ये होते हैं सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाले लोग

0

सोशल विदड्रॉल एक ऐसा टर्म है जो आज कल की सोशल लाइफ वाली दुनिया में भी बढ़चढ़ कर इस्तेमाल किया जा रहा है। क्या लोगों से ज्यादा न घुल-मिल पाना एक कमी है या फिर ऐसा होना आपको ज्यादा एकाग्र बनाता है? फेसबुक, ट्विटर, इंस्टा का जमाना है। लोग जितना वक्त असल जिंदगी में लोगों के साथ बिताते हैं, उतना ही और कई बार उससे ज्यादा सोशल मीडिया पर रहते हैं।

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
सोशल मीडिया ने दुनिया को एक ग्लोबल विलेज बना दिया है। लोग अपना सुख-दुख फेसबुक पर बांट लिया करते हैं। जब उनसे मिलता जुलता हुआ गम किसी और के पोस्ट में दिखाई देता है तो एक अजीब सा सुकून मिलता है। लेकिन कभी कभी होता है कि सोशल मीडिया हमारे दैनिक जीवन में कुछ ज्यादा ही दखलंदाजी देने लगता है।

लेकिन बफेलो साइकॉल्जिस्ट विश्वविद्यालय द्वारा प्रकाशित नए शोध से पता चलता है कि सामाजिक जीवन से कट जाने के सभी प्रकार हानिकारक नहीं हैं। इस शोध में व्यक्तित्व और व्यक्तिगत मतभेदों के बारे में प्रकाशित अनुसंधान निष्कर्ष बताते हैं कि सामाजिक निकासी का एक रूप, जिसे असंगतता के रूप में संदर्भित किया गया है, वो रचनात्मकता के सकारात्मक रूप से जुड़ा हुआ है। 

सोशल विदड्रॉल एक ऐसा टर्म है जो आज कल की सोशल लाइफ वाली दुनिया में भी बढ़चढ़ कर इस्तेमाल किया जा रहा है। क्या लोगों से ज्यादा न घुल-मिल पाना एक कमी है या फिर ऐसा होना आपको ज्यादा एकाग्र बनाता है? फेसबुक, ट्विटर, इंस्टा का जमाना है। लोग जितना वक्त असल जिंदगी में लोगों के साथ बिताते हैं, उतना ही और कई बार उससे ज्यादा सोशल मीडिया पर रहते हैं। सोशल मीडिया ने दुनिया को एक ग्लोबल विलेज बना दिया है। लोग अपना सुख-दुख फेसबुक पर बांट लिया करते हैं। जब उनसे मिलता जुलता हुआ गम किसी और के पोस्ट में दिखाई देता है तो एक अजीब सा सुकून मिलता है। लेकिन कभी कभी होता है कि सोशल मीडिया हमारे दैनिक जीवन में कुछ ज्यादा ही दखलंदाजी देने लगता है।

कुछ लोग तो सोशल मीडिया को अलविदा कह देते हैं और कुछ ऐसे भी हैं जो आज तक सोशल मीडिया पर आए ही नहीं। कहने वाले कहते हैं कि उनका तो कोई सामाजिक जीवन ही नहीं। लेकिन उनका मानना होता है कि वो अकेले नहीं है, उन्हें बस खुद की कंपनी ज्यादा भाती है, बनिस्पत और लोगों की कंपनी। लेकिन हर किसी को सामाजिक झंझटों से एक सामयिक विराम की जरूरत पड़ती है, हालांकि अकेले बहुत अधिक समय व्यतीत करना अस्वास्थ्यकर हो सकता है। बढ़ते सुसाइडल केसेज इस बात के सबूत हैं कि बहुत अधिक अकेलेपन से होने वाले मनोवैज्ञानिक प्रभाव जीवनकाल को समाप्त कर सकते हैं।

लेकिन बफेलो साइकॉल्जिस्ट विश्वविद्यालय द्वारा प्रकाशित नए शोध से पता चलता है कि सामाजिक जीवन से कट जाने के सभी प्रकार हानिकारक नहीं हैं। इस शोध में व्यक्तित्व और व्यक्तिगत मतभेदों के बारे में प्रकाशित अनुसंधान निष्कर्ष बताते हैं कि सामाजिक निकासी का एक रूप, जिसे असंगतता के रूप में संदर्भित किया गया है, वो  रचनात्मकता के सकारात्मक रूप से जुड़ा हुआ है। यूबी के मनोविज्ञान विभाग के एक सहयोगी प्रोफेसर अध्ययन के मुख्य लेखक जूली बोकर के मुताबिक, ये शोध एक प्रेरणात्मक मायने में अपनी बात सामने रखता है, जोकि सकारात्मक परिणाम को शामिल करने के लिए सामाजिक वापसी का पहला अध्ययन है। बोकर के अध्ययन के परिणाम, थोरो से लेकर वाल्डन तक और थॉमस मर्टन के काम से लेकर एक क्लॉइस्टर्ड भिक्षु की वास्तविकता की याद दिलाते हैं।

बोकर के अनुसार, मनोवैज्ञानिक साहित्य में जमाने से खुद को अलग करने से जुड़ी टेंडेंसियों के बारे में कुछ भी अच्छी तरह से जांच नहीं हुई है। जब लोग सामाजिक वापसी के बारे में सोचते हैं, तो अक्सर,वे विकास के परिप्रेक्ष्य को अपनाते हैं। बचपन और किशोरावस्था के दौरान, यह विचार है कि यदि आप अपने साथियों से अपने आप को बहुत ज्यादा परे हटा रहे हैं, तो आप सामाजिक सहयोग प्राप्त करने, सामाजिक कौशल विकसित करने और अपने साथियों के साथ बातचीत करने के अन्य लाभों की तरह सकारात्मक बातचीत से वंचित हैं। हाल के वर्षों में विभिन्न कारणों के लिए युवाओं को पीछे छोड़ने के लिए मान्यता बढ़ रही है, जिससे युवा सहकर्मियों से अलग हो जाते हैं और उनसे बचने का जोखिम उठाते हैं। कुछ लोग डर या चिंता से बाहर निकलते हैं। इस प्रकार की सामाजिक वापसी शर्म से जुड़ी हुई है। दूसरों को वापस आना है क्योंकि वे सामाजिक संपर्क को नापसंद करते हैं। उन्हें सामाजिक रूप से बचने वाला माना जाता है। ये व्यक्ति अकेले समय बिताने, उनके कंप्यूटर पर पढ़ने या काम करने का आनंद लेते हैं।

बोकर का ये अध्ययन सोशल विदड्रॉल्स को एक सकारात्मक परिणाम, रचनात्मकता के साथ जोड़ने वाला पहला शोध है। हालांकि हर किसी ने दूसरों के साथ अकेले ज्यादा समय बिताया है। हम जानते हैं उन साथियों को जो अपने साथ ज्यादा समय बिताते हैं। वे असामाजिक नहीं हैं। वे बातचीत शुरू नहीं करते हैं, सामाजिक निमंत्रण को भी नहीं देते हैं, वे एकांत का आनंद लेते हैं। वे रचनात्मक सोचने और नए विचारों को विकसित करने में सक्षम हैं। जैसे स्टूडियो में एक कलाकार या अपने कार्यालय में शैक्षणिक में व्यवहार करते हैं।

ये भी पढ़ें: तो क्या वीडियो गेम खेलने वाले ज्यादा बुद्धिमान होते हैं?

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी