मुंबई की इस कॉन्स्टेबल ने सेफ्टी का ख्याल छोड़ ईमानदारी से निभाई अपनी ड्यूटी

बारिश के पानी में उतरकर की लोकल राहगीरों की मदद...

0

 मुंबई ऐसे ही शहरों में से एक है जहां हर साल बारिश में लोगों को मुश्किलें उठानी पड़ती हैं। इस स्थिति में पुलिस और प्रशासन के कई व्यक्ति ऐसा काम कर जाते हैं जो हमें हमेशा के लिए याद रह जाते हैं। 

मुंबई पुलिस की कॉन्स्टेबल रजनी जाबड़े ने कुछ ऐसा ही किया है। भारी बारिश से मुंबई के कुछ लोकल स्टेशनों पर ट्रेन सेवा बाधित हो गई है। इससे यात्रियों को घुटने भर पानी में चलकर रास्ता पार करना पड़ रहा है।

देश के लगभग सभी हिस्सों में मॉनसून अपनी दस्तक दे चुका है। बारिश के मौसम में कुछ शहरों का हाल बेहाल हो जाता है। मुंबई ऐसे ही शहरों में से एक है जहां हर साल बारिश में लोगों को मुश्किलें उठानी पड़ती हैं। इस स्थिति में पुलिस और प्रशासन के कई व्यक्ति ऐसा काम कर जाते हैं जो हमें हमेशा के लिए याद रह जाते हैं। मुंबई पुलिस की कॉन्स्टेबल रजनी जाबड़े ने कुछ ऐसा ही किया है। भारी बारिश से मुंबई के कुछ लोकल स्टेशनों पर ट्रेन सेवा बाधित हो गई है। इससे यात्रियों को घुटने भर पानी में चलकर रास्ता पार करना पड़ रहा है।

इतनी मुश्किल के बावजूद रजनी सुबह 8 बजे ही अपनी ड्यूटी संभाल लेती हैं। मुंबई के परेल में स्थित हिंदमाता इलाके में रजनी ने यात्रियों की मदद करती हैं। सिर्फ एक छाते के सहारे रजनी दिनभर अपनी ड्यूटी निभाती हैं और लोगों को सुरक्षित सड़क के इस पार से उस पार पहुंचाती हैं। हालांकि रजनी के साथ काम करने वाले कई पुरुष कॉन्स्टेबलों ने दूर से ही यात्रियों को सूचना देकर अपनी ड्यूटी निभाई वहीं रजनी ने पानी में उतरकर मुसाफिरों की मदद कर रही हैं।

जी न्यूज से बात करते हुए रजनी ने कहा, 'मैं वही कर रही हूं जो मेरा कर्तव्य है और मेरा कर्तव्य लोगों की मदद करना है। मैं हर रोज सुबह 8 बजे ड्यूटी पर आ जाती हूं और उसके बाद यहीं रहती हूं।' हर साल मुंबई में सैकड़ों लोग बारिश के काल में फंस जाते हैं और कई लोगों की तो मौत भी हो जाती है। बच्चों और बुजुर्गों को इस मौसम में खास मदद की जरूरत होती है। रजनी अगर चाहें तो पानी से बाहर रहकर भी अपनी ड्यूटी निभा सकती हैं, लेकिन उन्होंने पानी में जाकर लोगों की मदद करना ही चुना।

यह रजनी जैसे पुलिसकर्मियों की बदौलत ही संभव हो पाता है कि हर मुंबईवासी भारी बारिश में भी अपने घर से बाहर निकलने की हिम्मत जुटा पाता है। रजनी जाबड़े वाकई में हर एक नागरिक की तरफ से शुक्रिया की हकदार हैं।

यह भी पढ़ें: रेशम की मदद से जनजातीय महिलाओं को सशक्त बना रही है छत्तीसगढ़ सरकार

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Related Stories

Stories by yourstory हिन्दी