आजादी के मौके पर दिल्ली पुलिस वालों के लिए ऑफर, पेड़ लगाओ-इनाम पाओ

0

जंगल नेस्तानाबूत किये जा रहे हैं। औद्योगिक कचरे से प्रदूषित होकर नदियां सिकुड़ रही हैं। ग्लेश्यिर पिघल रहे हैं, कहीं बाढ़ है, तो कहीं सूखा। इस हालत में अगर पर्यावरण को बचाने की सामूहिक मुहिम नहीं शुरू हुई तो हमारे अस्तित्व पर संकट आ जाएगा। 

सांकेतिक तस्वीर (फोटो साभार: गंगा ऐक्शन परिवार)
सांकेतिक तस्वीर (फोटो साभार: गंगा ऐक्शन परिवार)
पर्यावरणविदों का कहना है कि पर्यावरण संकट को दूर करने के लिए हमें पेड़ों को बचाना होगा और अधिक से अधिक संख्या में पेड़ों को भी लगाना होगा। इसी बात को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस ने एक मुहिम शुरू की है।

सभी थानों के थानेदारों से लेकर बीट कॉन्स्टेबल तक अपनी-अपनी पसंद के हिसाब से ऑफर का फायदा उठाने के लिए जुट गए हैं।

पर्यावरण संरक्षण की आज दुनियाभर में चर्चा हो रही है। लोगों और सरकार में भी पर्यावरण को लेकर फिक्र बढ़ गयी है। वजहें भी जाहिर हैं, धरती का तापमान तेजी से बदल रहा है। पेड़ काटे जा रहे हैं। जंगल नेस्तानाबूत किये जा रहे हैं। औद्योगिक कचरे से प्रदूषित होकर नदियां सिकुड़ रही हैं। ग्लेश्यिर पिघल रहे हैं, कहीं बाढ़ है, तो कहीं सूखा।

इस हालत में अगर पर्यावरण को बचाने की सामूहिक मुहिम नहीं शुरू हुई तो हमारे अस्तित्व पर संकट आ जाएगा। पर्यावरणविदों का कहना है कि पर्यावरण संकट को दूर करने के लिए हमें पेड़ों को बचाना होगा और अधिक से अधिक संख्या में पेड़ों को भी लगाना होगा। इसी बात को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस ने एक मुहिम शुरू की है।

दिल्ली के आउटर जिले के डीसीपी एमएन तिवारी ने अपने जिले के सभी थानों के लिए 15 अगस्त तक का एक बंपर ऑफर लॉन्च किया है, जिसमें '100 पेड़ लगाओ, 1000 रुपये का कैश इनाम तुरंत पाओ' जैसी योजना की शुरुआत की गई है। इस स्कीम में कुछ शर्तें भी लागू हैं, लेकिन इस शुरुआत को पर्यावरण संरक्षण के लिहाज से बढ़िया कदम माना जा रहा है। सभी थानों के थानेदारों से लेकर बीट कॉन्स्टेबल तक अपनी-अपनी पसंद के हिसाब से ऑफर का फायदा उठाने के लिए जुट गए हैं।

डीसीपी एमएन तिवारी ने बताया कि यह ऑफर शनिवार को लॉन्च किया गया है। स्वतंत्रता दिवस तक यानी तीन दिन तक चलने वाली इस स्कीम का टारगेट जो भी पुलिसकर्मी पूरा कर लेगा, उसे 1000 रुपये का इनाम और प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा। जितने भी पुलिसकर्मी पेड़ लगाएंगे, वे हर एक पेड़ के साथ सेल्फी खींचकर आउटर जिले के डीसीपी पुलिस ऑफिशियल ग्रुप में भेजनी पड़ेगी। इस सेल्फी के साथ लोकेशन भी दी जानी जरूरी है। शनिवार शाम तक अलग-अलग थानों के एसएचओ, एडिशनल एसएचओ, इंस्पेक्टर और बीट पर तैनात पुलिसकर्मी इस तरह की सेल्फी ग्रुप में अपलोड कर चुके थे। सभी टारगेट पूरा करने में लगे हैं।

उम्मीद है कि 15 अगस्त तक कुछ थानों के पुलिसकर्मी इसे पूरा कर लेंगे। लॉन्च स्कीम में पर्यावरण के अनुकूल खास किस्म के पेड़ों को ही लगाने की शर्त है। इसमें नीम, पीपल, बरगद, आम, जामुन के पेड़ शामिल हैं। इन पेड़ों को पुलिस थाना कैंपस, पुलिस कॉलोनियों के परिसर, अन्य पुलिस यूनिटों के दफ्तर वाले इलाकों में लगाने को कहा गया है। 

आम आदमी के अलावा सरकार और प्रशासन की ओर से अगर ऐसी ही पहल होती रहीं तो पर्यावरण संबंधी समस्या सुलझाने में देर नहीं लगेगी।

पढ़ें: कॉन्स्टेबल बनना चाहती थी यह क्रिकेटर, सरकार ने पांच लाख देकर बनाया DSP

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...