इनवेस्ट कर्नाटक 2016 में प्रमुख निवेश और अवसर के वातावरण

0


कर्नाटक के लिए साल की शुरुआत धमाकेदार हो रही है. इनवेस्ट कर्नाटक 2016 के उद्घाटन वाले दिन यानी 3 फरवरी को राज्य ने कुछ प्रमुख निवेश और प्रोजेक्ट्स आकर्षित कर लिए हैं. वैश्विक निवेशक सम्मेलन से कर्नाटक करीब एक लाख करोड़ रुपये जुटाने की योजना बना रहा है. यह सम्मेलन तीन दिन तक चलेगा. इस सम्मेलन का नारा है ‘जहां भविष्य का निर्माण होता है’ दिया गया है.


पेश हैं कुछ निवेश घोषणाएं जो आज की गईं.

आदित्य बिड़ला ग्रुप ने टेलीकॉम, परिधान और रिटेल व्यापार में अतिरिक्त 2,000 करोड़ रुपये निवेश का एलान किया है.

अनिल धीरुभाई अंबानी ग्रुप ने एरोस्पेस बैंगलोर में धीरुभाई अंबानी सेंटर फॉर टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन स्थापित करने का एलान किया है.

अदानी ग्रुप विद्युत के क्षेत्र में 11,500 करोड़ रुपये निवेश की योजना बना रहा है.

जेएसडब्लयु ने अगले तीन से चार साल में 35,000 करोड़ रुपये कर्नाटक में निवेश की प्रतिबधता जताई है.

रॉबर्ट बॉश ने 2016 में एक हजार करोड़ रुपये निवेश की योजना बनाई है.

हुबली में इंफोसिस ने अपने चौथे डेवलेपमेंट सेंटर का एलान किया है.

विप्रो आईटी व्यापार कर्नाटक में 25,000 अतिरिक्त लोगों को रोजगार देगी.

सड़क परिवहन मंत्रालय ने राज्य में 4000 किलोमीटर नेशनल हाइवे को बनाना फैसला किया है.

मंत्रालय ने दिसंबर 2016 के पहले 60,000 करोड़ रुपये राज्य की सड़क के लिए निवेश का एलान किया है.

साल 2017 में अतिरिक्त 40,000 करोड़ निवेश का भी एलान किया गया है और साथ ही 200 करोड़ रुपये पोर्ट के विकास के लिए देने की बात कही है.



राज्य सरकार ने कर्नाटक में फार्मास्युटिकल राष्ट्रीय शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (एनआईपीईआर) खोलने का प्रस्ताव दिया है.

साथ ही सरकार ने उत्तरी कर्नाटक में 1.3 मिलियन टन वाले यूरिया उत्पादन प्लांट बनाने की योजना बनाई. साथ ही बैंगलोर में प्लास्टिक इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी के रिसर्च और अनुसंधान केंद्र खोलने की योजना बना रही है.

आविष्कार, रचनात्मक और निवेश

कर्नाटक के उद्योग मंत्री आर वी देशपांडे ने कहा कि उद्योगों से राज्य में निवेश की अपील की जा रही है क्योंकि भविष्य यहीं पर बनने वाला है



पिछले महीने निवेश कर्नाटक के संदर्भ में राज्य के मुख्यमंत्री ने कहा था कि राज्य की 2014-19 की औद्योगिक नीति का लक्ष्य सालाना 12 फीसदी विकास दर पाना है और पांच लाख करोड़ रुपये राज्य में निवेश के तौर पर आकर्षित करना हैं. अगले पांच साल में 15 लाख नौजवानों को रोजगार मुहैया कराया जाएगा. मुख्यमंत्री के मुताबिक पिछले दो साल में 450 योजनाओं को मंजूरी दी जा चुकी है जिस कारण राज्य में 1.21 लाख करोड़ रुपये का निवेश हो पाएगा और 2.44 लाख लोगों को रोजगार मिलेंगे. साथ ही कहा था कि इस दिशा में बहुत कुछ करने की जरूरत है.

कर्नाटक सरकार द्वारा बुधवार को आयोजित निवेश सम्मेलन में इनवस्ट कर्नाटक में मोदी सरकार के चार मंत्रियों अरुण जेटली, नितिन गडकरी, अनंत कुमार और वेंकैया नायडू ने राज्य की खूबियों का बखान किया. जेटली ने कहा कि राज्य देश की आर्थिक तरक्की में योगदान करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा है.

बैंगलोर के बारे में वित्त मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्यप्रद जलवायु के कारण ही विकास तेजी से हो रहा है और यहां लोग काम करने में रूचि दिखा रहे हैं. चाहे वह बड़े उद्योग लगाने की बात हो या फिर स्टार्टअप की. बैंगलोर हर मामले में आगे बढ़ रहा है.

लेखक- दीप्ति नायर

अनुवादक- एस इब्राहिम


यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...