बच्चों के लिए बनवाइए नया 'आधार', नहीं होगी फिंगरप्रिंट और आंखों की डीटेल्स

0

नए आधार कार्ड को 'बाल आधार' के नाम से जाना जाएगा और यह सिर्फ 5 साल तक के बच्चों के लिए ही होगा। लेकिन 5 साल की उम्र पूरी होने के बाद बच्चे की बायोमीट्रिक डिटेल्स को अपडेट कराना होगा। किसी भी नजदीकी आधार केंद्र में मुफ्त में यह काम कराया जा सकता है।

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
बच्चे का जन्म प्रमाणपत्र और पैरेंट्स का आधार कार्ड होना जरूरी होगा। सेंटर पर ही बच्चे का फोटो खींचा जाएगा और माता-पिता के आधार कार्ड के साथ उसे लिंक कर दिया जाएगा। साथ ही पैरेंट्स के फोन नंबर को भी बाल आधार के साथ जोड़ा जाएगा। 

अब बच्चों का आधार कार्ड बड़ों से अलग होगा और इसमें बायोमीट्रिक डीटेल्स नहीं होंगी। देश में आधार कार्ड का क्रियान्वन करने वाली सरकारी एजेंसी यूनीक आइडेंटिफिकेशन ऑफ इंडिया (UIDAI) ने एक ट्वीट के जरिए यह जानकारी दी है। नए आधार कार्ड को 'बाल आधार' के नाम से जाना जाएगा और यह सिर्फ 5 साल तक के बच्चों के लिए ही होगा। लेकिन 5 साल की उम्र पूरी होने के बाद बच्चे की बायोमीट्रिक डिटेल्स को अपडेट कराना होगा। किसी भी नजदीकी आधार केंद्र में मुफ्त में यह काम कराया जा सकता है। यदि आप 7 साल तक अपने बच्चे की बायोमीट्रिक डिटेल्स को अपडेट नहीं कराते हैं तो कार्ड अमान्य हो जाएगा।

तमाम सरकारी सुविधाओं के लाभ और पहचान के महत्वपूर्ण दस्तावेज के तौर पर जरूरी हो चुके आधार को लेकर UIDAI ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। 5 साल से कम आयु के बच्चे का आधार कार्ड बनवाने के लिए माता या पिता में से किसी एक का आधार नंबर और बच्चे के जन्म का प्रमाण पत्र जरूरी होगा। 5 साल से कम आयु के बच्चे का कार्ड बनवाने के लिए बायोमीट्रिक डिटेल्स की जरूरत नहीं होगी। बाल आधार असल में बच्चों का आधार कार्ड है। इसमें आंखों की आइरिस या फिंगरप्रिंट के स्कैन नहीं होंगे।

बाल आधार कार्ड का रंग देखकर ही उसकी पहचान की जा सकेगी। इसे बनवाने के लिए आपको अपने बच्चे को लेकर नजदीकी आधार एनरोलमेंट सेंटर पर ले जाना होगा। बच्चे का जन्म प्रमाणपत्र और पैरेंट्स का आधार कार्ड होना जरूरी होगा। सेंटर पर ही बच्चे का फोटो खींचा जाएगा और माता-पिता के आधार कार्ड के साथ उसे लिंक कर दिया जाएगा। साथ ही पैरेंट्स के फोन नंबर को भी बाल आधार के साथ जोड़ा जाएगा। 

सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद 60 दिनों तक इंतजार करना होगा और बाल आधार घर आ जाएगा। 5 साल बाद बायोमीट्रिक डीटेल्स उपलब्ध करवाने होंगे। हालांकि 15 साल की आयु में दूसरी और आखिरी बार आपको बायोमीट्रिक डिटेल्स अपडेट करानी होंगी। विदेश में बच्चे की शिक्षा और स्कॉलरशिप हासिल करने के लिए बाल आधार जरूरी होगा।

यह भी पढ़ें: मुंबई के ये बिना हाथ वाले आर्टिस्ट पैर के सहारे पेंटिग बना लोगों को दे रहे प्रेरणा

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...