बंद फैलोपियन ट्यूब बाधक नहीं है मां बनने में

कैथराइजेशनक नाम शल्य रहित प्रक्रिय से बंद फैलोपियन ट्यूब को खोला जा सकता है, जिसे एक इंटरवेशनल रेडियोलॉजिस्ट ही कर सकता है।

0

फैलोपियन ट्यूब की मदद से औरत की ओवरी से अंडे गर्भाशय तक पहुंचते हैं। यदि फैलोपियन ट्यूब में स्पर्म और अंडों का मिलन होता है, तो अंडा फर्टिलाइज होता है और उसके बाद वही अंडा गर्भाशय तक पहुंचता है, जिसकी वजह से औरत गर्भवती होती है।

फैलोपियन ट्यूब के बंद होने के कई कारण होते हैं, जैसे संक्रमण, टीबी, बार-बार गर्भपात होना, गर्भधारण को रोकने के लिए कई विकल्पों का इस्तेमाल करना आदि। हिस्टरोसेल्वजोग्राफी एचएसजी से गर्भाशय और फैलोपियन ट्यूब के अंदर की खामियों का पता लगाया जा सकता है।

सुहानी बहुत दिनों से काफी परेशान थी, सिर्फ इसलिए क्योंकि उसकी डॉक्टर ने उसे ये बताया था कि उसकी फैलोपियन ट्यूब बंद है। कई औरतें अपनी बंद फैलोपियन ट्यूब के कारण माँ नहीं बन पाती हैं, लेकिन ये अब बीते दिनों की बातें हो गईं। इस समस्या का समाधान अब निकाल लिया गया है। इसलिए सुहानी को भी परेशान होने की ज़रूरत नहीं है, कैसे आईये जानते हैं-

बहुत समय पहले तक शल्य रहित प्रक्रिया से फैलोपियन ट्यूब को खोलना सिर्फ विदेशों में ही मुमकिन था, लेकिन अब ये प्रक्रिया भारत में भी लोकप्रिय होती जा रही है। कई लोग तो ये जानते भी नहीं हैं, कि फैलोपियन ट्यूब है, क्या? असल में फैलोपियन ट्यूब वह होती है, जिसकी मदद से ओवरी से अंडे गर्भाशय तक पहुंचते हैं। यदि फैलोपियन ट्यूब में स्पर्म और अंडों का मिलन होता है, तो अंडा फर्टिलाइज होता है और उसके बाद वही अंडा गर्भाशय तक पहुंचता है, जिसकी वजह से औरत गर्भवती हो जाती है।

फैलोपियन ट्यूब के बंद होने के कई कारण होते हैं, जैसे संक्रमण, टीबी, बार-बार गर्भपात होना, गर्भधारण को रोकने के लिए कई विकल्पों का इस्तेमाल करना आदि। हिस्टरोसेल्वजोग्राफी एचएसजी से गर्भाशय और फैलोपियन ट्यूब के अंदर की खामियों का पता लगाया जा सकता है। इसलिए सुहानी की तरह घबराने की बिल्कुल भी ज़रूरत नहीं है, क्योंकि कैथराइजेशन नामक शल्य रहित प्रक्रिया से बंद फैलोपियन ट्यूब को आसानी से खोला जा सकता है।

यह प्रक्रिया केवल एक कुशल इंटरवेशनल रेडियोलॉजिस्ट ही कर सकता है। सबसे अच्छी बात है, कि ये बेहद ही आसान सी प्रक्रिया है, जिसमें किसी भी तरह का कोई कट, टांका या दर्द नहीं होता। महिलाएं यह प्रक्रिया कराके तुरंत घर लौट सकती हैं। जिन महिलाओं की दोनों ओ की ट्यूब अवरुद्ध हो जाती है, उन्हें भी एक ही बार में खोला जा सकता है। इसमें मरीज़ को बेहोश करने की भी ज़रूरत नहीं होती। 


ये भी पढ़ें-

हेल्थ से जुड़े कुछ मिथ कुछ सच

बाकी की दिलचस्प और ज़रूरी जानकारियों के लिए हमसे जुड़े रहें...  

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...