हार्डवेयर कंपनी शुरू करने से पहले इसे ज़रूर पढ़ें

कोई हार्डवेयर कंपनी शुरू करने के पहले अवश्य जानने योग्य बातें

0

‘हार्डवेयर कोई नया सॉफ्टवेयर नहीं होता है’, और सचमुच का कोई मूर्त उत्पाद बनाने के लिहाज से हार्डवेयर टीम को एकजुट करने के लिए जिस प्रकार के समर्पित प्रयास की जरूरत पड़ती है वह सॉफ्टवेयर से भिन्न होती है। साथ ही, हार्डवेयर क्षेत्र में परिणाम आने में समय भी काफी लगता है जिसके कारण धैर्य, पूंजी और प्रतिभा की काफी अधिक जरूरत पड़ती है।

हार्डवेयर एक उभरता हुआ क्षेत्र है लेकिन भारत में इसका विकास अभी भी सबसे कठिन है। साथ ही, भारत में हार्डवेयर ऐक्सीलरेटर या इनक्यूबेटर काफी कम हैं। यह चीज हार्डवेयर समुदाय को फलने-फूलने से रोकती है।

भारत में सफलता की अनेक कहानियां हैं जैसे कि एमस्वाइप पेमेंट्स, डोसामेटिक डोसा मेकर और रोबोट्स अलाइव की कहानियां, लेकिन इस क्षेत्र में रोल मॉडल अभी भी बहुत कम हैं। चुनौतियां इस बात पर निर्भर करती हैं कि उत्पाद एंबेडेड हैं, मेकैनिकल हैं या इलक्ट्रॉनिक्स/ बिजली के भारी उत्पाद। मौजूद स्टार्टअप के ढेर सारे टिप्स और खुले मार्गदर्शन के बावजूद, हार्डवेयर उद्यमियों के फोरम दुर्लभ हैं। योरस्टोरी ने उद्यमियों के इस समूह को अधिक संसाधनों और नेटवर्क की उपलब्धता में सक्षम बनाने के लिहाज से हाल में हार्डवेयर स्टार्टअप के लिए समर्पित बैठक आयोजित की। कुछ प्रमुख इनसाइट के बारे में अधिक जानकारी के लिए इसे पढ़ें और आशा करें कि इस वर्ष हार्डवेयर को अच्छा सहयोग मिलेगा।

टिप्पणी :

• कुछ चार्ट में योग 100 प्रतिशत नहीं होता है क्योंकि कुछ स्टार्टअप किसी भी श्रेणी में उपयुक्त रूप से नहीं आते हैं।

• कुछ चार्टो में योग 100 प्रतिशत से अधिक हो जाता है क्योंकि वे एक से अधिक श्रेणियों के तहत आते हैं।

स्टार्टअप के चरण :

• 39 प्रतिशत स्टार्टअप को सीरीज ए या फॉलो अप फंडिंग मिली है जबकि 27 प्रतिशत स्टार्टअप स्वपोषित हैं। इनकी संख्या हार्डवेयर क्षेत्र में आश्चर्यजनक रूप से अधिक है।

• 2 प्रतिशत स्टार्टअप को महज सीड फंडिंग मिली है जबकि 39 प्रतिशत स्टार्टअप अभी विचार के चरण में ही हैं।

क्षेत्र :

• 55 प्रतिशत स्टार्टअप कंज्यूमर इलक्ट्रॉनिक्स के हैं और महज 8 प्रतिशत शिक्षा के क्षेत्र में सेवा देने वाले।

• 12 प्रतिशत स्टार्टअप स्वास्थ्य की देखरेख की जरूरतें पूरी कर रहे हैं और 16 प्रतिशत ई-कॉमर्स की।

उत्पादन :

• 43 प्रतिशत हार्डवेयर उत्पाद पूरी तरह भारत में बनते हैं जबकि 2 प्रतिशत उत्पादों की डिजाइन और निर्माण पूरी तरह विदेश में होता है।

• 10 प्रतिशत उत्पाद भारत में डिजाइन किए जाते हैं और 12 प्रतिशत उत्पाद भारत में सिर्फ एसेंबल किए जाते हैं जिनकी सारी चीजों का आयात बाहर से किया जाता है।

हार्डवेयर के लिए अनुकूल वातावरण :

• 49 प्रतिशत उद्यमी महसूस करते हैं कि भारत में स्टार्टअप के लिए वातावरण प्रबंधनीय है लेकिन यह और भी बेहतर हो सकता था। वहीं मात्र 2 प्रतिशत उद्यमी महसूस करते हैं कि यह अत्यंत अनुकूल है।

• 27 प्रतिशत उद्यमी महसूस करते हैं कि यह बहुत मुश्किल है और 4 प्रतिशत इसे बिल्कुल अनुकूल बताते हैं।

हार्डवेयर क्षेत्र में अवरोध (चुनौतियों की रैंकिंग) :

• 47 प्रतिशत उद्य़मी महसूस करते हैं कि प्रोटोटाइपिंग सुविधाओं की अधिक जरूरत है जबकि 28 प्रतिशत उद्यमी सोचते हें कि हार्डवेयर के स्टार्टअप की जानकारी वाले अधिक मेंटरों की जरूरत अधिक महत्वपूर्ण है।

• रैंकिंग के लिए कहने पर 28 प्रतिशत उद्यमी महसूस करते हैं कि हार्डवेयर कंपनियों पर आयात शुल्क बहुत अधिक है जबकि अन्य 28 महसूस करते हैं कि हार्डवेयर संबंधी दक्षतापूर्ण कौशल वाली श्रमशिक्त की कमी बड़ी समस्या है।

चुनौतियां :

• 43 प्रतिशत उद्यमी इकोसिस्टम में अधिक जानकारी और मेंटरशिप की जरूरत महसूस करते हैं और 37 प्रतिशत उद्यमी तेज और आसान प्रोटोटाइपिंग सुविधाओं की जरूरत।

• 22 प्रतिशत उद्यमी हार्डवेयर के डिजाइन और विनिर्माण में अधिक कुशल श्रमशक्ति की जरूरत महसूस करते हैं।

• 16 प्रतिशत उद्यमी पुर्जों पर अधिक आयात शुल्क संबंधी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं जबकि 2 प्रतिशत उद्यमी भारत में अधिक हार्डवेयर बेंचमार्क की जरूरत महसूस करते हैं।

आपके अनुसार, हार्डवेयर क्षेत्र में व्यवधान पैदा करने वाली और ताकत देने वाली चीजें क्या हैं? कृपया नीचे टिप्पणी करें।

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...