सचिन काटे ने शुरू की क्लियर कार रेंटल

औरंगाबाद के सचिन काटे क्यों सम्मान के हक़दार हैं?

0

सचिन काटे क्लियर कार रेंटल के संस्थापक हैं और जब वे हमारे योरस्टोरी के ऑफिस में आये तो उनके प्रभाव से मैं बेखबर था| हाँ ..... क्लियर कार भारत में दूसरी कार रेंटल कंपनीयों की तरह है लेकिन कुछ बाते इसे दूसरों से अलग बनाती हैं|

शुरूआती दिन

सचिन काटे महाराष्ट्र के, औरंगाबाद के छोटे से शहर से हैं| जहाँ स्टार्टअप का आईडिया एलियन का काम है| (हाँ...., एक दुकान की शुरूआत भी स्टार्टअप है, लेकिन हम पारंपरिक संदर्भ में बात कर रहे हैं) सचित जहाँ रहतें थे वहाँ पर 4 ग्रेड के बाद स्कूल नहीं हैं लेकिन सचिन के माता-पिता ने उन्हें शिक्षा के लिए अपने दोस्त के पास भेजा| जहाँ पर स्कूल की सुविधा थी| सचिन ने पैसों के लिए न्यूज़पेपर का काम शुरू किया और सौभाग्य से उन्हें 11वीं में एक कंप्यूटर संस्थान में ऑफिस बॉय की जॉब मिल गयी|

कंप्यूटर से हमेशा सचिन को लगाव रहा, इसलिए परिस्थिति का फायदा उठा कर वे एक साल ही में कंप्यूटर प्रशिक्षक बन गये| 12वीं के बाद, सचिन उच्च शिक्षा के लिए औरंगाबाद आ गये और ट्रैवल एजेंसी में पार्टटाइम काम किया| सचिन कहते हैं, “इस जॉब से मैंने ट्रैवल बिज़नस के बारे में जाना| पार्टटाइम सैलरी में मैं फुलटाइम काम करने लगा क्योंकि मैं धीरे-धीरे कंप्यूटर का उपयोग शुरू करने लगा जिससे मैं अपने कंप्यूटर कौशल को बेहतर किया|” वे कंप्यूटर में बीएससी कर रहे थे और उनका झुकाम एसईओ(सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन) के काम की तरफ था| जिस ट्रैवल एजेंसी के लिए वे काम कर रहें थे उसमें यह काम आया|

आत्मविश्वास हासिल करने के बाद सचिन दूसरी जगह जाने की कोशिश की, लेकिन उनका परिवार इससे सहज नहीं था| उन्होंने वापस आने का निर्णय लिया और वेब डेवलपमेंट का काम शुरू किया| उन्होंने यात्रा और होटल सेगमेंट पर ध्यान केंद्रित किया और अभी तक अपनी टीम के साथ 600 से अधिक वेबसाइटों को बना चुके हैं| इससे InfoGird और NetMantle अस्तित्व में आयी|

बड़ा मौका

सचिन हमेशा ट्रेवल्स और हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री के साथ जुड़े हुए थे और इंडस्ट्री की जरूरतों के बारे में पता था| सचिन कहते हैं, “ टेक्नोलॉजी एयरलाइंस, होटल की बुकिंग आदि.., के लिए विकसित हो गयी थी लेकिन लास्ट माइल कनेक्टिविटी नजरअंदाज किया गया था, जो की जो की पर्यटन के क्षेत्र में सड़क यात्रा के लिए है|” और इस प्रकार जुलाई 2010 में क्लियर कार रेंटल को शुरू किया गया| यह वो समय था जब मेरु रेडियो टैक्सी सेवा और दूसरें लोग आ चुके थे|

क्लियर कार रेंटल लोकल(पूरा दिन, आधे दिन और स्थानांतरण के लिए पैकेज) और आउटस्टेशन यात्रा(राउंड ट्रिप, वन वे ड्राप और बहुशहरीय यात्रा पैकेज) प्रदान करता है| ‘सीसीआर’ भारत में 150 से अधिक शहरों के लिए कार किराए पर लेने की सेवा प्रदान करता है और लगभग 100 लोगों की टीम इसे चलाती है|

बिना फंडिंग के

हमने बहुत सी कार रेंटल कंपनीयों को फंडिंग लेते देखा है पर सचिन ने हमें आश्चर्यचकित किया| सचिन ने बिना किसी फंडिंग के 150 से भी अधिक शहर ने अपनी कंपनी को स्थापित किया| सीसीआर के पास 1000 वेंडर के साथ 14000 से अधिक कारों की इनवेंटरी है| घरेलू, विदेशी पर्यटकों और कॉरपोरेट्स के अलावा, मेकमाईट्रिप, कॉक्स एंड किंग्स और थॉमस कुक भी सीसीआर के साथ पार्टनर हैं| सचिन कहते हैं, “हमने अपना ध्यान टीयर 2/3 शहरों में केंद्रित किया है| प्रोडक्ट को खरीदने की क्षमता में इजाफा हुआ है और छोटे शहरों में भी लोग अब कैब ले रहे हैं|” उनका महानगरों में काम भी फैला हुआ है लेकिन वे विकास के लिए छोटे शहरों पर भरोसा कर रहे हैं|

औरंगाबाद से एक कंपनी का निर्माण

हमने कंपनियों को छोटे शहरों से (भुवनेश्वर के कुछ हिस्सों से धर्मशाला से या इन जैसे) बनते देखा है और यह भी एक ऐसी स्टार्टअप की सफलता की कहानी है जो औरंगाबाद से शुरू हुई| हमेशा की तरह हर किसी में अच्छा और बुरा होता है|

बुरा - कोई सहायता या एक्सपोज़र नहीं, अपरिपक्व बाजार, खराब बुनियादी ढांचा, कोई पूंजी नहीं|

अच्छा – अच्छी प्रतिभा की आवश्यकता नहीं((बशर्ते आप जानते हो कि कैसे काम कराना चाहियें)

सचिन अपने काम में विश्वास करते थे और उनके धैर्य ने उसके लिए सफलता के दरवाजे खोले| स्थानीय समाचार पत्र में उनके ब्लॉग “औरंगाबाद कॉलिंग” के बारे में लिखा है| जिसने घर से बाहर अध्ययन कर रहे और रोजगार की तलाश कर रहे बहुत से युवाओं को प्रोत्साहित किया|

औरंगाबाद का एक स्थानीय हीरो सचिन काटे अधिक लोगों तक नही पहुंच हैं और हमें उम्मीद है कि इस पोस्ट से उन्हें उनका स्थान मिलेगा|