योगा बना दुनिया का सबसे मुनाफेदार ब्रैन्ड

भारत में 2.5 हजार करोड़ का योग ट्रेनिंग कारोबार... 

0

योग अब सिर्फ सेहत और अध्यात्म का कपाल भांति क्रिया-कलाप ही नहीं रहा, न अनुलोम-विलोम का श्वसन-कर्मकांड, अब योगा बाजार 5.45 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच चुका है। अकेले भारत में ही इसका सिर्फ ट्रेनिंग देने का करीब 2.5 हजार करोड़ रुपये का कारोबार हो रहा है। योगा शेयर बाजार को शिर्षासन कराने लगा है। प्रशिक्षण शिविरों में सबसे ज्यादा बाबा रामदेव की चांदी कट रही है।

भारत में योगा की ट्रेनिंग का कारोबार करीब 2.5 हजार करोड़ रुपये का हो चुका है। इसमें योग शिविर, कॉरपोरेट्स कंपनियों को दी जाने वाली ट्रेनिंग और प्राइवेट ट्रेनिंग शामिल हैं। ट्रेंड योग प्रशिक्षक प्रति घटे डेढ़ हजार रुपये तक फीस ले रहे हैं। रिटेल के साथ ही ऑनलाइन मार्केट में योग से जुड़े उत्पादों की बिक्री हो रही है। 

योग या योगा अब सिर्फ स्वास्थ्य का विषय नहीं रहा। राजनीति से गलबहियां करते हुए यह एक विराट विश्व-ब्रॉन्ड का रूप ले चुका है। विश्व में योगा का बाजार 5.45 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच चुका है। अेकले यूएस में इसका 69 हजार करोड़ का कारोबार हुआ है। योग से जुड़े उत्पाद इन दिनों भारतीय बाजार में छाए हुए हैं। योग के साथ ही आयुर्वेद और खादी जैसे देसी उत्पाद का भी क्रेज बढ़ गया है। हैल्थ और फिटनेस को लेकर पूरी दुनिया में चमत्कारिक रूप से जागृति आई है। इस बीच योग क्रांति ने लोगों का सेहत को लेकर नजरिया भी बदल दिया है। वर्तमान में हर व्यक्ति अपनी सेहत के प्रति सजग होता जा रहा जिस कारण योग का क्रेज लगातार बढ़ता जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयास से 21 जून 2016 को संयुक्त राष्ट्र संघ ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया था। उसके बाद से इसका प्रचार-प्रसार दुनिया भर में बढ़ता जा रहा है। योग एक्सेसरीज का बाजार भी विस्तार ले रहा है। इसका बाजार अरबों रुपए से अधिक का हो चुका है। योग करने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। योग के लिए चटाई से लेकर जूते, सीडी, डीवीडी, बैंड, किताबों की भी मांग बढ़ी है। ई-कॉमर्स कंपनिया स्पेशल योग थीम स्टोर ले आई हैं। दुनिया में योग सीखने वाले लोगों की संख्या करीब 20 करोड़ है। इसके साथ ही योग टीचर्स की मांग सालाना 35 प्रतिशत की दर से बढ़ती जा रही है।

भारत में योगा की ट्रेनिंग का कारोबार करीब 2.5 हजार करोड़ रुपये का हो चुका है। इसमें योग शिविर, कॉरपोरेट्स कंपनियों को दी जाने वाली ट्रेनिंग और प्राइवेट ट्रेनिंग शामिल हैं। ट्रेंड योग प्रशिक्षक प्रति घटे डेढ़ हजार रुपये तक फीस ले रहे हैं। रिटेल के साथ ही ऑनलाइन मार्केट में योग से जुड़े उत्पादों की बिक्री हो रही है। अमेजॉन, फ्लिपकार्ट के अलावा प्रयोग, भू-सत्व, फॉर एवर योग, अर्बन योग जैसी नई कंपनियां योग से जुड़े उत्पाद की ऑनलाइन बिक्री कर रहे हैं। बाजार में इन दिनों आयुर्वेदिक उत्पादों की भी मांग तेजी से बढ़ी है। च्यवनप्राश, मुरब्बा, हर्बल प्रोडक्ट आदि की मांग बढ़ रही है। लोगों में आयुर्वेदिक उत्पादों का चलन लगातार बढ़ रहा है। बाजारों में रंग-बिरंगे मैट्स की अच्छी रेंज उपलब्ध है तो योग के लिए आउटफिट भी खूब बिक रहा है। तीन सौ रुपए में योग के लिए आसानी से टी-शर्ट मिल रही है। बड़े आयोजनों के लिए आयोजक टीशर्ट प्रिंट करा लेते हैं। टी-शर्ट के साथ ही बैनर, पोस्टर्स के बाजार का भी इससे विस्तार हुआ है।

