एयरबस फाउंडेशन ने भारत में लॉन्च किया रोबोटिक्स प्रोग्राम, युवा वैज्ञानिकों को मिलेगा विशेष फायदा

0

भारत में एयरोनॉटिकल, रोबोटिक्स इंजीरियनिंग में अपार संभावनाएं हैं। भारत इस क्षेत्र में एक उभरती हुई शक्ति है। बच्चों और युवा वैज्ञानिकों को सही दिशा में इस विषय पर ज्ञान मिले तो भारत भी अंतरिक्ष और विमानन विज्ञान में अग्रणी हो जाएगा। सरकार और इसरो लगातार छात्रों में इस विषय में रुचि जगाने का काम कर रहा है। और भी कई स्वयंसेवी संस्थाएं इस दिशा में कार्यरत हैं। इसी कड़ी में अगला नाम है एयरबस का।

साभार: एयरबस.कॉम
साभार: एयरबस.कॉम
यूरोपीय विमानन कंपनी एयरबस की फिलैंथ्रॉपी बॉडी एयरबस फाउंडेशन ने अपने साथी लिटिल इंजीनियर के साथ भारत में उच्च अंत नवाचार और प्रौद्योगिकी की खोज के लिए युवा दिमागों को प्रेरित करने के लिए रोबोटिक्स कार्यक्रम की नींव रखी है। 

फाउंडेशन ने भारत में एयरबस लिटिल इंजीनियर (एएलई) रोबोटिक्स कार्यक्रम की शुरूआत की है। इस प्रोग्राम को नाम दिया गया है, STEM। जिसमें 10 से 16 साल के छात्रों को विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित में करियर बनाने के लिए विकास और रुचि को समझने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

भारत में एयरोनॉटिकल, रोबोटिक्स इंजीरियनिंग में अपार संभावनाएं हैं। भारत इस क्षेत्र में एक उभरती हुई शक्ति है। बच्चों और युवा वैज्ञानिकों को सही दिशा में इस विषय पर ज्ञान मिले तो भारत भी अंतरिक्ष और विमानन विज्ञान में अग्रणी हो जाएगा। सरकार और इसरो लगातार छात्रों में इस विषय में रुचि जगाने का काम कर रहा है। और भी कई स्वयंसेवी संस्थाएं इस दिशा में कार्यरत हैं। इसी कड़ी में अगला नाम है एयरबस का।

यूरोपीय विमानन कंपनी एयरबस की फिलैंथ्रॉपी बॉडी एयरबस फाउंडेशन ने अपने साथी लिटिल इंजीनियर के साथ भारत में उच्च अंत नवाचार और प्रौद्योगिकी की खोज के लिए युवा दिमागों को प्रेरित करने के लिए रोबोटिक्स कार्यक्रम की नींव रखी है। फाउंडेशन ने भारत में एयरबस लिटिल इंजीनियर (एएलई) रोबोटिक्स कार्यक्रम की शुरूआत की है। इस प्रोग्राम को नाम दिया गया है, STEM। जिसमें 10 से 16 साल के छात्रों को विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित में करियर बनाने के लिए विकास और रुचि को समझने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

कार्यक्रम के एक भाग के रूप में, बेंगलुरु में क्रिस्टल हाउस लर्निंग सेंटर के 60 छात्रों के साथ एक दो दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई थी। एयरबस द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, प्रशिक्षित एयरबस स्वयंसेवकों और क्रिस्टल हाउस के शिक्षकों द्वारा निर्देशित, छात्रों को ए 380 विमानों को इकट्ठा करने की प्रक्रिया के लिए पेश किया गया था। जैसा कि भारत ने वैश्विक एयरोस्पेस निर्माण में खुद के लिए एक लक्ष्य बनाया है, एयरबस लिटिल इंजीनियर कार्यक्रम युवा भारतीयों को उच्च नवाचार और प्रौद्योगिकी की रोमांचक दुनिया का पता लगाने के लिए प्रेरित करता है।

एयरबस का मानना है कि विकासशील प्रतिभा विमानन के भविष्य के विकास के लिए महत्वपूर्ण है। एयरबस लिटिल इंजीनियर कार्यक्रम क्षेत्रीय समुदाय में योगदान करने और कम उम्र में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए जुनून पैदा करने के लिए एयरबस के प्रयासों का प्रत्यक्ष प्रतिबिंब है । 2012 में शुरू किया गया कार्यक्रम दुनियाभर में 4000 से अधिक छात्रों तक पहुंच गया है। लर्निंग सेंटर वंचित बच्चों के लिए एक मंच है, जो उनके सपनों को विकसित करने, प्राप्त करने और उन्हें महसूस करता है। एयरबस का मानना है कि विकासशील प्रतिभा विमानन के भविष्य के विकास के लिए महत्वपूर्ण है।

उन्हें संसाधनों के भीतर प्रबंधन, रसद की योजना बनाने और विमान बनाने के लिए सही कौशल की जटिलताओं से अवगत कराया गया। छात्रों को विमान मॉडल को इकट्ठा करने और इसे अपने स्वयं के एल्गोरिदम के साथ तहखाने में तब्दील करने और बाद में ले जाने के लिए प्रोग्रामिंग के साथ सौंपा गया। एयरबस में इंजीनियरिंग के कार्यकारी उपाध्यक्ष चार्ल्स चैंपियन के मुताबिक, छात्रों ने कार्यशाला में बढ़चढ़कर हिस्सा लिया और उन्हें प्रौद्योगिकी और ड्राइव नवाचार के लिए अपने जुनून विकसित करने के लिए प्रोत्साहित किया गया।

ये भी पढ़ें: आधार कार्ड की तरह ही घर का पता भी होगा डिजिटल, 6 अंकों का मिलेगा नंबर

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...