जिनके जन्म पर घरवालों ने नहीं मनाईं खुशियां, आज वो फरीदा अपने पैरों पर खड़ी हैं

औरतें कितना भी खुद को साबित कर दें लेकिन समाज का एक बड़ा हिस्सा आज भी उनकी पैदाइश पर मातम मनाता है...

0

लड़कियों ने हर क्षेत्र में अपनी कीमत भले साबित कर दी हो, लेकिन अब भी सामाजिक मानदंडों से स्वतंत्र होने के लिए स्वतंत्र होने के लिए एक कठिन काम है। मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं के लिए यह सब बहुत मुश्किल है, जिन पर पूरे परिवार की जिम्मेदारी है।

साभार: फेसबुक
साभार: फेसबुक
हालांकि, एक महिला की कहानी कई लोगों के लिए एक बड़ी प्रेरणा हो सकती हैं। फेसबुक पेज 'ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे' पर फरीदा पेटीवाला की कहानी सामने आई है।

औरतें कितना भी खुद को साबित कर दें लेकिन समाज का एक बड़ा हिस्सा आज भी उनकी पैदाइश पर मातम मनाता है। इसके बावजूद औरतें किसी हीलियम भरे गुब्बारे की तरह ऊपर उठ रही हैं, उठती ही जा रही हैं। आकाश ही उनकी सीमा है।

ये इक्कीसवीं सदी है और आज भी महिलाएं हाशिए पर खड़ी कर दी जाती हैं। ये एक लाइन पिछले सोलह-सत्रह सालों से यथावत बोली जा रही है और दुर्भाग्य तो देखिए, इतने सालों में आधी आबादी की स्थिति में कोई खास फर्क नहीं आया। आज भी लड़कियां पेट में ही मार दी जा रही हैं, पैदा हो भी रही हैं तो उनके वजूद को कुचला जा रहा है। औरतें कितना भी खुद को साबित कर दें लेकिन समाज का एक बड़ा हिस्सा आज भी उनकी पैदाइश पर मातम मनाता है। इसके बावजूद औरतें किसी हीलियम भरे गुब्बारे की तरह ऊपर उठ रही हैं, उठती ही जा रही हैं। आकाश ही उनकी सीमा है।

लड़कियों ने हर क्षेत्र में अपनी कीमत भले साबित कर दी हो, लेकिन अब भी सामाजिक मानदंडों से स्वतंत्र होने के लिए स्वतंत्र होने के लिए एक कठिन काम है। मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं के लिए यह सब बहुत मुश्किल है, जिन पर पूरे परिवार की जिम्मेदारी है। हालांकि, एक महिला की कहानी कई लोगों के लिए एक बड़ी प्रेरणा हो सकती हैं। फेसबुक पेज 'ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे' पर फरीदा पेटीवाला की कहानी सामने आई है।

फरीदा के मुताबिक, 'मैं एक बहुत ही पारंपरिक परिवार में पैदा हुई थी, जहां एक लड़के के जन्म पर तो उत्सव मनाया जाता है लेकिन एक लड़की का जन्म नीचे देखा जाता है। मेरे जन्म पर मेरी मां केवल एक ही थी जिन्होंने कहा कि मैं 'भाग्यशाली' हूं और मुझे खास महसूस कराया। मैं बहुत कम आत्मविश्वास से बड़ी हुई। जब शादी का समय आ गया, न तो मुझे न मेरे पति को ये विकल्प दिया गया कि हम आपस में पहले मिलकर शादी का फैसला करें। हमारी शादी तय होने के बाद पहली बार हमने मुलाकात की। वैसे मानो या न मानो, यह मेरे परिवार ने मेरे लिए सबसे अच्छा काम किया था।

