साक्षी ने जीता कांस्य पदक, रियो में भारत का खाता खुला

1

साक्षी मलिक ने महिला कुश्ती की 58 किग्रा स्पर्धा में रेपेचेज के जरिये कांस्य पदक जीतकर आज यहां रियो ओलंपिक खेलों में भारत को पदक तालिका में जगह दिलाई और 11 दिन की मायूसी के बाद भारतीय प्रशंसकों को जश्न मनाने का मौका दिया। भारत की दूसरी पहलवान विनेश फोगाट हालांकि चोटिल होने के कारण क्वार्टर फाइनल मुकाबले से ही बाहर हो गई जबकि बैडमिंटन पुरूष एकल में किदांबी श्रीकांत को कड़ी चुनौती पेश करने के बावजूद दो बार के गत चैम्पियन चीन के लिन डैन के खिलाफ शिकस्त का सामना करना पड़ा।

साक्षी ने कांस्य पदक के मुकाबले में खराब शुरूआत से उबरते हुए किर्गिस्तान की ऐसुलू ताइनीबेकोवा को 8-5 से शिकस्त देकर भारत के लिए कांस्य पदक जीता। साक्षी को क्वार्टर फाइनल में रूस की वालेरिया कोबलोवा के खिलाफ 2-9 से शिकस्त का सामना करना पड़ा था लेकिन रूस की खिलाड़ी के फाइनल में जगह बनाने के बाद उन्हें रेपेचेज राउंड में खेलने का मौका मिला।

दूसरे दौर के रेपेचेज मुकाबले में साक्षी का सामना मंगोलिया की ओरखोन पुरेवदोर्ज से हुआ जिन्होंने जर्मनी की लुईसा हेल्गा गेर्डा नीमेश को 7-0 से हराकर भारतीय पहलवान से भिड़ने का हक पाया था। साक्षी ने ओरखोन को एकतरफा मुकाबले में 12-3 से हराकर कांस्य पदक के मुकाबले में जगह बनाई। कांस्य पदक के मुकाबले में साक्षी की भिड़ंत ताइनीबेकोवा से थी।

ताइनीबेकोवा के खिलाफ साक्षी की शुरूआत बेहद खराब रही और वह पहले राउंड के बाद 0-5 से पिछड़ रही थी लेकिन भारतीय खिलाड़ी ने दूसरे राउंड में जोरदार वापसी करते हुए आठ अंक जुटाए और भारत को रियो ओलंपिक खेलों का पहला पदक दिला दिया।

इससे पहले साक्षी ने क्वालीफिकेशन राउंड में 0-4 से पिछड़ने के बाद स्वीडन की मालिन योहाना मैटसन को 5-4 से हराया था और फिर प्री क्वार्टर में मालदोवा की मारियाना चेरदिवारा इसानु के खिलाफ मुकाबला 5-5 से जीता। क्वालीफिकेशन राउंड में साक्षी ने अपनी स्वीडिश प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ पहले राउंड में चार अंक गंवा दिये। 23 वर्षीय पहलवान ने हालांकि दूसरे राउंड में इसकी भरपायी की और दो अंक अपनी झोली में डाल लिये। इसके बाद उसने एक और मौके का फायदा उठाया और अपनी प्रतिद्वंद्वी को मैट से बाहर कर दिया जिससे उसे एक और अंक मिला।

जब 10 सेकेंड का समय बचा था तब साक्षी को एक और अंक की दरकार थी और उसने मैच के अंतिम क्षणों में ‘टेकडाउन’ के जरिये करीबी जीत दर्ज की। विनेश को पहले दौर में रोमानियाई की एमीलिया एलिना वुक को हराने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी।

वह बाउट के पहले 20 सेकेंड में अपनी कोहनी मुड़ा बैठी थी, लेकिन उसने इसका असर खुद पर नहीं पड़ने दिया। उसने समय नहीं गंवाया और वुक को पलटकर चार अंक हथिया लिये। उसकी प्रतिद्वंद्वी जूझ रही थी, तभी उसने एक और ‘टेकडाउन’ से दो अंक जुटा लिये। इससे पहले राउंड में उसने 6 . 0 की बढ़त बना ली। 

दूसरे राउंड में उसने कुछ अच्छी रक्षात्मक तकनीक अपनायी और रोमानियाई प्रतिद्वंद्वी को खुद पर हावी नहीं होने दिया।  विनेश ने फिर वुक को मैट पर गिरा दिया और चार अंक अपने नाम कर लिये। इससे उसने 5.01 मिनट में मैच अपने नाम कर लिया। रोमानियाई टीम ने रेफरल की मांग की लेकिन विनेश के चार अंक बरकरार रखे। - पीटीआई


यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...