जाम में फंसे दूल्हो को मिला मेट्रो का सहारा, शादी में पहुंचा टाइम पर

मेट्रो ने दिया साथ, तो हो गई शादी...

0

रंजीत ने अपनी कार को सड़क के किनारे लगाया और मेट्रो पकड़ने के लिए भागे। लेकिन अलुवा मेट्रो स्टेशन पर भी टिकट के लिए लंबी लाइन लगी थी। 

अपनी पत्नी के साथ रंजीत
अपनी पत्नी के साथ रंजीत
टिकट लेने के बाद रंजीत भागकर मेट्रो में जाकर बैठ गए। कोचि मेट्रो ने एक वीडियो में रंजीत और उनकी पत्नी का वीडियो डालकर यह कहानी बयां की है। 

कोच्चि मेट्रो को देश में सबसे तेजी से पूरी हुई परियोजना के तौर पर समझा जाता है और यह प्रमुख परिवहन अवसंरचना परियोजना है और सका नियमित संचालन 19 जून से शुरू हुआ था।

पिछले शनिवार को कोच्चि के रहने वाले रंजीत कुमार की जिंदगी का यादगार दिन था। क्योंकि उस दिन उनकी शादी हो रही थी। लेकिन सड़क पर बेतहाशा जाम से उनकी सारी खुशियां चौपट होने वाली थीं। पलक्कड़ से कोच्चि जाने के लिए रंजीत सुबह 6 बजे ही निकल लिए। पलक्कड़ से कोच्चि की दूरी लगभग 130 किलोमीटर है उन्हें उम्मीद थी कि सुबह 11 बजे तक तो वो शादी वेन्यू पर पहुंच ही जाएंगे। लेकिन कोच्चि शहर के भीतर दाखिल होने पर उन्हें लगा कि वे आसानी से नहीं पहुंच पाएंगे, क्योंकि सड़क पर भारी जाम लगा हुआ है।

रंजीत और उनका परिवार कार से अलुवा तक पहुंच चुका था। अलुवा कोच्चि मेट्रो का आखिरी स्टेशन है। इतने पर लड़की वालों की तरफ से फोन कॉल्स भी आने लगे। उन्होंने वक्त पर पहुंचने को कहा और किसी और साधन लेने की सलाह भी दी। रंजीत ने अपनी कार को सड़क के किनारे लगाया और मेट्रो पकड़ने के लिए भागे। लेकिन अलुवा मेट्रो स्टेशन पर भी टिकट के लिए लंबी लाइन लगी थी। उन्होंने वहां पर लोगों से गुजारिश की कि आज उनकी शादी है और इसलिए उन्हें पहले टिकट लेने दें। लोगों ने भी टिकट लेने में उनकी मदद की।

टिकट लेने के बाद रंजीत भागकर मेट्रो में जाकर बैठ गए। कोचि मेट्रो ने एक वीडियो में रंजीत और उनकी पत्नी का वीडियो डालकर यह कहानी बयां की है। रंजीत ने कहा कि कोच्चि मेट्रो की वजह से वे सही वक्त पर अपनी शादी में पहुंच गए। उन्होंने मेट्रो को धन्यवाद भी कहा। उन्होंने बताया कि बस 5 मिनट में ही शादी का मुहूर्त खत्म होने वाला था। कोच्चि मेट्रो ने भी इस दंपत्ति को उपहार स्वरूप स्मार्ट कार्ड का तोहफा दिया है।

इसी साल के जून में कोच्चि मेट्रो शुरू हुई थी, इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था। 18 किलोमीटर के रूट में कुल 16 स्टेशन बनाए गए हैं। आगे आने वाले वक्त में रूट को सात किलोमीटर और लंबा किया जाएगा, इसपर काम जारी है। कोच्चि मेट्रो को देश में सबसे तेजी से पूरी हुई परियोजना के तौर पर समझा जाता है और यह प्रमुख परिवहन अवसंरचना परियोजना है और सका नियमित संचालन 19 जून से शुरू हुआ था।

यह भी पढ़ें: पढ़ाई पूरी करने के लिए ठेले पर चाय बेचने वाली आरती

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...