पैठणी साड़ियों की नई कहानी बुन रही हैं इंजीनियर से उद्यमी बनीं आरती बांडल

आरती बांडल के इंजीनियर से सफल आंत्रेप्रेन्योर बनने की कहानी...

1

भारत विभिन्नताओं का देश है इसी लिहाज से अलग-अलग भौगोलिक स्थितियों के हिसाब से साड़ियां बनाई जाती हैं। उत्तर भारत से लेकर पश्चिम भारत तक साड़ी को अलग-अलग प्रकार से पहना जाता है। इनमें एक साड़ी का एक प्रकार है पैठणी।

Arati Baandal - Founder of Only Paithani
Arati Baandal - Founder of Only Paithani
पैठणी साड़ी की शुरुआत महाराष्ट्र के औरंगाबाद के पैठण से हुई थी इसीलिए इसका नाम पैठणी पड़ा। कहा तो ये जाता है कि यहां 2000 सालों से पैठणी साड़ियां बनाई जा रही हैं। हालांकि अब पैठणी साड़ी हर महाराष्ट्र की दुल्हन के वस्त्रों का एक अनिवार्य हिस्सा है जिसे 'रेशम की रानी' भी माना जाता है। 

भारत को साड़ियों की विशेष कढ़ाई-बनाई के लिए जाना जाता है। भारतीय महिलाओं के पहनावे में सबसे प्रिय वस्त्र साड़ी रहा है। इसीलिए तमाम कंपनियां कारखाने साड़ियों की तरह-तरह की डिजाइन बनाकर लोगों को लुभाते रहे हैं। भारत विभिन्नताओं का देश है इसी लिहाज से अलग-अलग भौगोलिक स्थितियों के हिसाब से साड़ियां बनाई जाती हैं। उत्तर भारत से लेकर पश्चिम भारत तक साड़ी को अलग-अलग प्रकार से पहना जाता है। इनमें एक साड़ी का एक प्रकार है पैठणी। पैठणी साड़ी की शुरुआत महाराष्ट्र के औरंगाबाद के पैठण से हुई थी इसीलिए इसका नाम पैठणी पड़ा। कहा तो ये जाता है कि यहां 2000 सालों से पैठणी साड़ियां बनाई जा रही हैं। हालांकि अब पैठणी साड़ी हर महाराष्ट्र की दुल्हन के वस्त्रों का एक अनिवार्य हिस्सा है जिसे 'रेशम की रानी' भी माना जाता है। ये साड़ी भारत में हथकरघा साड़ियों की चौंकाने वाली किस्मों में सबसे ऊपर आती है।

यह साड़ी 6 और 9 गज दोनों में उपलब्ध है और यह अद्वितीय है क्योंकि साड़ी के दोनों किनारों में एक ही बुनाई है। एक व्यापक बॉर्डर और उनकी विशिष्ट शैली उन्हें कंधे पर लपेटकर विशेष रूप से सुंदर बनाती है। भारत में ज्यादातर हाथों की कढ़ाई वाली साड़ियों की तरह, पैठणी को भी पावर लूम्स ने टेक ओवर कर लिया है, जिससे बुनकर अपनी पुरानी परंपरा और आजीविका के साधनों को खो रहे हैं। हालांकि अब इसे नई पहचान मिल रही है और ये पहचान दे रही हैं इंजीनियर से उद्यमी बनीं आरती बांडल। पारंपरिक कलाओं के पुनरुत्थान पर जोर देने के साथ, आरती बांडल ने 'ओनली पैठणी' की स्थापना की। अब यह उच्च गुणवत्ता और अद्वितीय डिजाइनों के हैंडलूम वस्त्रों का एक पसंदीदा संग्रह घर बन गया है। आरती एल एंड टी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर हैं और 2001 से 2008 तक सेल्स में काम किया है।

उद्यमिता में उनका आना एक इत्तिफाक ही था। वह याद करती हैं कि "कपड़े, विशेष रूप से साड़ी मेरे दिल के करीब थीं, शायद इसलिए कि मैं अपनी मां को देखकर बड़ी हुई जो खुद साड़ी प्रेमी थीं। 2006 में अपनी शादी के लिए साड़ियों की खरीदारी करते समय, वास्तव में मैं चौंक गई थी। क्योंकि मुंबई में एक अच्छी पैठणी ढूंढना बहुत मुश्किल था। दुकानों में से सबसे बड़ी दुकानों में 10-12 से अधिक विकल्प उपलब्ध नहीं थे, वो भी बहुत आम और उबाऊ रंगों में।"

आरती को एहसास हुआ कि वह उसे बदलना चाहती है। वह कहती हैं कि "2008 में, जब मैंने छोड़ने का फैसला किया, तो हम ऑनलाइन स्पेस में आने का विचार कर रहे थे। मैंने ऐसे परिवार में विवाह किया जहां समानताएं थीं, जहां स्वतंत्रता और उपलब्धियों को अत्यधिक प्रोत्साहित किया जाता था। मेरे पति भी एक पहली पीढ़ी के उद्यमी हैं। अमेरिकी निवासी मेरे देवर ने सुझाव दिया कि मैं ऑनलाइन साड़ी बाजार पर विचार करूं और पैठणी पहली चीज थी जिसे मैंने उसी वक्त सोचा। इसमें और अधिक शोध करते हुए, हमने पाया कि पैठाणियों को महाराष्ट्र के बाहर मुश्किल से कोई मान्यता नहीं थी, जो एक बहुत ही मायूस करने वाली बात थी। यही कारण है कि मैंने फैसला किया कि दुनिया भर के लोगों के लिए पैठणी की शुरुआत की जानी चाहिए। जितना अधिक मैं शोध करती गई, उतना ही मैं पैठणी से प्यार करती गई।" और फिर शुरू हुआ 'ओनली पैठणी'।

