मलेरिया की दवा मिली

शोधकर्ताओं ने इवेरमेक्टिन नाम की एक दवा की खोज की है और उनका विश्वास है कि यह मलेरिया के उन्मूलन के प्रयास में सहायक साबित हो सकती है। मलेरिया से निपटने के लिए यह दवा लंबे समय तक इंसान के शरीर पर असर करेगी।

0

वैज्ञानिकों ने मलेरिया और कई अन्य रोगों के प्रभावी इलाज के लिए एक ऐसी दवा के कैप्सूल की खोज की है जो खाने के बाद करीब दो सप्ताह तक पेट में रहती है और इसमें से दवा धीरे धीरे निकलकर असर करती है।

फोटो साभार: Shutterstock
फोटो साभार: Shutterstock
मलेरिया जैसी बीमारियों के इलाज के लिए लगातार दवा की खुराक लेने की जरूरत होती है, लेकिन इस दवा की खोज के बाद इस तरह की समस्या से निजात मिल जाएगी। 

वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गई इस दवा से मलेरिया जैसे रोगों को खत्म करने में आ रही बाधाओं से निपटने में मदद मिलेगी।

अमेरिका के मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) और ब्रिघम एंड वुमेंस हॉस्पिटल के शोधकर्ताओं ने इवेरमेक्टिन नाम की एक दवा की खोज की है और उनका विश्वास है कि यह मलेरिया के उन्मूलन के प्रयास में सहायक साबित हो सकता है। एमआईटी के प्रोफेसर रॉबर्ट लैंगर ने कहा है, कि हालांकि यह खोज अन्य बीमारियों के इलाज में भी सहायक होगी।

इस खोज ने अल्जाइमर या मानसिक विकार से संबंधित सभी तरह की रोगों के प्रभावी इलाज का रास्ता खोल दिया है।

लैंगर की प्रयोगशाला कई वर्षों से इस तरह की दवा की खोज के लिए काम कर रही थी।