12वीं पास शख्स ने मात्र दस हज़ार में बनाया एक टन का एसी, बिजली की खपत 10 गुना कम

0

कहते हैं ईमानदारी और सही दिशा में किया गया काम अकसर सफलता और सार्थकता की मंजिल तक ले जाता है। इसके लिए ज़रूरी है निरंतर कोशिश और सफलता के लिए जुनून। इस दौरान कई बार मिलने वाली असफलता असल में दवा का काम करती है और समझदार शख्स को मंजिल की तरफ अग्रसर करती है। ऐसी ही एक कहानी है राजस्थान के सरदारशहर के त्रिलोक कटारिया की। त्रिलोक कटारिया ने कम कीमत और कम बिजली के इस्तेमाल से चलने वाले एयरंकडीशनर बनाने का बीड़ा उठाया था। उन्होंने तीन साल तक एसी बनाने में पूरी लगन से रिसर्च की। इन तीन वर्षों में त्रिलोक ने करीब आठ से 10 लाख रुपये खर्च किए। उनके जुनून को बाद में सफलता मिली और उन्होंने 10 गुना कम बिजली खपत करने वाला एक टन एसी तैयार किया। इस एसी के निर्माण में मात्र दस हजार रुपये का खर्च आया है। ऐसे में यदि इस उत्पाद को व्यावसायिक तौर पर मार्केट में उतारने के लिए बनाया जाएगा तो विभिन्न खर्चों के साथ इसकी कीमत अधिकतम 15 हजार रुपये तक जा सकती है, जो बाजार में उपलब्ध 25 से 35 हजार रुपये के एसी से काफी कम है।

त्रिलोक ने योरस्टोरी को बताया,

लगातार बढ़ती महंगाई और बिजली की दरों में प्रत्येक वर्ष होने वाली बढ़ोतरी की वजह से आम उपभोक्ता एसी की चाहत के बाद भी उसके बिल से डरा सा रहता है। इसी डर को दूर करने और आम उपभोक्ता को एसी की हवा दिलाने के लिए मैंने इस एसी को बनाने का सपना देखा था।

त्रिलोक कई सालों से एसी ठीक करने का काम करते हैं। उन्होंने बताया कि वह जिस घर में भी एसी ठीक करने जाते, वहां सभी एक ही बात कहते थे कि एसी लगवाने के बाद बिजली का बिल बहुत अधिक आता है। बार-बार यही बातें सुनकर मैंने मन में कम बिजली खपत करने वाले एसी बनाने की ठान ली थी। उन्‍होंने बताया कि इस एसी की एक महत्वपूर्ण खासियत इसका इको फ्रैंडली होना भी है। बाजार में उपलब्ध एसी में सामान्य तौर पर आर-22 गैसों का उपयोग किया जाता है, जोकि ओजोन परत को नुकसान पहुंचाती हैं, जबकि उनके एसी में हाइड्रोकार्बन गैसों का इस्तेमाल किया है। ये गैसे पर्यावरण को हानि नहीं पहुंचाती हैं।

बिजली की खपत 10 गुना कम

एक एसी बनाने वाली कंपनी में काम करने वाले एक टेक्नीकल इंजीनियर के मुताबिक यह एसी अन्य एसी की तुलना में करीब आठ से 10 गुना कम बिजली खपत करता है। 10 एम्पीयर की बजाय यह 0.08-0.09 तक ही है। एसी में कम्प्रेशर इस तरीके से लगाए गए हैं, कि यह कम वॉल्ट में भी चालू हो जाता है। एक टन का एसी दो हजार वाट बिजली खपत करता है। यह एसी दो सौ वाट बिजली खपत करता है। इसके लिए किसी तरह के स्टेबलाइजर की भी जरूरत नहीं है। यानी बिजली की उपलब्धता में आने वाले उतार-चढ़ाव से भी ये एसी सुरिक्षत है।

12वीं पास हैं त्रिलोक

नेशनल स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग से 12वीं कक्षा पास करने के बाद त्रिलोक कटारिया ने राजस्थान में आईटीआई से एयरकंडीशनर से संबंधित पार्टटाइम डिप्लोमा कोर्स किया। इसके बाद उन्हों ने देहरादून, फरीदाबाद, दिल्ली और नोएडा में एसी बनाने वाली कई कंपनियों में काम किया। यहां रहकर एसी बनाने के तरीके इससे जुड़ी बारीकियां सीखीं। काम करने के साथ-साथ उन्होंने ऐसा एसी बनाना शुरू किया, जो बाजार में उपलब्ध उत्पादों के मुकाबले बेहतर हो।

पेटेंट कराने की प्रक्रिया शुरू

त्रिलोक ने अपनी इस खोज को पेटेंट कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि जब तक ये काम पूरा नहीं होता है तब तक इसे मार्केट में नहीं उतारा जाएगा। उनकी इस खोज को मार्केट में उतारने के लिए कई कंपनियों ने उनसे संपर्क भी किया है, लेकिन फिलहाल वह इसके लिए तैयार नहीं हैं।