पैठणी साड़ी
पैठणी साड़ी

'ओनली पैठणी' में उनके खुद के कारखानों में संग्रह का 80 प्रतिशत से अधिक अपने हाथों से बनाया जाता है। आरती रंग संयोजन और रूपांकनों पर निर्णय लेती है। वे कहती हैं कि "हम केवल पारंपरिक रूपों का उपयोग करते हैं ताकि पैठणी के वास्तविक सार को बनाए रखा जा सके। हम जांच पैटर्न या पेस्टल रंग बनाने जैसे इनोवेशन करते हैं। हम पैठणी आदर्शों में से कुछ सबसे पुराने को पुनर्जीवित करने की भी कोशिश कर रहे हैं। अन्य साड़ियों के लिए, हम सीधे बुनकरों के साथ काम करते हैं और उन्हें क्रम में बुना जाता है।" 'ओनली पैठणी' केवल बुनकरों के साथ काम करती है, न कि किसी भी मध्यस्थ या एजेंट के साथ। पीसेस न केवल हाथ से बने होते हैं बल्कि हाथ से रंगे भी जाते हैं। यह कमल और असवाली जैसे पारंपरिक रूपों को बुनाई करने के लिए कारीगरों के साथ जुड़ा हुआ है। हालांकि वे अधिकांश पैठाणियों पर सबसे लोकप्रिय मोर बुनाई के इच्छुक हैं। यही वह है जो ओनली पैठणी की प्रत्येक साड़ी को एक अद्वितीय पीस बनाते हैं।

पैठणी के मोटिफ्स प्रकृति से इन्सपायर्ड हैं जिनमें ज्यादातर लताएं, फूल, नारियल, तोते, कपास की कलियां आदि होती हैं। इसका सबसे पॉपुलर मोटिफ ‘बंगादी मोर’ है, जिसमें चूड़ियों के आकार में मोर को दिखाया जाता है। ये मोटिफ पल्लू पे बनाए जाते हैं, अगर ध्यान से देखें आपको इनमें नाचता हुआ सिर्फ एक मोर ही नजर आएगा। ये काफी लोकप्रिय और डिमांड में है।

आरती इस प्रकार पैठाणियों की लागत को औचित्य देती है। वे कहती हैं कि "पैठाणियों को हमेशा महंगी साड़ियों के रूप में देखा जाता है, जो विवाह या त्योहारों जैसे विशेष अवसरों के लिए खरीदी जाती हैं। एक पैठणी साड़ी बनाने के लिए किए गए काम की मात्रा पूरी तरह से लागत को औचित्य देती है। उदाहरण के लिए, सबसे बुनियादी हैंडवेवन पैठणी को पूरा होने के लिए कम से कम नौ से 10 दिन लगते हैं। इसके अलावा, जरी और रेशम को सर्वोत्तम गुणवत्ता का होना चाहिए।" आपको बता दें कि पैठानियों के अलावा, ओनली पैठणी महेश्वरिस, चंदेरी, गढ़वाल और इर्कल साड़ियां भी बेचती हैं। वे अपनी वेबसाइट व मुंबई और बेंगलुरु में अपने बुटीक के माध्यम से भी साड़ियां बेचते हैं। उनके पास दुनिया भर के ग्राहकों हैं जो साड़ियों का ऑर्डर देते हैं।

आरती खुश हैं कि साड़ी खुद का पुनरुत्थान देख रही है। यहां तक कि युवा पीढ़ी भी इसे नियमित रूप से पहनने के लिए पसंद करती है। दैनिक आधार पर साड़ी को एक कठिन परिधान के रूप में देखा जाता रहा है। आरती कहती हैं कि "शुक्र है, यह धारणा अब बदल रही है। यह अब बहुत लोकप्रियता भी प्राप्त कर रही है और मैं युवा पीढ़ी को बहुत पहने हुए देखती हूं। इसके अलावा, सोशल मीडिया पर कई साड़ी-विशिष्ट मूवमेंट जैसे #100sareepact, #sareespeak ने भी काफी मदद की है। मुझे पता है कि बहुत सारे युवा अब सप्ताह में कम से कम दो बार साड़ी पहनना पसंद करते हैं। यह (पैठणी) एक बड़ी वापसी कर रही है।"

उनके व्यक्तिगत पसंदीदा में कपास पैठाणियों की एक विस्तृत श्रृंखला, इर्कल्स, कांथा वर्क साड़ी, कलामकारिस और मुलायम रेशम शामिल हैं। वर्तमान में आरती भारत के अन्य शहरों में 'ओनली पैठाणियों' को लाने की योजना बना रही हैं और पोर्टल के माध्यम से पैठाणियों और कम पहचान वाले हैंडलूम के बारे में लोगों को जागरूक करने की योजना बना रही हैं।

यह भी पढ़ें: 5 हजार से शुरू किया था फूलों का कारोबार, आज हैं देश के 90 शहरों में आउटलेट्स और 145 करोड़ का टर्नओवर

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी