साफ्टबैंक का भारत में निवेश : 10 अरब डालर को कर सकता है पार

0


भारत में बहुत से प्रौद्योगिकी निवेश करने वाली जापानी दूरसंचार और इंटरनेट क्षेत्र की प्रमुख कंपनी साफ्टबैंक ने कहा कि देश में उसका निवेश 5-10 साल में 10 अरब डालर से अधिक हो सकता है। साफ्टबैंक के मुख्य कार्यकारी मासायोशी सोन ने यहां पीटीआई से कहा कि वह भारत में पहली बार एक सौर परियोजना में 35 करोड़ डालर का निवेश करेगी। साफ्टबैंक के पास जापान की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी का स्वामित्व है और अमेरिकी कंपनी स्प्रिंट कार्प में नियंत्रक हिस्सेदारी है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमने दो अरब डालर का निवेश कर दिया है और हमारी रुचि और अधिक निवेश में है। भारत में भविष्य बहुत अच्छा है। हमारी रचि इंटरनेट कंपनियों के साथ सौर उर्जा कंपनियों में भी निवेश की है। हमारी बड़ी प्रतिबद्धताएं हैं।’’ सोन ने कहा कि साफ्टबैंक भविष्य में निवेश की रफ्तार बढ़ाने पर विचार कर रही है। सोन ने कहा, ‘‘हम सौर उर्जा में भी पहला कदम बढ़ाने जा रहे हैं। हम भारत में पहली सौर परियोजना में 35 करोड़ डॉलर का निवेश कर रहे हैं। हम विस्तार करेंगे। अगले पांच से 10 सालों में हम 10 अरब डॉलर का निवेश कर सकते हैं।’’

पिछले साल जून में सॉफ्टबैंक ने भारती एंटरप्राइजेज और ताईवान की फॉक्सकॉन टेक्नॉलोजी ग्रुप के साथ एक संयुक्त उपक्रम बनाने की घोषणा की थी जो 20 गीगावाट की सौर उर्जा का उत्पादन करेगा। इस परियोजना में तीनों सहयोगी मिलकर करीब 20 अरब डॉलर का निवेश करेंगे। सोन ने कहा कि विद्युत उत्पादन का लक्ष्य प्राप्त करना बिजली की खरीद करने वाले राज्यों के साथ होने वाले समझौतों पर निर्भर करेगा और ‘हम इसका समर्थन करेंगे।’

सॉफ्टबैंक ने पिछले दो सालों में ऑनलाइन मार्केटप्लेस स्नैपडील में 62.7 करोड़ डॉलर और ऑनलाइन टैक्सी सेवा देने वाली एप ओला कैब्स में 21 करोड़ डॉलर का निवेश किया है। इसके अलावा इसने मोबाइल विज्ञापन क्षेत्र में काम करने वाली एक भारतीय कंपनी इनमोबी में 20 करोड़ डॉलर में 35 प्रतिशत हिस्सेदारी ली है।

सॉफ्टबैंक के भारती समूह के साथ संयुक्त उपक्रम भारती सॉफ्टबैंक ने मोबाइल एप हाईक मेसैंजर में निवेश किया हुआ है और इसके अलावा रीयल स्टेट की ऑनलाइन खरीद बिक्री करने वाली साईट हाउसिंग डॉट कॉम, होटल बुकिंग एप ओयो रूम्स और ग्रॉफर्स में भी निवेश किया हुआ है।