पार्किंग स्पेस मुहैया कराने वाला पहला मोबाइल एप 'पार्क 24x7'

0

महानगरों और अब तो छोटे शहरों में भी वाहनों की पार्किंग की समस्या बड़ी विकट है। गलत पार्किंग को लेकर अक्सर झगड़े होते रहते हैं। हर रोज सैकड़ों गाड़ियां उठवा ली जाती हैं क्योंकि वो गलत तरीके से सड़कों पर खड़ी होती हैं। बड़े बड़े मार्केट प्लेस में गाड़ियों की वजह से ट्रैफिक हद से ज्यादा बढ़ जाता है और लोगों को वहां से निकलने में घंटों बर्बाद करना पड़ते हैं। कुछ घटनाएं ऐसी भी खबरों में आई हैं जब कॉलोनियों में गलत पार्किंग की वजह से खून खराबा तक हो गया।

साभार: हिलटाइम्स
साभार: हिलटाइम्स
'पार्क 24x7' एप पहला पार्किंग एप होने का दावा करता है। ये एप पार्किंग के लिए जगह मुहैया कराता है। ये न इस्तेमाल होने वाले पार्किंग स्पेस को चिह्नित करता है और उन्हें उपलब्ध कराता है। ये एप प्लेटफार्म पार्किंग की तलाश में ड्राइवरों को उनके साथ जोड़ता है, जिनके पास स्पेयर स्थान हैं। इसमें शॉपिंग मॉल, स्टोर या यहां तक कि निजी मार्ग या गैराज शामिल हो सकते हैं।

ऐप का दावा है कि निजी गैरेज किराए पर लेने के लिए देश में पहली पार्किंग ऐप है, जो कि अप्रवासित पार्किंग स्थल, अस्पताल, पब, विद्यालयों, समय से बचने के लिए ऐप से सार्वजनिक पार्किंग रिक्त स्थान ढूंढता है। ऐप वास्तविक समय में पार्किंग की उपलब्धता प्रदान करता है और उपयोगकर्ताओं को विशिष्ट घंटे या मासिक आधार पर प्री-बुक की अनुमति देता है। कार पंजीकरण नंबर ही बुकिंग स्थल के लिए आवश्यक टिकट के रूप में कार्य करता है। 

महानगरों और अब तो छोटे शहरों में भी वाहनों की पार्किंग की समस्या बड़ी विकट है। गलत पार्किंग को लेकर अक्सर झगड़े होते रहते हैं। हर रोज सैकड़ों गाड़ियां उठवा ली जाती हैं क्योंकि वो गलत तरीके से सड़कों पर खड़ी होती हैं। बड़े बड़े मार्केट प्लेस में गाड़ियों की वजह से ट्रैफिक हद से ज्यादा बढ़ जाता है और लोगों को वहां से निकलने में घंटों बर्बाद करना पड़ता है। कुछ घटनाएं ऐसी भी खबरों में आई हैं जब कॉलोनियों में गलत पार्किंग की वजह से खून खराबा तक हो गया। कई बार ऐसा होता है कि पार्किंग स्पेस होते भी हैं लेकिन किसी एक व्यवस्था के न होने की वजह से वो इस्तेमाल में नहीं आ पाते। जगह खाली पड़ी रहती है और सड़कों पर, बाजारों में गाड़ियों की भीड़ लगती रहती है।

'पार्क 24x7' एप पहला पार्किंग एप होने का दावा करता है। ये एप पार्किंग के लिए जगह मुहैया कराता है। ये न इस्तेमाल होने वाले पार्किंग स्पेस को चिह्नित करता है और उन्हें उपलब्ध कराता है। परेशानी मुक्त पार्किंग की सुविधा देते हुए, कोलकाता स्थित इस स्टार्टअप ने एक मंच बनाया है जिसमें चालकों को कहीं भी पार्किंग की जगह मिल सकती है। ये एप प्लेटफार्म पार्किंग की तलाश में ड्राइवरों को उनके साथ जोड़ता है, जिनके पास स्पेयर स्थान हैं। इसमें शॉपिंग मॉल, स्टोर या यहां तक कि निजी मार्ग या गैराज शामिल हो सकते हैं।

पार्किंग है बड़ी समस्या
पार्किंग है बड़ी समस्या

ऐप का दावा है कि निजी गैरेज किराए पर लेने के लिए देश में पहली पार्किंग ऐप है, जो कि अप्रवासित पार्किंग स्थल, अस्पताल, पब, विद्यालयों, समय से बचने के लिए ऐप से सार्वजनिक पार्किंग रिक्त स्थान ढूंढता है। ऐप वास्तविक समय में पार्किंग की उपलब्धता प्रदान करता है और उपयोगकर्ताओं को विशिष्ट घंटे या मासिक आधार पर प्री-बुक की अनुमति देता है। कार पंजीकरण नंबर ही बुकिंग स्थल के लिए आवश्यक टिकट के रूप में कार्य करता है। उपयोगकर्ता स्मार्टफोन के डिफ़ॉल्ट क्यूआर कोड स्कैनर का उपयोग करके पार्किंग का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह ग्राहक को मोबाइल वेबसाइट पर रीडायरेक्ट करता है जहां कार नंबर और अवधि को लगाया जाता है और मूल्य निर्धारण उस नगर के द्वारा तय दर के अनुसार उस विशेष क्षेत्र के आधार पर स्वचालित रूप से किया जाएगा।

पार्क 24x7 के संस्थापक और सीईओ स्टार्टअप अविशेक तरफदार के मुताबिक, शुल्क 20 रुपये प्रति घंटे से लेकर एक दिन के लिए 100 रुपए है। ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग, वॉलेट, डेबिट / क्रेडिट कार्ड का उपयोग कर भुगतान कर सकते हैं। कंपनी ने पहले ही मुंबई और बेंगलुरु में स्थापना कर चुकी है और स्मार्ट सिटी पहल के तहत अन्य भारतीय महानगरों के विस्तार की योजना है। तरफदार एक कंप्यूटर इंजीनियर हैं। उनकी कंपनी अब दुबई स्थित वेंचर कैपिटल फंड के जरिए 1 करोड़ डॉलर (लगभग 6.5 करोड़ रुपये) के निवेश की प्रतीक्षा कर रही है।

उन्होंने कहा, हम मालिकों को सड़क पर पार्किंग की बजाए सुरक्षित पार्किंग स्थानों पर अपनी कार पार्क करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। हम पहले से ही फीफा यू -17 विश्व कप 2017, कोलकटा में सनबर्न संगीत समारोह जैसे बड़े आयोजनों के लिए पार्किंग का प्रबंधन कर चुके हैं। हम घरेलू मैचों के दौरान अपनी पार्किंग का प्रबंधन करने के लिए विभिन्न आईएसएल (इंडियन सुपर लीग) टीमों के साथ बातचीत कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त, हम देश में आगामी मेगा इवेंट्स की पार्किंग का प्रबंधन भी कर रहे हैं जैसे गोवा में वाईज खलीफा और टाइमआउट 72 की पार्किंग। 

ये भी पढ़ें: सूखे के बावजूद महाराष्ट्र का यह किसान 1 एकड़ की जमीन से कमाता है लाखों

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...