सिंधू ने अपना पहला सुपर सीरीज प्रीमियर खिताब 'चाइना ओपन' जीता

ओलंपिक रजत पदक विजेता भारत की पीवी सिंधू ने 700000 डालर इनामी चीन ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के फाइनल में चीन की सुन यू को हराकर अपना पहला सुपर सीरीज प्रीमियर खिताब जीत लिया है।

0


अगस्त में रियो ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी सिंधू ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए सुन यू को एक घंटे और नौ मिनट में 21-11 17-21 21-11 से हराकर चाइना ओपन का प्रतिष्ठित खिताब अपने नाम कर लिया है।दुनिया की 11वें नंबर की खिलाड़ी पी वी सिंधू की सुन यू के खिलाफ छह मैचों में यह तीसरी जीत है। साइना नेहवाल ने 2014 में चीन ओपन का खिताब जीता था जबकि पिछले साल वह उप विजेता रही थीं।

सिंधू ने मुकाबले की शानदार शुरूआत करते हुए पहले गेम में 11-5 की बढ़त बनाई। भारतीय खिलाड़ी ने अपनी तेजी की बदौलत इस बढ़त को 20-8 तक पहुंचाकर 12 गेम प्वाइंट हासिल किए। सुन यू ने तीन गेम प्वाइंट बचाए लेकिन सिंधू को पहला गेम जीतने से नहीं रोक सकी।दूसरे गेम में भी सिंधू ने 6-3 की बढ़त बनाई जिसे उन्होंने 11-7 और फिर 14-10 तक पहुंचाया। सुन यू ने हालांकि इसके बाद जोरदार वापसी की और कुछ दमदार स्मैश की बदौलत 14-14 से स्कोर बराबर कर दिया। चीन की खिलाड़ी ने तेज स्मैश और फिर शानदार र्टिन की बदौलत 18-16 की बढ़त बनाई। सिंधू ने इसके बाद वीडियो रैफरल गंवाया जिससे सुन यू 19-16 से आगे हो गई। सुन ने 20-16 के स्कोर पर नेट पर शाट खेला लेकिन सिंधू के नेट पर शाट मारने पर दूसरा गेम जीतकर स्कोर 1-1 कर दिया।

तीसरे और निर्णायक गेम में शुरूआत में कड़ी टक्कर देखने को मिली। सिंधू और सुन यू 6-6 के स्कोर पर बराबरी पर थी। सिंधू ने इसके बाद कुछ दमदार रिटर्न की बदौलत 10-6 की बढ़त बनाई। सुन यू ने सिंधू की गलतियों का फायदा उठाकर स्कोर 8-10 किया लेकिन ब्रेक के समय भारतीय खिलाड़ी 11-8 से आगे थी। सुन यू ने कुछ गलतियां की जिसका फायदा उठाकर सिंधू ने स्कोर 19-11 कर दिया। सिंधू ने उस समय मैच प्वाइंट हासिल जब सुन यू ने रिटर्न को लंबा समझकर छोड़ दिया लेकिन यह बैक लाइन को छू गया। सिंधू ने इसके बाद अगला अंक जीतकर गेम, मैच और खिताब अपने नाम किया। साइना नेहवाल ने 2014 में चीन ओपन का खिताब जीता था, जबकि पिछले साल उप विजेता रही थी। सिंधू पिछले साल डेनमार्क ओपन में पहली बार सुपर सीरीज टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची थी लेकिन वहां उन्हें चीन की ली शुएरूई के खिलाफ शिकस्त का सामना करना पड़ा था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैडमिंटन खिलाड़ी पी वी सिंधू को पहला चाइना ओपन सुपर सीरिज खिताब जीतने पर बधाई दी ।

मोदी ने कहा, पी वी सिंधू को पहला सुपर सीरिज खिताब जीतने पर बधाई । चाइना ओपन में आपने अच्छा प्रदर्शन किया ।’ शीर्ष शटलर पीवी सिंधू को चाइना ओपन में पहला सुपर सीरीज खिताब जीतने के लिये 47वें भारत के अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) के उदघाटन समारोह के दौरान खड़े होकर अभिनंदन मिला। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू डाक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी स्टेडियम में आईएफएफआई के उदघाटन के लिये आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम के उदघाटन के लिये मंच पर आये। उन्होंने कहा, ‘हमारे पास एक अच्छी खबर है। पीवी सिंधू ने पहला चाइना कप सुपर सीरीज खिताब जीत लिया। हमें इस सम्मान के लिये उनका खड़े होकर अभिवादन करना चाहिए जिससे देश गौरवान्वित हुआ। ’’

पहला सुपर सीरिज प्रीमियर खिताब जीतकर उत्साहित ओलंपिक रजत पदक विजेता पी वी सिंधू ने कहा कि लंबे समय का उनका सपना आखिरकार सच हो गया और इतना कहने के बाद वह इतनी भावुक हो गईं कि कुछ बोल ही नहीं सकी।

सिंधू ने कहा ,‘ सुपर सीरिज जीतना मेरा बहुत पुराना सपना था । ओलंपिक के बाद सभी मुझसे पूछ रहे थे कि अब क्या । मेरे लिये सुपर सीरिज खिताब जीतना अहम था । ओलंपिक के बाद जिंदगी बहुत बदल गई है । लोगों को लगा कि मुझे वापसी में बहुत समय लगेगा लेकिन मैने काफी मेहनत की थी। यह मेरा पहला सुपर सीरीज़ खिताब है और मैं बहुत खुश हूं । मेरे पास अभिव्यक्त करने के लिये शब्द नहीं है । आखिरी बार मैंने डेनमार्क फाइनल खेला था ।’ 

टूर्नामेंट और फाइनल के बारे में सिंधू ने कहा ,‘मैने अच्छा खेला। मेरे लिये यह शानदार दिन था। मुझे लगा कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दे सकती हूं क्योंकि मैने बहुत अभ्यास किया था । आत्मविश्वास की कमी नहीं थी । पहला मैच आसान था। मैं डेढ साल बाद उसके खिलाफ खेल रही थी। वह भी मेरी तरह लंबी और आक्रामक है । मैं दूसरा गेम हार गई लेकिन तीसरे में अच्छी शुरूआत करके बढ़त बनाये रखी ।’

साइना नेहवाल ने 2014 में चाइना ओपन जीता था और सिंधू को उसका अनुकरण करने की खुशी है ।