सुनील अरोड़ा संभालेंगे अब मुख्य चुनाव आयुक्त का पद

0

आयोग ने बताया कि ‘अरोड़ा 2 दिसंबर 2018 को अपना पद ग्रहण करेंगे।’ सुनील अरोड़ा से पहले मुख्य चुनाव आयुक्त (चीफ इलेक्शन कमिश्नर) का पद ओपी रावत संभाल रहे थे।

सुनील अरोड़ा (फोटो साभार: सोशल मीडिया)
सुनील अरोड़ा (फोटो साभार: सोशल मीडिया)
सुनील अरोड़ा को 2017 में चुनाव आयोग में नियुक्त किया गया था और उसके एक साल बाद मुख्य निर्वाचन आयुक्त के पद पर नियुक्त किया गया है।

प्रसारण मंत्रालय, कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय और वित्त मंत्रालयों में अपनी सेवा देने के बाद अब सुनील अरोड़ा चुनाव आयुक्त का पद संभालने की तैयारी में हैं। चुनाव से पहले सुनील को ये महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद में सुनिल को मुख्य चुनाव आयुक्त के लिए नियुक्त किया है। जानकारी के मुताबिक सुनील अरोड़ा अगले महीने की दो तारीख से कार्यभार संभाल लेंगे। सुनील को 2017 में चुनाव आयोग में नियुक्त किया गया था और उसके एक साल बाद मुख्य निर्वाचन आयुक्त के पद पर नियुक्त किया गया है।

निर्वाचन आयोग के प्रवक्ता ने सोमवार 26 नवंबर को इस बात की पुष्टि की थी। आयोग ने बताया कि ‘अरोड़ा 2 दिसंबर 2018 को अपना पद ग्रहण करेंगे।’ सुनील अरोड़ा से पहले मुख्य चुनाव आयुक्त (चीफ इलेक्शन कमिश्नर) का पद ओपी रावत संभाल रहे थे, उल्लेखनीय है कि 1 दिसंबर को उनका कार्यकाल खत्म हो रहा है। 62 वर्षीय सुनील अरोड़ा को पिछले साल 2017 अगस्त में इलेक्शन कमिश्नर बनाया गया था।

सुनील अरोड़ा 1993 से 1998 तक राजस्थान मुख्यमंत्री के सचिव और 2005 से 2008 तक प्रधान सचिव भी रहे हैं। पंजाब के होशियारपुर से संबंध रखने वाले सुनील अरोड़ा की पढ़ाई-लिखाई भी होशियारपुर से ही हुई है। होशियारपुर के गवर्नमेंट कॉलेज से सुनील ने 1976 में एमए किया और फिर उसी कॉलेज में इंग्लिश के प्रोफेसर बन गए। सुनील 1980 बैच के राजस्थान कैडर के आईएएस अधिकारी भी रहे हैं।

सुनील अरोड़ा साल 1999-2002 के दौरान नागरिक विमानन मंत्रालय में संयुक्त सचिव के पद पर भी काम कर चुके हैं, साथ ही पांच सालों तक इंडियन एयरलाइंस में अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के पद पर रहते हुए काम किया और थोड़े समय तक इंडियन इंस्टीट्यूट अॉफ कॉरपोरेट अफेयर्स के डायरेक्टर जनरल भी रहे।

मंत्रालय के सूत्रों से इस बात की जानकारी मिली है कि अरोड़ा की नियुक्ति की औपचारिक घोषणा की अधिसूचना जल्दी ही जारी की जायेगी।

ये भी पढ़ें: अयोध्या विवाद: सियासत की वेदी और आस्था की आहुति

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...