इस लड़के ने पुरानी मारुति 800 से बना दी बाइक, 650 किलोमीटर प्रति घंटा है स्पीड

0

ऑटो इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले रुजबे ने ऐसा कारनामा किया है जिसके बारे में सोचना भी मुश्किल है। रुजबे ने कार को मोडिफाई कर के एक बाइक में तब्दील कर दिया है। यह 650 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से चल सकती है...

अपनी बाइक के साथ रुजबे
अपनी बाइक के साथ रुजबे
 रुजबे को इसे बनाने में कुल दो साल लगे। उन्होंने बताया कि इसमें उनके लगभग 1 लाख रुपये खर्च हुए। बाइक की डिजाइनिंग से लेकर वेल्डिंग तक का सारा काम उन्होंने खुद ही किया है। 

रुजबे ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में कुछ अलग करना चाहते हैं। इसके पहले उन्होंने ऐसी ही बाइक बनाई थी जिसे लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज किया गया था। 

अक्सर कहा जाता है कि भारत के लोग काफी जुगाड़ू होते हैं। इस बात को सच साबित करने में सूरत के रुजबे गावमास्टर ने सच साबित कर दिया है। अपने जुगाड़ के बलबूते उन्होंने इंडियन बाइक वीक गोवा में बेस्ट इनोवेटिव बाइक का अवॉर्ड भी जीता है। ऑटो इंजिनियरिंग की पढ़ाई करने वाले रुजबे ने ऐसा कारनामा किया है जिसके बारे में सोचना भी मुश्किल है। उन्होंने अपने पिता के दोस्त से एक सेकेंड हैंड मारुति 800 कार सिर्फ 13,000 रुपये में खरीदी थी। उन्होंने इस कार को मोडिफाई कर के एक बाइक में तब्दील कर दिया है। इस बाइक की खासियत है कि यह 650 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से चल सकती है।

किसी भी भारतीय बाइक में इतनी क्षमता नहीं है कि वह इतनी स्पीड से चल सके। लेकिन रुजबे ने एक करिश्मा ही कर दिखाया है। इस बाइक में एक और खासियत है कि इसमें फ्रंट गीयर के साथ ही बैक गीयर भी मौजूद है। रुजबे को इसे बनाने में कुल दो साल लगे। उन्होंने बताया कि इसमें उनके लगभग 1 लाख रुपये खर्च हुए। बाइक की डिजाइनिंग से लेकर वेल्डिंग तक का सारा काम उन्होंने खुद ही किया है। रुजबे के भीतर बचपने से बाइकों के प्रति कुछ अजब सा जुनून था। इसके पहले वे ऐसे कई प्रयोग कर चुके हैं।

रुजबे ने इस बाइक को भी मोडिफआई किया था
रुजबे ने इस बाइक को भी मोडिफआई किया था

रुजबे ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में कुछ अलग करना चाहते हैं। इसके पहले उन्होंने ऐसी ही बाइक बनाई थी जिसे लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज किया गया था। इस बाइक में चैन की जगह प्रोपेलेंट शाफ्ट का यूज किया है। रुजबे का दावा है कि ऑल वे ड्राइव वाली शहर की यह पहली बाइक है। रुजबे की खुद की एक छोटी सी कंपनी है जिसका नाम है मास्टर ऑटो वर्क। उन्होंने सूरत में ही वॉक्सवैगन कंपनी के साथ ट्रेनी के तौर पर काम किया है।

भगवान महावीर कॉलेज ऑफ पॉलिटेक्निक से डिप्लोमा इन ऑटोमोबाइल इंजिनियरिंग लेने वाले रुजबे ने एक सोलर बाइक भी बनाई थी। रुजबे ने अपनी सारी तकनीकों का पेटेंट करा लिया है। उन्हें अचीवमेंट अवॉर्ड इन इनोवेशन समेत कई सारे अवॉर्ड भी मिल चुके हैं। रुजबे के पिता सरदार पटेल इंजिनियरिंग कॉलेज में टेक्निशीयन के पद पर तैनात हैं। रुजबे ने अपने पिता से ही बाइक बनाने की प्रेरणा ली है।

यह भी पढ़ें: बिहार के बेटे को मिला ओबामा से मिलने का मौका, समाज में बदलाव लाने की है चाहत

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...