पान के शौकीनों ध्यान दो, गुटखा-पान खाकर वोट डालने गए तो लौटा दिए जाओगे वापस

0

बनारस में हो रहे निकाय चुनाव में निर्देश जारी कर दिए हैं कि अगर कोई व्यक्ति पान मसाला या गुटखा खाकर वोट डालने जाएगा तो उसे वोट नहीं डालने दिया जाएगा। 

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
एसएसपी को जारी लेटर में यह भी निर्देशित किया गया है कि सुरक्षा में तैनात अफसर व जवानों की यह जिम्मेदारी होगी कि गुटखा-पान का सेवन कर कोई भी मतदान केंद्र में एंट्री न कर सके।

वाकई में यह पहल सराहनीय है। क्योंकि आप किसी भी सरकारी ऑफिस में चले जाइए सीढ़ियों और दीवार के कोने आपको गुटखे और पान से रंगीन मिलेंगे। ऐसी गंदगी फैलाकर लोगों को जाने कौन मजा मिलता है। 

जब भी पान की बात चलती है तो बनारसी पान का जिक्र जरूर होता है। आखिर बात ही कुछ ऐसी है बनारसी पान की। लेकिन पान खाने वाले बनारसियों के लिए एक बुरी खबर है। हालांकि सब लोग कहेंगे कि ये अच्छी खबर है। खैर, खबर ये है कि प्रशासन ने इस बार के निकाय चुनाव में निर्देश जारी कर दिए हैं कि अगर कोई व्यक्ति पान मसाला या गुटखा खाकर वोट डालने जाएगा तो उसे वोट नहीं डालने दिया जाएगा। इतना ही नहीं वोटिंग में लगे कर्मचारी या अधिकारी भी पान-गुटखा खाते हुए देखे गए तो उन पर कार्रवाई होगी।

वाकई में यह पहल सराहनीय है। क्योंकि आप किसी भी सरकारी ऑफिस में चले जाइए सीढ़ियों और दीवार के कोने आपको गुटखे और पान से रंगीन मिलेंगे। ऐसी गंदगी फैलाकर लोगों को जाने कौन मजा मिलता है। इसीलिए बनारस जिला प्रशासन ने बार सभी मतदान केंद्रो को धूम्रपान निषेध घोषित कर दिया है। इसके तहत मुंह में पान-गुटखा खाए अगर कोई शख्स वोट डालने पहुंचता है तो बाहर तैनात सुरक्षाकर्मी या पीठासीन अधिकारी उसे वोट डालने से रोक देंगे। इसका उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सिगरेट और तंबाकू निषेध ऐक्ट में कार्रवाई तय है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि ऐसा पहली बार हो रहा है। एनबीटी की खबर के मुताबिक डीएम व जिला निर्वाचन अधिकारी योगेश्वर राम मिश्र ने मतदान केंद्रों को धूम्रपान निषेध घोषित करने के निर्देशों के अनुपालन के लिए एसएसपी समेत संबधित विभागों को लेटर जारी किया है। एसएसपी को जारी लेटर में यह भी निर्देशित किया गया है कि सुरक्षा में तैनात अफसर व जवानों की यह जिम्मेदारी होगी कि गुटखा-पान का सेवन कर कोई भी मतदान केंद्र में एंट्री न कर सके।

बनारस में 26 नवंबर को निकाय चुनावों के लिए वोटिंग होगी। स्वास्थ्य विभाग के जिला तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ को इस पर विशेष नजर रखने को कहा गया है। मतदान केंद्रों व बूथों पर तंबाकू व धूम्रपान निषेध के पोस्टर चस्पा किए जाएंगे। इसकी जिम्मेदारी स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभाग को सौंपी गई है। तंबाकू से होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी देने के लिए कुछ बूथों पर स्लोगन व चित्र भी बनाए जा रहे हैं। वाराणसी जिले के सभी मतदान केंद्र सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में होंगे। लिहाजा पान-गुटखा खाकर आने वालों पर 'तीसरी आंख' भी नजर रखेगी।

यह भी पढ़ें: देश की पहली महिला डॉक्टर रखमाबाई को गूगल ने किया याद, जानें उनके संघर्ष की दास्तान

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...