साभार: फेसबुक
साभार: फेसबुक

मैं केवल 17 साल की थी और वह 21 साल का था, लेकिन हमें प्यार हो गया। मुझे अभी भी याद है जब उन्होंने पहली बार मेरा हाथ पकड़ था वो एहसास कितना निर्मल और शुद्ध था। मेरे ससुराल वाले उदारवादी थे और हमें अपनी पहचान बनाए रखने की इजाजत दी। एक बार मेरे ससुर जी ने कहा, 'ये पारंपरिक कपड़े पहनना बंद करो, ड्रेस और हील वाले जूते तुम पर ज्यादा फबेंगे!' मैंने कॉलेज जाना जारी रखा, लेकिन डेढ़ साल बाद, मैं गर्भवती हो गई। मुझे मेरी डिग्री कभी नहीं मिली, लेकिन मुझे कोई शिकायत नहीं है। हमने दो लड़कों की परवरिश की। सबसे अच्छा जीवन बिताया। हमने खूब सारी यात्राएं की और हमारे बच्चों को सही मूल्यों के साथ बड़ा किया।

समय तेजी से बीता, बच्चे जल्दी से बड़े हो गए और जब मेरे छोटे बेटे ने कॉलेज में प्रवेश लिया तब मुझे एहसास हुआ कि अब मैं क्या करूं। मैं अपना समय बर्बाद नहीं करना चाहती थी। क्योंकि मुझे पता था कि केवल एक ही चीज मुझे आती है, वो है बच्चों की परवरिश। मैं एक स्कूल में एक शिक्षक के रूप में पढ़ाने लगी, बिना कोई पैसा लिए। मुझे एहसास हुआ कि पढ़ाने में मैं अच्छी थी और मैं इसी में कैरियर बनाना चाहती थी। मेरे पति और सहकर्मियों का प्रोत्साहन साथ था। 38 वर्ष की आयु में मेरे पास कोई कॉलेज की डिग्री नहीं थी। मैंने एक संस्थान से संपर्क किया ताकि मुझे मेरी पढ़ाई में डिग्री मिल सके। मुझे कई बार अस्वीकार कर दिया गया क्योंकि मैंने 12 वीं कक्षा को भी पास नहीं किया था, लेकिन मैंने हार नहीं मानी। मैं उनके कार्यालय के बाहर घंटों तक बैठी रहती थी। कई असफल प्रयासों के बाद, मैंने अंत में बोर्ड को आश्वस्त कर लिया कि मुझे अतिरिक्त पाठ्यक्रम लेने और डिग्री प्राप्त करने की अनुमति दी जाए। मैं अपनी कक्षा में पहले स्थान पर आई। अंत में मुझे चाइल्ड डेवलपमेंट मे मेरा डिप्लोमा मिल गया!

साभार: फेसबुक
साभार: फेसबुक

मैं 10 साल से पढ़ा रही हूं। मेरा हर रोज का अद्भुत रहा है। अपने पति पर पूरी तरह से निर्भर होने से लेकर मेरे अपने पैसे कमाने की आजादी का आनंद लेना मजेदार सफर है। यह अजीब है, लेकिन कमाई शुरू करने के बाद, मेरे आस पास के सभी लोगों ने मुझे और अधिक सम्मान देना शुरू कर दिया है। मैं इतनी भोली और डरपोक थी लेकिन अब मेरी आवाज़ है, मैं किसी को भी मुझे नीचा दिखाने की इजाज़त नहीं देता। महिलाओं के रूप में, हम इतने सारे भूमिकाएं निभाते हैं, लेकिन मुझे लगता है कि हम सभी के लिए हमारे सभी विकल्पों का पता लगाने के लिए महत्वपूर्ण हैं। यदि आपके पास जुनून है, तो इसका पालन करना सुनिश्चित करें। मैं एक जीवित उदाहरण हूं कि इसके लिए कभी भी देर नहीं होती है। मेरे जन्म पर उत्सव नहीं मनाया गया था, लेकिन यहां मैं हर दिन अपने आप को उत्सव मना रही हूं, मुझे बहुत गर्व है!'

ये भी पढ़ें: कॉलेज में पहली बार देखा था कम्प्यूटर, आज हैं एक ग्लोबल कंपनी के सीटीओ

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी