स्टेट बैंक ने वित्तीय प्रौद्योगिकी के लिए बनाया 200 करोड़ रुपए का कोष

0

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक(एसबीआई) ने वित्तीय प्रौद्योगिकी स्टार्टअप को वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने के लिए 200 करोड़ रुपए के कोष की स्थापना की है। एसबीआई की अध्यक्ष अरंधती भट्टाचार्य ने आज यहां सीआईआई के एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘यह कोष भारत में पंजीकृत कंपनी को प्रोत्साहन देने के लिए तीन करोड़ रुपए तक की सहायता देने पर विचार करेगा। 

यह सहायता उन कंपनियों को दी जायेगी, जो कि बैंकिंग और संबंधित प्रौद्योगिकी में सूचना प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करते हुए अपने व्यवसाय में नवोन्मेष को बढ़ावा देंगे।’’ उन्होंने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी नवोन्मेष स्टार्ट-अप कोष की राशि 200 करोड़ रुपए की होगी।

यह घोषणा केंद्र सरकार के स्टार्टअप के लिये अनुकूल माहौल तैयार करने पर जोर देने के मद्देनजर हुई है।बैंकिंग क्षेत्र में डिजिटल प्रौद्योगिकी के बढ़ते प्रभाव के बीच ज्यादातर वित्तीय संस्थानों ने वित्तीय प्रौद्योगिकी क्षेत्र में स्टार्टअप पहचान की प्रक्रिया बढ़ाई है।

भट्टाचार्य ने कहा कि बैंक ने स्टार्ट-अप की मदद के लिए एक संरक्षण दल भी बनाया है। इससे प्रगति रपट बनाने, इसकी निगरानी तथा मदद और उद्यमों के कोष के उपयेाग में मदद मिलेगी। (पीटीआई )

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...