बाजार में मैगी फिर से छाई

एक लंबी जद्दोजहद के बाद मैगी फिर से उसी मुकाम पर पहुंच गई है, जहां पर उसे प्रतिबंधित कर दिया गया था।

0

 वैश्विक खाद्य एवं पोषण फर्म नेस्ले ने आज कहा कि उसके उत्पाद मैगी नूडल्स ने भारतीय बाजार में फिर पकड़ बनाई है। उल्लेखनीय है कि 2015 में पांच महीने के प्रतिबंध के बाद मैगी नूडल्स को लगभग एक साल पहले भारतीय बाजार में दोबारा पेश किया गया था।

मैगी नूड्ल्स कारोबार ने बाजार हिस्सेदारी वापस हासिल की है जिससे भारत में मैगी का कारोबार बढ़ा है। 

भारतीय बाजार में मैगी नूडल्स में सतत सुधार उत्साहित करने वाला है। किटकैट की अगुवाई में चाकलेट उत्पादों ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है। 

इस समय भारत में इंस्टेंट नूडल्स बाजार में नेस्ले की 57 प्रतिशत हिस्सेदारी है जबकि विवाद और प्रतिबंध से पहले यह 75 प्रतिशत थी। 

भारत में इंस्टेंट नूडल्स बाजार अनुमानित 2,000 करोड़ रूपये का है, जिसमें आईटीसी का यिप्पी, नेपाल के चौधरी समूह का वाइवाइ तथा पंतजलि नूडल्स अन्य प्रमुख उत्पाद हैं।

एफएसएसएआई ने जून 2015 में मैगी नूडल्स पर रोक लगाई थी।

पांच महीने के प्रतिबंध के बाद पिछले साल नवंबर में नेस्ले इंडिया ने मैगी फिर भारतीय बाजार में पेश की। 

इसी साल नेस्ले इंडिया ने 25 नये उत्पाद पेश किए थे।

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...