हैं और अपने बिजनेस कार्ड का आदान-प्रदान कर सकते हैं। अगर आप किसी कॉलेज से पढ़कर निकले हैं तो आप यहां बड़े स्टार्टअप के साथ मिलकर काम करने का मौका भी तलाश कर सकते हैं। नेटवर्किंग एक ऐसा टूल होता है जिसकी मदद से आप अपने भविष्य के लिए अच्छे अवसर तलाश सकते हैं। तो इसलिए इस मौके को जाने न दें और अपने बिजनेस कार्ड को घर पर न भूलें। -

योरस्टोरी टीम से भी मिलिए

योरस्टोरी की टीम हर साल टेकस्पार्क्स कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए काफी मेहनत करती है। हम अपने प्यार और जुनून के साथ एक ही छत के नीचे बैठकर इस कार्यक्रम की रूपरेखा तय करते हैं। ये एक मौका है योरस्टोरी टीम से मिलने का। आप हमसे मिलकर अपनी कहानी साझा कर सकते हैं। हमें आपका बेसब्री से इंतजार है। कार्यक्रम शुरू होने में बस दो दिन शेष हैं और योरस्टोरी के ऑफिस में काफी चहल पहल है। हम आप सभी का स्वागत करने के लिए इंतजार रहे हैं। देर किस बात का है, जल्द ही मिलते हैं, तब तक के लिए हमारी टीम की तरफ से आप सभी को ढेर सारा प्यार।

हमें उम्मीद है कि आपने देश के स्टार्टअप क्षेत्र के सबसे बड़े प्लेटफॉर्म योरस्टोरी के इस प्रोग्राम की टिकटें बुक कर ली होंगी। अगर आपने नहीं बुक की हैं तो जल्दी ही बुक कीजिये क्योंकि टिकटें सीमित हैं और जल्द ही इनके दाम भी बढ़ जाएंगे।

यह भी पढ़ें: टेकस्पार्क्स 2018: भारत के सबसे बड़े टेक्नॉलजी और उद्यम समिट के 9वें संस्करण की घोषणा

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...