योग एक शारीरिक और आध्यात्मिक प्रकिया है जिसमें शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाकर जीवन को बेहतर और स्वस्थ बनाने की कोशिश की जाती है। यह शब्द, प्रक्रिया और धारणा बौद्ध धर्म,जैन धर्म और हिंदू धर्म में ध्यान प्रक्रिया से सम्बंधित भी है। योग से अब दुनिया भर के लोग परिचित हैं। ब्रांड योगा भारत से निकलकर दुनिया भर में फैल गया है। यह अब सिर्फ भारत और हिंदुत्व तक ही सीमित नहीं रह गया है, यह एक विशाल बाज़ार बन चुका है, जहां योग चटाई बनाने वालों से लेकर योग सिखाने वालों तक की चांदी हो रही है। बाबा रामदेव से पहले तिरुमिलाई कृष्णमचारी को आधुनिक योगगुरु माना जाता है। उन्होंने विन्यास योग शैली का इस्तेमाल किया और हठ योग का पुनरुद्धार किया। उन्हें आयुर्वेद और योग दोनों की खासी जानकारी थी। तिरुमिलाई को दिल की धड़कन पर नियंत्रण की महारत हासिल थी।

शिवानंद पेशे से एक डॉक्टर थे। उन्होंने एक योगी की 18 खासियतों के बारे में लिखा था। उनके मुताबिक एक योगी मज़ाकिया स्वभाव का होना चाहिए। हठ योग, कर्म योग और मास्टर योग को मिलाकर उन्होंने त्रिमूर्ति योग का सूत्र तैयार किया। टी कृष्णमचारी के वो शुरुआती शिष्यों में से एक थे। बचपन में वो कई तरह की बीमारियों से ग्रस्त और काफी कमज़ोर थे। उन्होंने पतंजलि योग सूत्र को नए ढंग से व्याख्यायित किया। निधन से पहले 95 साल तक की उम्र में वो शीर्षासन करते थे। कृष्ण पट्टाभी जोयीस भी एक बड़े योगगुरु थे। उन्होंने अष्टांग विन्यास योग शैली विकसित की थी। उनके अनुयायियों में मडोना, स्टिंग और ग्वेनेथ पाल्ट्रो जैसे बड़े नाम शुमार थे। भारत के साथ अब तो जैसे पूरी दुनिया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने लगी है। दूसरी तरफ भारतीय शेयर बाजारों ने भी मजबूती के साथ शुरुआत होने लगी है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी बढ़त के साथ खुल जा रहा है। कल तो सेंसेक्स 103 प्वाइंट की बढ़त के साथ 35650 के ऊपर कारोबार कर रहा, जबकि निफ्टी 30 प्वाइंट की मजबूती के साथ 10802 पर ट्रेड हुआ। बाजार में ज्यादातर सेक्टर इंडेक्स में मजबूती के बावजूद दवा बनाने वाली कंपनियों के शेयरों पर दबाव देखा गया। निफ्टी पर घटने वाली कंपनियों में डॉ रेड्डी और सन फार्मा के शेयर आगे रहे। इन दोनो कंपनियों के शेयरों में 1 प्रतिशत से ज्यादा गिरावट आ गई। इनके अलावा फार्मा कंपनी लुपिन के शेयर पर भी दबाव रहा। फार्मा कंपनियों के अलावा इंफ्राटेल, पावर ग्रिड, गेल और वेदांत के शेयर पर भी दबाव रहा। बढ़ने वाली कंपनियों में सबसे आगे अडानी पोर्ट्स, आईसीआईसीआई बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, रिलायंस इंडस्ट्रीज, इंडियन ऑयल और टेक महिंद्रा के शेयर रहे। निफ्टी की कुल 50 में से 31 कंपनियों के शेयरों में तेजी रही, जबकि सेंसेक्स की 30 में से 15 कंपनियों के शेयरों में तेजी देखी गई।

