पार्टी करें आप, बैंकेट हॉल बुक करेगा UrbanRestro

UrbanRestro का 150 बैंकेट हॉल और 200 रेस्टोरेंट से करार

मुंबई,अहमदाबाद और पुणे में है कारोबार

दिसंबर, 2012 में UrbanRestro की शुरूआत

0

इंटरनेट के संसार में यूं तो कई सारी वेबसाइट रेस्टोरेंट की बुकिंग की सुविधाएं देती हैं लेकिन बात जब कोई कार्यक्रम करने की होती है तो उसके लिए जगह की तलाश हमें अक्सर खुद ही करनी पड़ती है। उस स्थिति में ज्यादातर लोग ऑनलाइन ही बैंक्वेट हॉल के फोन नंबर ढूंढ कर उस बैंकेट हॉल की उपलब्धता का पता करते हैं। बात बनने पर जगह देखते हैं और फिर जगह को लेकर मोलभाव किया जाता है।

श्रीति, संस्थापक, UrbanRestro
श्रीति, संस्थापक, UrbanRestro

UrbanRestro ने इस बात को एक मौके के तौर पर लिया और उन सारी दिक्कतों को दूर करने का दावा किया जो लोगों को बैंक्वेट हॉल बुक कराने के लिये आती हैं। UrbanRestro बैंक्वेट हॉल बुकिंग सेवाओं में माहिर माना जाता है। यही वजह है कि दूसरे प्रतियोगियों के मुकाबले वो दो कदम आगे है। UrbanRestro की स्थापना श्रीति ने की थी। जिन्होने इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में पढ़ाई की है और इस काम को शुरू करने से पहले वो टेक महेंद्रा के लिए भी काम कर चुकी हैं। अपनी नौकरी के दौरान वो विभिन्न तरह की गतिविधियों में खास रुचि लेती थीं जो कि कंपनी की ओर से आयोजित होती थी। आखिरकार उन्होने अपनी नौकरी छोड़ने का फैसला लिया। इसके बाद उन्होने एमबीए किया और एमबीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होने एचसीएल में नौकरी की। करीब ढ़ाई साल एचसीएल में रहने के बाद उन्होने इसे भी छोड़ दिया और दिसंबर, 2012 में UrbanRestro की शुरूआत कर दी।

UrbanRestro की मुंबई,अहमदाबाद और पुणे के अलावा कई शहरों में मौजूदगी है। UrbanRestro ने 150 से ज्यादा बैंक्वेट हॉल और 200 रेस्टोरेंट के साथ गठबंधन किया है। इस वेबसाइट की खासियत ही यही है कि ये ग्राहक को अलग अलग बैंक्वेट हॉल को विभिन्न मापदंडों के आधार पर तुलना करने का मौका देती है। इसमें बैंक्वेट हॉल की क्षमता, खाना, पार्किंग की सुविधा और दूसरी कई चीजों के आधार पर ग्राहक अपने लिए बेहतर विकल्प चुन सकता है।

दूसरे उद्यमियों की तरह श्रीति को भी इस काम को शुरू करने के लिए कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा। सबसे पहली दिक्कत थी हर महिने मिलने वाली तनख्वाह जो इस काम को शुरू करने के बाद नहीं मिल सकती थी इसके अलावा परिवार को नये काम के लिए समझाना भी बड़ी चुनौती थी। लेकिन श्रीती ने दोनों ही चीजों को संभाल लिया।

UrbanRestro ने जब अपने काम की शुरूआत की तो इनके साथ 13 लोगों की एक टीम थी। फिलहाल उनकी वेबसाइट में हर रोज 50 हजार लोग आते हैं और 700 दैनिक ब्लॉग के पाठक हैं। इस क्षेत्र में UrbanRestro का मुख्य मुकाबला MeraVenue और VenuePandit से है। फिलहाल कंपनी की योजना कुछ और लोगों को अपने साथ जोड़ने की है इसके अलावा उनका मानना है कि इस लंबी यात्रा के दौरान अगर कोई उपलब्धि मिले तो उसका जश्न मनाना चाहिए। साथ ही लोगों की राय लेते रहनी चाहिए जो इस क्षेत्र से तो जुड़े हों लेकिन वो आपकी टीम के सदस्य ना हों।

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...