'फूडपांडा' अब 'ओला' के कब्जे में, 20 करोड़ डॉलर में हुआ सौदा

0

फूड पांडा जर्मनी की डिलिवरी हीरो ग्रुप की ही कंपनी है जिसके पास भारत के 100 शहरों में 12 हजार से अधिक रजिस्टर्ड रेस्टोरेंट हैं। ओला ने बताया है कि यह डील 200 मिलियन डॉलर में हुई है...

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
ओला के को-फाउंडर और सीईओ भाविश अग्रवाल ने कहा कि वे फूडपांडा इंडिया की टीम का ओला में शामिल होने पर स्वागत करते हैं। भाविश ने फूडपांडा के पूर्व सीईओ सौरभ कोचर को इतनी अच्छी टीम बनाने के लिए शुक्रिया भी अदा किया।

 इससे पहले ओला ने 2014 में ओला कैफे के साथ फूड डिलिवरी बिजनेस में कदम रखा था। लेकिन बाद में कंपनी ने इसे बंद कर दिया था। वहीं ओला की प्रतिद्वंदी कंपनी ऊबर ने हाल ही में उबरईट्स की शुरूआत की है। 

भारत में कैब सर्विस प्रोवाइड करने वाली कंपनी ओला ने जर्मनी के डिलिवरी हीरो ग्रुप (डिलिवरी हीरो) के साथ पार्टनरशिप का ऐलान करके दुनिया की लीडिंग ऑनलाइन फूड ऑर्डरिंग और डिलिवरिंग कंपनी को अपने साथ लाने की कोशिश की है। इसी के साथ ही भारत में फूडपांडा का बिजनेस भी ओला के हाथ में आ जाएगा। फूड पांडा जर्मनी की डिलिवरी हीरो ग्रुप की ही कंपनी है जिसके पास भारत के 100 शहरों में 12 हजार से अधिक रजिस्टर्ड रेस्टोरेंट हैं। ओला ने बताया है कि यह डील 200 मिलियन डॉलर में हुई है। इसी के साथ ही ओला ने प्रणय जीवराजका को फूडपांडा इंडिया का अंतरिम सीईओ भी बना दिया है।

फूडपांडा इंडिया से ओला को काफी फायदा होगा। ओला और डिलिवरी हीरो मिलकर भारत में फूड डिलिवरी सिस्टम की नई दिशा तय करेंगे। ओला ने फूडपांडा इंडिया के बिजनेस में 20 करोड़ डॉलर का इन्वेस्टमेंट करने की बात कही है। इस लिहाज से देखा जाए तो यह भारत में फूड डिलिवरी इंडस्ट्री की अब तक की सबसे बड़ी डील है। अभी तक फूडपांडा इंडिया के सीईओ सौरभ कोचर अब इसके सीईओ नहीं रहेंगे। उन्होंने नए अवसर तलाशने की बात कही है। ओला के फाउंडिंग पार्टनर प्रणय जीवराजका को अंतरिम सीईओ बनाया है। बाकी की फूडपांडा की टीम वही रहेगी।

ओला के को-फाउंडर और सीईओ भाविश अग्रवाल ने इस साझेदारी के बारे में कहा, 'फूडपांडा इंडिया में 20 करोड़ डॉलर के इन्वेस्टमेंट की हमारे कमिटमेंट से कस्टमर्स और पार्टनर्स के लिए वैल्यू क्रिएट करके ग्रोथ पर फोकस करने में मदद मिलेगी। डिलिवरी हीरो की ग्लोबल लीडरशिप और ओला की कैपेसिटी के साथ यह पार्टनरशिप कंज्यूमर्स के फेवर में होगी।' उन्होंने कहा कि वे फूडपांडा इंडिया की टीम का ओला में शामिल होने पर स्वागत करते हैं। भाविश ने फूडपांडा के पूर्व सीईओ सौरभ कोचर को इतनी अच्छी टीम बनाने के लिए शुक्रिया भी अदा किया।

फूडपांडा ने फाइनेंशियल ईयर 2016-17 में 62.16 करोड़ रुपये का बिजनेस किया था। इससे पहले ओला ने 2014 में ओला कैफे के साथ फूड डिलिवरी बिजनेस में कदम रखा था। लेकिन बाद में कंपनी ने इसे बंद कर दिया था। वहीं ओला की प्रतिद्वंदी कंपनी ऊबर ने हाल ही में उबरईट्स की शुरूआत की है। इस बिजनेस में स्विगी और जोमैटो जैसे स्टार्टअप्स पहले से ही हैं। डिलिवरी हीरो एजी के सीईओ और को-फाउंडर निकलस ऑस्टबर्क ने कहा, 'ओला के साथ पार्टनरशिप से हमें मार्केट पर पकड़ मजबूत करने में मदद मिलेगी। साथ ही हम ओला में अपनी स्टेक को काफी वैल्युएबल एसेट मानते हैं, वहीं ओला का फूडपांडा इंडिया में इन्वेस्टमेंट का कमिटमेंट साफ है और भारतीय बाजार के लिए यह अच्छे संकेत है।'

यह भी पढ़ें: 21 साल की उम्र में इन दो युवाओं ने टीशर्ट बेचकर बनाए 20 करोड़ रुपये

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...