योग का प्रचार-प्रसार बढ़ने से इससे जुड़ा बाजार ने तो ऐसा रूप ले लिया है कि पूरी दुनिया भौचक्की है। दुनिया भर में योग का बाजार करीब 5.45 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया है, जिसमें से अकेले अमरीका में ही 69 हजार करोड़ रुपए का योग से जुड़ी किताबों और एसेसरी का कारोबार हो रहा है। भारत में योग से जुड़ा कारोबार 12 हजार करोड़ रुपए के पार हो चुका है। देश के कॉरपोरेट सैक्टर में कार्यरत और फिटनेस के प्रति सचेत करीब 35 प्रतिशत युवा अन्य तरीके के बजाए योग को तरजीह देता है। एसोचैम सोशल डिवैलपैंमेंट फाउंडेशन द्वारा एक सर्वेक्षण में सामने आया है कि ये युवा जिम, शारीरिक प्रशिक्षण, मुक्केबाजी, पिलेट्स, जुम्बा, डांस या अन्य तरह की किसी फिटनेस प्रक्रिया में जाने की बजाय योग क्लास में जाना पसंद कर रहे हैं। दुनिया भर में योगा इंडस्ट्री का मू्ल्य 8000 करोड़ डॉलर (5.45 लाख करोड़ रुपए) है।

अकेले अमेरिका में ही यह इंडस्ट्री 3000 करोड़ डॉलर की है। दुनिया में 170 से ज्यादा राष्ट्र 21 जून को हर साल इंटरनेशनल योगा डे मना रहे हैं। 2.04 करोड़ अमरीकी योगाभ्यास करते हैं, साल 2008 में यह संख्या 1.58 करोड़ थी। साल 2015 और 2016 में भारत ने इंटरनेशनल योगा डे मनाने के लिए 34.50 करोड़ रुपए खर्च किए थे। भारत में अभी दो लाख योग इंस्ट्रक्टर हैं और पांच लाख योग इंस्ट्रक्टर्स की आवश्यकता है। तीन हजार भारतीय योग टीचर्स चीन में सेवाएं दे रहे हैं। भारतीय योग के पांच से 25 हजार रुपए तक की राशि हर महीने खर्च कर रहे हैं। बाबा रामदेव के योगा कैम्प में 1,000 से 2,000 रुपए फीस चार्ज की जा रही है। अभी राजस्थान के कोटा में जो एक लाख लोगों के साथ बाबा रामदेव के योगा की खबरें आई हैं, उसके पीछे अच्छी-खासी धनराशि जुटाने की भी सूचनाएं हैं।

यह भी पढ़ें: बचपन के दर्द ने इस खिलाड़ी को बना दिया विश्व चैंपियन

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

पत्रकार/ लेखक/ साहित्यकार/ कवि/ विचारक/ स्वतंत्र पत्रकार हैं। हिन्दी पत्रकारिता में 35 सालों से सक्रीय हैं। हिन्दी के लीडिंग न्यूज़ पेपर 'अमर उजाला', 'दैनिक जागरण' और 'आज' में 35 वर्षों तक कार्यरत रहे हैं। अब तक हिन्दी की दस किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनमें 6 मीडिया पर और 4 कविता संग्रह हैं।

Related Stories

Stories by जय प्रकाश जय