अन्ना कैंटीन दे रहा है 1 रुपये में इडली और तीन रुपये में दहीभात, एपी के 29 गाँवों में होगा कैंटीन का विस्तार

0

आंध्र प्रदेश राज्य की नयी राजधानी अमरावती के निर्माण का काम तेज़ी से जारी है। हज़ारों की संख्या में ग्रामीण मज़दूर यहाँ काम पर लगे हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायुडू ने इन मज़दूरों के लिए अपने पार्टी संस्थापक एवं तेलुगू फिल्मों के महानायक एन टी रामाराव की स्मृति में अन्ना कैंटीन शुरू किया है। राजधानी की निर्माण मज़दूर इस कैंटीन में 1 रुपये में इडली और 3 रुपये में दही भात का मज़ा ले रहे हैं।

आंध्र प्रदेश के विजयवाडा और गुंटुर जिले के बीच नयी राजधानी अमरावती के निर्माण में मज़दूर दिन रात काम कर रहे हें। इस भीड़ का नया आकर्षण है अन्ना कैंटीन। चंद्रबाबू नायुडू ने यह कैंटीन निर्माणाधीन सचिवालय के बिल्कुल करीब में शुरू करवाया है। ताकि मज़दूर सस्ते दामों पर खाना हासिल कर सकें और निर्माण के दौरान उनके पलायन की समस्या से भी बचा जाए।

फोटो-  दि हिंदू 
फोटो-  दि हिंदू 

इस कैंटीन के सस्ते खाने का स्वाद न केवल मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायुडू ने चखा, बल्कि उप मुख्यमंत्री एन. चिन्नराजप्पा और सांसद जयदेव गल्ला भी यहाँ के व्यंजनों को चखने वालों में शामिल थे। मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि मंगलपल्ली, ताडेपल्ली और थुल्लुर के आस पास के 29 ग्रामों में जहाँ राजधानी के निर्माण का काम कर रहा है, अन्ना कैंटीन स्थापित किये जाएँगे।

दर असल 1 रुपये में इडली और 3 रुपये में दही भात का यह आइडिया नया नहीं है। अमरावती में इस योजना में सरकार के साथ काम कर रहे हरे कृष्णा मूमेंट के अक्षय पात्रा चैरिटेबल ट्रस्ट ने तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में एक साल पहले ही 5 रुपये में मज़दूरों और ग़रीब लोगों लिए भोजन की शुरूआत की थी। इसे ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल कार्पोरेशन ने नयी योजना के रूप में शुरू किया था और भारत सरकार ने भी उसकी तारीफ की थी। देश विदेश के कई प्रतिनिधियों ने इसका निरीक्षण कर अपने अपने क्षेत्रों में इस पर अमलावरी की संभावनाओं को तलाश किया है।  अक्षय पात्रा फाउण्डेशन आंध्र प्रदेश के कई केंद्रों में इस योजना को सरकार की मदद से फैलाना चाहता है।

हैदराबाद में आम तौर पर यह भोजन 5 के भोजन के रूप में मशहूर है, लेकिन इसका खर्च 22.50 पैसे है। इसमें से 15 रुपये की सरकारी सबसिडी 2.50 रुपये अक्षय पात्रा का सहयोग और 5 रुपये भोजन करने वाले लाभार्थी से लिये जाते हैं। आंध्र प्रदेश में अभी इस संबंध में विस्तृत हिस्सेदारी का विवरण सामने नहीं आया है।

उल्लेखनीय है कि तमिलनाडु में अम्मा कैंटीन ने पहले ही इस तरह की एक और मिसाल क़ायम की है, जहाँ 1 रुपये में इडली 5 रुपये में टमाटाभात उपलब्ध है। 

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...