देवरिया, छपरा के बच्चों को डिजिटली पढ़ा रहा है दिल्ली का ये स्टार्टअप

1

छोटे शहरों, कस्बों के छात्र अब अच्छे कॉलेजों में दाखिला लेने के लिए अध्ययन करने के लिए डिजिटल माध्यम अपना रहे हैं और ये सब कमाल है दिल्ली आधारित स्टार्टअप का, जिसे अवंती लर्निंग सेंटर के नाम से जाना जाता है। 2012 में IIT बॉम्बे के दो पूर्व छात्र अक्षय सक्सेना और कृष्ण रामकुमार ने बनाया था ये शिक्षण संस्थान...

साभार: ट्विटर
साभार: ट्विटर
यहां पर कक्षा 8 से 12 वीं के छात्रों को विज्ञान और गणित को पढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी और सीखने के मॉडल का उपयोग करता है। इन दोनों ने सरकारी स्कूलों में वालंटियरी पढ़ाने का काम बड़े पैमाने पर शुरू कर दिया था। सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को अच्छे कॉलेजों में शामिल होने में मदद करना इनका उद्देश्य था।

कंपनी अब डिजिटल पाठ्यक्रम के साथ छात्रों को पढ़ाने के लिए छपरा जैसे स्थानों पर प्रशिक्षित शिक्षक प्रदान करती है। यह स्कूलों को अपने छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए वार्षिक शुल्क लेता है। कंपनी ने पिरामिड के तल पर सबसे निचले स्तर पर शुरू किया, जिसे संस्थापक इसे 'रुपया अर्थव्यवस्था' कहते हैं।

छोटे शहरों, कस्बों के छात्र अब अच्छे कॉलेजों में दाखिला लेने के लिए अध्ययन करने के लिए डिजिटल माध्यम अपना रहे हैं, ये सब कमाल है दिल्ली आधारित स्टार्टअप का। जिसे अवंती लर्निंग सेंटर के नाम से जाना जाता है। 2012 में आईआईटी बॉम्बे के दो पूर्व छात्रों अक्षय सक्सेना और कृष्ण रामकुमार द्वारा स्थापित ये शिक्षण संस्थान कक्षा 8 से 12 वीं के छात्रों को विज्ञान और गणित को पढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी और सीखने के मॉडल का उपयोग करता है। इन दोनों ने सरकारी स्कूलों में वालंटियरी पढ़ाने का काम बड़े पैमाने पर शुरू कर दिया था। सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को अच्छे कॉलेजों में शामिल होने में मदद करना इनका उद्देश्य था।

कंपनी अब डिजिटल पाठ्यक्रम के साथ छात्रों को पढ़ाने के लिए छपरा जैसे स्थानों पर प्रशिक्षित शिक्षक प्रदान करती है। यह स्कूलों को अपने छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए वार्षिक शुल्क लेता है। कंपनी ने पिरामिड के तल पर सबसे निचले स्तर पर शुरू किया, जिसे संस्थापक इसे 'रुपया अर्थव्यवस्था' कहते हैं। जैसे ही अवंती ने अपने वीडियो को यूट्यूब जैसे प्लेटफार्मों पर ऑनलाइन अपलोड करना शुरू किया, कम-आय वाले बच्चों ने इसके लिए भुगतान करने की इच्छा दिखाने शुरू कर दिया।

साभार: ट्विटर
साभार: ट्विटर

सक्सेना के मुताबिक, जब आप भारत में ग्राहक को देखते हैं, तो कई तरह के लोग हैं। देश को डॉलर अर्थव्यवस्था और रुपए की अर्थव्यवस्था में विभाजित किया गया है। तो जो बच्चे डॉलर की अर्थव्यवस्था पर कब्जा कर रहे हैं मैं कहूंगा कि सिलिकॉन वैली या अमेरिकी बच्चों के समान हैं। उनके पास इंटरनेट तक पहुंच है, और बहुत सारे विकर्षण हैं। इस सामाजिक उद्यम ने माइकल एंड सुसान डेल फाउंडेशन, पियर्सन अफोर्डेबल लर्निंग फंड और आशा इंपैक्ट जैसे प्रमुख निवेशकों से 6.41 मिलियन अमरीकी डालर का इकट्ठा किया है। 

वित्त वर्ष 17-18 में कंपनी ऑनलाइन इकाई और ऑफ़लाइन केंद्रों से करीब 9 करोड़ रुपये के राजस्व को छूने की योजना बना रही है। देश में शिक्षा क्षेत्र पर प्रौद्योगिकी व्यवधान और पारंपरिक मॉडल का असर होने के बारे में सक्सेना कहते हैं कि पारंपरिक मॉडलों को अपने अधिकारों में सीमित कर दिया गया है, जबकि भारत में लगातार बढ़ती संख्या में छात्रों की पूर्ति के लिए उच्च आकांक्षाएं हैं । यह उनके लिए शिक्षा और मनोरंजन का संयोजन है। जो इस खंड में वास्तव में अच्छा काम करता है। चू चू टीवी, यूट्यूब पर वीडियो जैसे बेहतरीन माध्यमों से वो बच्चों को खेल खेल में पढ़ा रहे हैं।

देश में शिक्षा क्षेत्र में प्रौद्योगिकी की व्यवधान और पारंपरिक मॉडल पर इसका असर होने के बारे में बात करते हुए सक्सेना ने कहा कि पारंपरिक मॉडलों को अपने अधिकारों में सीमित कर दिया गया है, जो कि भारत में लगातार बढ़ती संख्या में छात्रों की पूर्ति के लिए उच्च आकांक्षाएं हैं। उनके लिए शिक्षा और मनोरंजन का संयोजन है। जो इस खंड में वास्तव में अच्छा काम करता है। चू चू चू टीवी, यूट्यूब पर वीडियो जैसे एक उत्पाद है। अवंती लर्निंग सेंटर जेईई, एम्स और सीईटी जैसे विभिन्न प्रवेश परीक्षाओं के लिए कोचिंग पाने में छात्रों की मदद करता है। आईआईटी जेईई, प्री-मेडिकल और फाउंडेशन पाठ्यक्रमों के लिए छात्रों को प्रशिक्षण देता है। कैरियर संबंधी प्रश्नों को सुलझाने में छात्रों की मदद करता है।

केपीएमजी अध्ययन के मुताबिक, वर्तमान में भारत में एडटेक बाजार 300 मिलियन अमरीकी डालर पर है और 2021 तक 1.96 बिलियन अमरीकी डालर तक बढ़ने की उम्मीद है। वर्तमान में शिक्षा प्रक्रमों अत्यधिक असुरक्षा है, बहुत तनाव है। माता-पिता किसी तरह बच्चों के लिए बेस्ट क्लास की तलाश कर रहे होते हैं जो ट्यूशन उद्योग पर आधारित है। अवंती लर्निंग सेंटर के फाउंडर कहते हैं, आपके पास एक उच्च विनियमित शिक्षा उद्योग है जो नवाचार नहीं कर रहा है। लेकिन फिर हमारे पास एक अनियमित उद्योग है, कोचिंग है, जोनवाचार कर रहे हैं। हम गुणवत्तापरक शिक्षा प्रदान करते हैं।

ये भी पढ़़ें: 26/11 में शहीद सुशील कुमार शर्मा के बेटे फैला रहे हैं प्यार और मानवता

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी